Wednesday, Feb 20 2019 | Time 18:48 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पुलवामा हमले के शहीदों को परिवारों को विधायक देंगे एक माह का वेतन, निंदा प्रस्ताव पारित
  • 12 सरकारी बैंकों को मिलेंगे 48,239 करोड़
  • कुमारस्वामी का बयान अफसोसजनक :कांग्रेस सांसद
  • फ्लाईओवरों के नाम शहीदों के नाम पर रखे जाएंः ध्यानी
  • मंत्री ने धार्मिक,पुरातात्विक,ऐतिहासिक एवं सांस्कृतिक स्थलों की मांगी जानकारी
  • गडकरी ने किया मुरादाबाद और मेरठ में करोड़ों की परियोजनाओं का शिलान्यास
  • टेलर ने फ्लेमिंग को पीछे छोड़ा
  • आरपीएफ को विशेष अभियान में 922 लावारिस बच्चे मिले
  • नामवर पंचतत्व में विलीन, साहित्य में शोक की लहर
  • श्रम कार्ड के लम्बित आवेदनों का 15 दिन में होगा निस्तारण - डहरिया
  • जोशी ने दिये शहीद के आश्रित के लिए डेढ़ लाख
  • देश को गर्त में धकेलने का प्रयास कर रहे हैं विपक्षी दल-शर्मा
  • पाकिस्तान के खिलाफ भड़काऊ बयान देकर करतारपुर कॉरीडोर को नुकसान पहुंचा रहे : खेहरा
  • 73 साल की सुनीता के लिए उम्र सिर्फ एक नंबर
  • राष्ट्रीय ग्रिड से बिजली उपलब्ध कराना हुआ आसान : राजकुमार
भारत Share

विवेकानंद की प्रेरणा से नया भारत बनाना है : मोदी

विवेकानंद की प्रेरणा से नया भारत बनाना है : मोदी

नयी दिल्ली 11 सितम्बर (वार्ता) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वामी विवेकानंद की प्रेरणा से नये भारत के निर्माण का आह्वान करते हुये कहा है कि स्वामी जी ने आज से सवा सौ साल पहले अमेरिका में भारत की संस्कृति, सभ्यता और प्राचीन परंपरा का परचम पूरी दुनिया में लहराया था तथा आज हम उनके बताये रास्तों पर चलते हुये देश के लोगों में वह आत्मविश्वास और गौरव भरने का फिर से प्रयास कर रहे हैं।

स्वामी विवेकानंद के शिकागो विश्व धर्म सम्मेलन में दिये ऐतिहासिक भाषण के 125वीं जयंती समारोह को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये संबोधित करते हुये श्री मोदी ने यह बात कही। समारोह का आयोजन कोयम्बटूर के रामकृष्ण मठ ने किया था।

प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि स्वामी विवेकानंद ने जब शिकागो में अपना भाषण दिया था उस समय सभागार में चार हजार लोग मौजूद थे। उन्होंने भारत के वैदिक दर्शन के बारे में दुनिया को बताया था। यह समारोह इस बात का प्रतीक है कि स्वामी जी के उस भाषण का कितना असर हुआ था और उस भाषण ने भारत के प्रति पश्चिम के दृष्टिकोण को न केवल बदला था बल्कि भारतीय दर्शन और विचार परंपरा को भी दुनिया में एक उचित स्थान मिला था।

श्री मोदी ने कहा कि आज भारत स्वामी विवेकानंद के उस दृष्टिकोण को अपनाकर पूर्ण आत्मविश्वास के साथ प्रगति कर रहा है और 125वीं जयंती समारोह में बड़ी संख्या में उपस्थित संतों के सात्विक गुणों तथा युवकों के उत्साह और ऊर्जा का मिलन भारत की वास्तविक ताकत को दर्शाता है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्हें पता चला है कि समारोह के साथ ही स्वामी विवेकानंद के संदेशों के प्रसार के लिए स्कूलों और कॉलेजों में कई तरह की प्रतियोगिताओं का भी आयोजन किया गया है। युवा पीढ़ी केवल विचार-विमर्श ही नहीं करेगी बल्कि वह भारत के सामने उपस्थित चुनौतियों का हल निकालने का भी प्रयास करेगी। विवेकानंद ने भी ‘एक भारत, श्रेष्ठ भारत’ के दर्शन का प्रतिपादन किया था और भारतीय संस्कृति, दर्शन तथा प्राचीन परंपराओं का प्रकाश पूरी दुनिया में फैलाया था। उन्होंने देशवासियों में आत्मविश्वास की भावना जगायी थी और राष्ट्रप्रेम तथा खुद पर विश्वास करने का मंत्र भी दिया था।

अरविंद अजीत

वार्ता

More News
चौथी भारत-आसियान प्रदर्शनी एवं सम्मेलन कल से

चौथी भारत-आसियान प्रदर्शनी एवं सम्मेलन कल से

20 Feb 2019 | 6:22 PM

नयी दिल्ली 20 फरवरी (वार्ता) भारत - आसियान संबंधों को और मजबूती देने के लिए कल से यहां चौथी भारत-आसियान प्रदर्शनी एवं सम्मेलन आयोजित होगा।

 Sharesee more..

भारत से जाने वाले हाजियों का काेटा बढ़ा

20 Feb 2019 | 6:13 PM

 Sharesee more..
मैसूर में रक्षा उत्पाद विनिर्माण केंद्र स्थापित करेगा कर्नाटक: कुमारस्वामी

मैसूर में रक्षा उत्पाद विनिर्माण केंद्र स्थापित करेगा कर्नाटक: कुमारस्वामी

20 Feb 2019 | 5:52 PM

बेंगलुरु, 20 फरवरी (वार्ता) कर्नाटक के मुख्यमंत्री एच. डी. कुमारस्वामी ने कहा है कि राज्य रक्षा के साथ-साथ वायुमंडल प्रौद्योगिकी से संबंधित उत्पाद विनिर्माण केंद्रों की स्थापना के लिए पसंदीदा स्थान है।

 Sharesee more..
खनन में स्वच्छ प्रौद्योगिकी विकसित करने की जरूरत: कोविंद

खनन में स्वच्छ प्रौद्योगिकी विकसित करने की जरूरत: कोविंद

20 Feb 2019 | 4:42 PM

नयी दिल्ली, 20 फरवरी (वार्ता) राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ऊर्जा और पर्यावरण को महत्त्वपूर्ण मुद्दा बताते हुये वैज्ञानिकों से खनन की पर्यावरण-अनुकूल प्रौद्योगिकी विकसित करने की अपील की है।

 Sharesee more..
image