Wednesday, Apr 24 2019 | Time 16:13 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • फिल्म पुरस्कारों की घोषणा अब लोकसभा चुनाव के बाद
  • दहेज हत्या के मामले में पति को दस साल के कठोर कारावास की सजा
  • टीम वर्क से प्लेऑफ में पहुंचने के करीब हैं: अमित मिश्रा
  • कांगेस शासन में आतंकवादियों का बढ़ता है आत्मविश्वास : मोदी
  • कांग्रेस विधायक जे एन गणेश की जमानत मंजूर
  • अपने हलकों में पार्टी के लाेस प्रत्याशियों की जीत के लिये मंत्री, विधायक होंगे जिम्मेदार: अमरिंदर
  • भाजपा दलित विरोधी, इसलिए थामा कांग्रेस का हाथ: उदित राज
  • ताईवान व्यापार मेला 16 मई से दिल्ली में
  • कश्मीर के बाशिंदे ही कर रहे थे एलओसी के जरिये व्यापार का दुरूपयोग
  • ममता के जीवन पर बनी फिल्म का ट्रेलर हटाने का आदेश
  • वाटसन हमारे मैच विजेता खिलाड़ी हैं: धोनी
  • वाटसन हमारे मैच विजेता खिलाड़ी हैं: धोनी
  • यासीन मलिक की हिरासत अवधि 24 मई तक बढ़ी
  • अकाल तख्त का इस्तेमाल निजी फायदे के लिए करने वाले सिक्ख नहीं : कैप्टन
  • श्रीलंका में मृतक संख्या 359 हुई, सुरक्षा मजबूत होगी
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे कमाल अमरोही

बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे कमाल अमरोही

...पुण्यतिथि 11 फरवरी के अवसर पर ..
मुंबई 10 फरवरी (वार्ता) बॉलीवुड में कमाल अमरोही का नाम एक ऐसी शख्सियत के रूप में याद किया जाता है जिन्होंने बेहतरीन गीतकार, पटकथा और संवाद लेखक तथा निर्माता एवं निर्देशक के रूप में भारतीय सिनेमा पर अपनी अमिट छाप छोड़ी।

उत्तर प्रदेश के अमरोहा में 17 जनवरी 1918 को जमींदार परिवार में जन्मे कमाल अमरोही मूल नाम सैयद आमिर हैदर कमाल शुरूआती दौर में एक उर्दू समाचार पत्र में नियमित रूप से स्तम्भ लिखा करते थे।
अखबार में कुछ समय के बाद उनका मन नहीं लगा और वह तत्कालीन कलकत्ता चले गए और फिर वहां से मुम्बई आ गए ।

मुंबई पहुंचने पर कमाल अमरोही को मिनर्वा मूवीटोन की निर्मित कुछ फिल्मों में संवाद लेखन का काम मिला।
इनमें जेलर, पुकार, भरोसा जैसी फिल्में शामिल है लेकिन इन सबके बावजूद कमाल अमरोही को वह पहचान नहीं मिल पायी जिसके लिये वह मुंबई आये थे।
अपना वजूद तलाशते कमाल अमरोही को अपनी पहचान बनाने के लिये लगभग 10 वर्ष तक फिल्म इंडस्ट्री मे संघर्ष करना पड़ा।
उनका सितारा वर्ष 1949 में प्रदर्शित अशोक कुमार निर्मित क्लासिक फिल्म ..महल.. से चमका।
अशोक कुमार ने उन्हें इस फिल्म के निर्देशन का जिम्मा दिया।

बेहतरीन गीत-संगीत और अभिनय से सजी महल की कामयाबी ने न सिर्फ पार्श्वगायिका लता मंगेशकर के सिने करियर को सही दिशा दी बल्कि फिल्म की नायिका मधुबाला को .स्टार. के रूप में स्थापित कर दिया।
आज भी इस फिल्म के सदाबहार गीत दर्शकों और श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर देते हैं।
वर्ष 1952 में कमाल अमरोही ने फिल्म अभिनेत्री मीना कुमारी से शादी कर ली, उस समय कमाल अमरोही और मीना कुमारी की उम्र में काफी अंतर था।
कमाल अमरोही 34 वर्ष के थे जबकि मीना कुमारी महज 19 वर्ष की थी ।

