Saturday, Nov 17 2018 | Time 12:01 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • दिल्ली से खाली हाथ लौटे उपेंद्र, फिर नहीं हुई शाह से मुलाकात
  • जम्मू-कश्मीर में पंचायत चुनाव के पहले चरण का मतदान शुरू में धीमा रहा
  • प्रधानमंत्री मालदीव के राष्ट्रपति के शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा लेंगे
  • भंवरी हत्याकांड में जेल में बंद नेताओं के बच्चों को टिकट
  • उत्तरी कैलिफोर्निया में आग से मरने वालों की संख्या 71 हुई
  • कारगिल के वीरों की गाथाअों ने दी देशसेवा की प्रेरणा
  • कश्मीर में ट्रेन सेवा स्थगित
  • केरल के मुख्यमंत्री ने माणिक सरकार के काफिले पर हमले की निंदा की
  • केरल में एक दिन की हड़ताल शुरू
  • सऊदी दूतावास ने खशोगी मामले में अमेरिकी दावे को गलत बताया
  • सऊदी के क्राउन प्रिंस ने पत्रकार खशोगी की हत्या के आदेश दिए: सीआईए
  • नाइजीरिया में आग लगने से चार बच्चों सहित पांच की मौत
  • सीरिया में 30 बच्चों की मौत पर संरा ने शोक व्यक्त किया
  • तुर्की में आतंकवादी हमला मामले में छह को उम्रकैद
  • आज का इतिहास(प्रकाशनार्थ 18 नवंबर)
दुनिया Share

भारतीय मूल के प्रख्यात लेखक वी एस नायपॉल का निधन

भारतीय मूल के प्रख्यात लेखक वी एस नायपॉल का निधन

लंदन 12 अगस्त (रायटर) भारतीय मूल के नोबेल पुरस्कार विजेता ब्रिटिश लेखक वी एस नायपॉल का शनिवार को निधन हो गया।

वह 85 वर्ष के थे। श्री नायपॉल ने लंदन स्थित अपने घर में अंतिम सांस ली।

उनकी पत्नी नादिरा नायपॉल ने एक वक्तव्य जारी कर उनके निधन की जानकारी दी। श्रीमती नायपॉल ने अपने वक्तव्य में बताया कि अद्भुत रचनात्मकता और प्रयासों से भरा हुआ जीवन जीने वाले प्रख्यात लेखक ने अपने करीबियों के बीच आखिरी सांस ली।

श्री नायपॉल का जन्म 1932 में कैरेबियाई द्वीप त्रिनिदाद में एक भारतीय परिवार में हुआ था। उनका पूरा नाम विद्याधर सूरजप्रसाद नायपॉल था।

श्री नायपॉल ने अपने लेखन करियर की शुरुआत 1950 के दशक में की। उनके चर्चित उपन्यासों में ‘ए हाउस फॉर मिस्टर बिस्वास’, ‘इन ए फ्री स्टेट’ और ‘ए बेन्ड इन द रिवर’ शामिल हैं।

श्री नायपॉल का बचपन काफी गरीबी में बीता। मात्र 18 वर्ष की उम्र में स्कॉलरशिप हासिल करने के बाद वह ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में पढ़ाई करने के लिए इंग्लैंड चले गए। उन्होंने अपना पहला उपन्यास ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में पढ़ाई के दौरान ही लिखा था लेकिन वो प्रकाशित नहीं हुआ। उन्होंने 1954 में ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय छोड़ दिया और लंदन की राष्ट्रीय पोर्ट्रेट गैलरी में एक कैटलॉगर के रूप में नौकरी शुरू कर दी। ‘मिस्टिक मैसर’ उनका पहला उपन्यास था जिसे प्रकाशित किया गया।

ब्रिटेन की महारानी एलिज़ाबेथ ने वर्ष 1989 में उन्हें नाइटहुड की उपाधि से भी नवाजा।

साहित्य के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए श्री नायपॉल को वर्ष 1971 में बुकर पुरस्कार तथा वर्ष 2001 में साहित्य के नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

 

More News
सऊदी दूतावास ने खशोगी मामले में अमेरिकी दावे को गलत बताया

सऊदी दूतावास ने खशोगी मामले में अमेरिकी दावे को गलत बताया

17 Nov 2018 | 10:09 AM

वाशिंगटन 17 नवंबर (स्पुतनिक) अमेरिका में सऊदी राजदूत खालिद बिन सलमान ने अमेरिकी सरकार के दावे को गलत बताते हुए कहा कि उन्होंने पत्रकार जमाल खशोगी को तुर्की जाने के लिए कभी नहीं बोला था।

 Sharesee more..
सऊदी के क्राउन प्रिंस ने पत्रकार खशोगी की हत्या के आदेश दिए: सीआईए

सऊदी के क्राउन प्रिंस ने पत्रकार खशोगी की हत्या के आदेश दिए: सीआईए

17 Nov 2018 | 9:49 AM

वाशिंगटन, 17 नवंबर (वार्ता) अमेरिका की खुफिया एजेंसी सीआईए ने कहा है कि सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने पिछले महीने इस्तांबुल में पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या करने का आदेश दिया था।

 Sharesee more..
नाइजीरिया में आग लगने से चार बच्चों सहित पांच की मौत

नाइजीरिया में आग लगने से चार बच्चों सहित पांच की मौत

17 Nov 2018 | 9:24 AM

अबुजा ,17 नवंबर (शिन्हुआ) नाइजीरिया के उत्तर पश्चिमी राज्य केब्बी में आग की चपेट में आने से चार बच्चों सहित पांच लोगों की मौत हो गई।

 Sharesee more..
सीरिया में 30 बच्चों की मौत पर संरा ने शोक व्यक्त किया

सीरिया में 30 बच्चों की मौत पर संरा ने शोक व्यक्त किया

17 Nov 2018 | 9:08 AM

संयुक्त राष्ट्र, 17 नवंबर(वार्ता) पूर्वी सीरिया के अल सफा गांव में हाल ही में विभिन्न गुटों की झड़पों में 30 बच्चों के मारे जाने की घटना पर संयुक्त राष्ट्र ने शोक व्यक्त किया है।

 Sharesee more..
तुर्की में आतंकवादी हमला मामले में छह को उम्रकैद

तुर्की में आतंकवादी हमला मामले में छह को उम्रकैद

17 Nov 2018 | 8:36 AM

इस्तांबुल 17 नवंबर(शिन्हुआ) तुर्की की एक अदालत ने इस्तांबुल के अतातुर्क अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर 2016 में आतंकवादी हमले में शामिल होने के मामले में शुक्रवार को छह लोगों को उम्रकैद की सजा सुनाई है।

 Sharesee more..
image