Monday, Nov 19 2018 | Time 18:42 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मनमोहन सिंह को मिला इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार
  • भोजपुर सहकारी चीनी मिल में गन्ने की पिराई शुरु
  • मध्यप्रदेश में जारी रहेगा विकास : शिवराज
  • मध्यप्रदेश में जारी रहेगा विकास : शिवराज
  • दरभंगा रेडियो स्टेशन के पूर्व निदेशक समेत 25 को सजा
  • सभी छात्रों पर एक तरह का पाठ्यक्रम न थोपा जाये : नायडू
  • बाबरी मस्जिद के मुद्दई इकबाल अंसारी की बढ़ाई सुरक्षा
  • छत्तीसगढ़ की पहली पारी 149 रनों पर ढेर
  • एचएस फुलका का पुतला जलाकर किया प्रदर्शन
  • मोदी के हरियाणा को एक्सप्रैस-वे, मैट्राे, यूनिवर्सिटी,अस्पताल, काॅलेज समेत अनेक तोहफे
  • बुल्गारियाई कोच का मान्यता पत्र रद्द
  • ट्रक की चपेट में आने से एक की मौत
  • सोनिया और पिंकी क्वार्टरफाइनल में, स्वीटी बाहर
  • प बंगाल में गंगा तटवर्ती इलाकों में बढ़ी ठंड
  • दहेज हत्या के मामले में पति को उम्रकैद
खेल Share

वाजपेयी जी पहलवानों को बहुत प्यार करते थे: सतपाल

वाजपेयी जी पहलवानों को बहुत प्यार करते थे: सतपाल

नयी दिल्ली, 16 अगस्त (वार्ता) कुश्ती गुरु महाबली सतपाल ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को अपनी विनम्र श्रद्धांजलि देते हुए कहा है कि वह पहलवानों को बहुत प्यार करते थे और उनके निधन से ऐसा लग रहा है कि हमने अपने गुरु जी को खो दिया है।

सतपाल ने कहा, “वाजपेयी जी गुरु हनुमान अखाड़े में बहुत आया करते थे और पहलवानों से मिलते थे। मैं जब 1975 में भारत केसरी और 1976 में रुस्तमे हिन्द बना था तो उन्होंने गुरु हनुमान अखाड़े में मुझे आशीर्वाद दिया था। वह मुझे बहुत पसंद करते थे। उनके गुरु हनुमान के साथ बहुत अच्छे सम्बन्ध थे और गुरु हनुमान कहा करते थे कि वह और वाजपेयी लंगोटिया यार हैं।”

महाबली सतपाल ने कहा, “उनके निधन से ऐसा लग रहा है कि हमने अपने गुरु जी को खो दिया है। वह एक महान नेता थे और पहलवानों को बहुत प्यार करते थे और उन्हें हमेशा आशीर्वाद दिया करते थे।”

उन्होंने कहा, “वह जब भी अखाड़े में आते थे तो खाना खाये बिना नहीं जाते थे। वह खाने के बहुत शौक़ीन थे। वह हमेशा हमसे कहते थे कि देश से ऊपर कुछ नहीं है और ताकत का हमेशा सही इस्तेमाल होना चाहिए।”

द्रोणाचार्य अवार्डी ने उस समय को याद करते हुए कहा, “मुझे याद है कि उन्होंने 1976 में मुझे बादाम की बोरी दी थी। प्रधानमंत्री बनने के बाद उन्होंने मुझे पीएम हाउस बुलाया था। मैं आखिरी बार उनसे 2008 में मिला था जब हम पहलवान उनके पास फोटो खिंचवाने के लिए गए थे।”

 

More News

छत्तीसगढ़ की पहली पारी 149 रनों पर ढेर

19 Nov 2018 | 6:20 PM

 Sharesee more..

बुल्गारियाई कोच का मान्यता पत्र रद्द

19 Nov 2018 | 6:14 PM

 Sharesee more..

19 Nov 2018 | 6:07 PM

 Sharesee more..

19 Nov 2018 | 6:04 PM

 Sharesee more..
image