महल की कामयाबी के बाद कमाल अमरोही ने कमाल पिक्चर्स और कमालिस्तान स्टूडियो की स्थापना की।
कमाल पिक्चर्स के बैनर तले उन्होंने अभिनेत्री पत्नी मीना कुमारी को लेकर.दायरा. फिल्म का निर्माण किया लेकिन यह फिल्म टिकट खिड़की पर कोई खास कमाल नही दिखा सकी।
इसी दौरान कमाल अमरोही को के.आसिफ की वर्ष 1960 में प्रदर्शित फिल्म मुगले आजम में संवाद लिखने का अवसर मिला।
इस फिल्म के लिए वजाहत मिर्जा संवाद लिख रहे थे लेकिन के.आसिफ को लगा कि एक ऐसे संवाद लेखक की जरूरत है जिसके लिखे संवाद दर्शकों के दिमाग से बरसों-बरस नहीं निकल पाएं और इसके लिए उन्होंने कमाल अमरोही को अपने चार संवाद लेखकों में शामिल कर लिया।
इस फिल्म के लिए कमाल अमरोही को सर्वश्रेष्ठ संवाद लेखक का फिल्म फेयर पुरस्कार दिया गया ।

वर्ष 1964 में कमाल अमरोही और मीना कुमारी की विवाहित जिंदगी में दरार आ गयी और दोनों अलग-अलग रहने लगे।
इस बीच कमाल अमरोही ने अपनी महत्वाकांक्षी फिल्म पाकीजा के निर्माण में व्यस्त रहें।
कमाल अमरोही की फिल्म ..पाकीजा ..के निर्माण में लगभग चौदह वर्ष लग गये।
कमाल अमरोही और मीना कुमारी अलग-अलग हो गये थे फिर भी कमाल अमरोही ने फिल्म की शूटिंग जारी रखी क्योंकि उनका मानना था कि पाकीजा जैसी फिल्मों के निर्माण का मौका बार-बार नहीं मिल पाता है।
वर्ष 1972 में जब पाकीजा प्रदर्शित हुयी तो फिल्म में कमाल अमरोही के निर्देशन क्षमता और मीना कुमारी के अभिनय को देख दर्शक मुग्ध हो गये इसके साथ हीं फिल्म ..पाकीजा ..आज भी कालजयी फिल्म में शुमार की जाती है ।

वर्ष 1972 में मीना कुमारी की मौत के बाद कमाल अमरोही टूट से गये और उन्होंने फिल्म इंडस्ट्री से किनारा कर लिया ।
वर्ष 1983 में कमाल अमरोही ने खुद को स्थापित करने के उद्देश्य से एक बार फिर से फिल्म इंडस्ट्री का रूख किया और फिल्म ..रजिया सुल्तान .. का निर्देशन किया।
भव्य पैमाने पर बनी इस फिल्म में कमाल अमरोही ने एक बार फिर से अपनी निर्देशन क्षमता का लोहा मनवाया लेकिन दर्शकों को यह फिल्म पसंद नही आयी और बॉक्स ऑफिस पर बुरी तरह से नकार दी गयी ।

नब्बे के दशक में कमाल अमरोही ‘अंतिम मुगल’ नाम से एक फिल्म बनाना चाहते थे लेकिन उनका यह ख्वाब हकीकत में नहीं बदल पाया।
अपने कमाल से दर्शकों के दिलों में खास पहचान बनाने वाले महान फिल्मकार कमाल अमरोही 11 फरवरी 1993 को इस दुनिया को अलविदा कह गये।

 

दक्षिण

दक्षिण भारतीय फिल्म में खलनायक का किरदार निभायेंगे शाहरूख खान!

मुंबई 24 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड के किंग खान शाहरूख खान दक्षिण भारतीय फिल्म थालापैथी 63 में खलनायक
का किरदार निभाते नजर आ सकते हैं।

रणबीर

रणबीर के साथ लिव-इन में रहने नहीं जा रही है आलिया

मुंबई 24 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री आलिया भट्ट ने कहा है कि वह रणबीर कपूर के साथ लिव-इन में रहने नही जा रही है।

उड़नपरी

उड़नपरी का किरदार निभायेगी कैटरीना कैफ!

मुंबई 24 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड की बार्बी गर्ल कैटरीना कैफ सिल्वर स्क्रीन पर उड़नपरी पी.टी.उषा का किरदार निभाती
नजर आ सकती है।

भारत

भारत में सलमान अपने लुक को लेकर काफी सजग थे : जफर

मुंबई 24 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड निर्देशक अली अब्बास जफर का कहना है कि सलमान खान फिल्म भारत में अपने लुक को लेकर बहुत सजग थे।

करण

करण जौहर की फिल्म से डेब्यू करना चाहती है खुशी कपूर

मुंबई 24 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री श्रीदेवी और फिल्मकार बोनी कपूर की बेटी खुशी कपूर ,करण जौहर की फिल्म से डेब्यू करना चाहती है।

बॉक्स

बॉक्स ऑफिस पर फिल्म की असफलता पर स्ट्रेस नही लेती सोनाक्षी

मुंबई 23 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड की दबंग गर्ल सोनाक्षी सिन्हा का कहना है कि वह बॉक्स ऑफिस पर फिल्म की असफलता पर स्ट्रेस नही लेती है।

अभी

अभी डेब्यू नहीं कर रही है न्यासा :काजोल

मुंबई 23 अप्रैल (वार्ता) जानी मानी अभिनेत्री काजोल का कहना है कि उनकी बेटी न्यासा अभी बॉलीवुड में डेब्यू नही कर रही है।

तेरे

तेरे नाम का सीक्वल बनायेंगे सतीश कौशिक

मुंबई 23 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड के जाने माने निर्देशक सतीश कौशिक अपनी सुपरहिट फिल्म तेरे नाम का सीक्वल बनाने जा रहे हैं।

शाहरूख

शाहरूख को पसंद आया भारत का ट्रेलर

मुंबई 23 अप्रैल (वार्ता) बॉलीवुड के किंग खान शाहरूख खान को सलमान खान की आने वाली फिल्म भारत का ट्रेलर पसंद आया है।

सत्यजीत

सत्यजीत रे ने बाइसाईकिल थीफस देख किया फिल्म निर्माण का इरादा

..पुण्यतिथि 23 अप्रैल ..
मुंबई 22 अप्रैल(वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में युगपुरूष सत्यजीत रे को एक ऐसे फिल्मकार के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने अपनी निर्मित फिल्मों के जरिये भारतीय सिनेमा जगत को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विशिष्ट पहचान दिलाई।

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

..जन्मदिवस 29 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 28 अगस्त(वार्ता)किंग ऑफ पॉप माइकल जैक्सन को ऐसी शख्सियत के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने पॉप संगीत की दुनिया को पूरी तरह बदलकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनायी है।

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

नयी दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) दिल्ली में भी फिल्म उद्योग स्थापित करने के मकसद से पहले डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह एवं विपणन 2019 की कल रात यहां देश-विदेश के फिल्मी जगत के लोगों की मौजूदगी में शुरूआत हुयी।

सत्यजीत रे ने बाइसाईकिल थीफस देख किया फिल्म निर्माण का इरादा

सत्यजीत रे ने बाइसाईकिल थीफस देख किया फिल्म निर्माण का इरादा

..पुण्यतिथि 23 अप्रैल ..
मुंबई 22 अप्रैल(वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में युगपुरूष सत्यजीत रे को एक ऐसे फिल्मकार के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने अपनी निर्मित फिल्मों के जरिये भारतीय सिनेमा जगत को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विशिष्ट पहचान दिलाई।

भारतीय सिनेमा जगत के युगपुरूष थे बी.आर. चोपड़ा

भारतीय सिनेमा जगत के युगपुरूष थे बी.आर. चोपड़ा

..जन्मदिवस 22 अप्रैल  ..
मुम्बई 21 अप्रैल (वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत में बी.आर.चोपड़ा को एक ऐसे फिल्मकार के रूप में याद किया जायेगा जिन्होंने पारिवारिक, सामाजिक और साफ-सुथरी फिल्में बनाकर लगभग पांच दशक तक सिने प्रेमियों के दिलो-दिमाग में
अपनी खास जगह बनायी।

image