Thursday, Jul 18 2019 | Time 16:30 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • गुरु नानक देव के 550वें प्रकाशोत्सव को समर्पित पंजाब खेल कैलेंडर जारी
  • मानसून सत्र के पहले दिन विपक्ष के हंगामे के बीच परिषद की कार्यवाही स्थगित
  • भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाना सरकार की बड़ी सफलता : निशिकांत
  • चौतरफा बिकवाली से सेंसेक्स धड़ाम
  • आठ हजार से अधिक भारतीय विदेशी जेलों में
  • फर्जी राशन कार्ड पर कालाबाजारी के मामले की सदन की कमेटी करेगी जांच
  • पंचकूला की काजमपुर पंचायत अब रायपुरानी में शामिल
  • लिंग निर्धारण की सूचना देने वालों को ईनाम, 60 आरोपी गिरफ्तार, 14 मशीनें सील: सिद्धू
  • तमिलनाडु में वैन नहर में गिरी, छह मरे, 12 घायल
  • दिल्ली की 1797 अनधिकृत कालोनियां होगीं नियमित: केजरीवाल
  • सेंसेक्स 318 अंक और निफ्टी 91 अंक लुढ़का
  • 'आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस' का बड़ा केंद्र बनाना चाहते हैं मध्यप्रदेश को - कमलनाथ
  • सूरत में हीरा कारीगर ने की खुदकुशी
दुनिया


भारतीय मूल के प्रख्यात लेखक वी एस नायपॉल का निधन

भारतीय मूल के प्रख्यात लेखक वी एस नायपॉल का निधन

लंदन 12 अगस्त (रायटर) भारतीय मूल के नोबेल पुरस्कार विजेता ब्रिटिश लेखक वी एस नायपॉल का शनिवार को निधन हो गया।

वह 85 वर्ष के थे। श्री नायपॉल ने लंदन स्थित अपने घर में अंतिम सांस ली।

उनकी पत्नी नादिरा नायपॉल ने एक वक्तव्य जारी कर उनके निधन की जानकारी दी। श्रीमती नायपॉल ने अपने वक्तव्य में बताया कि अद्भुत रचनात्मकता और प्रयासों से भरा हुआ जीवन जीने वाले प्रख्यात लेखक ने अपने करीबियों के बीच आखिरी सांस ली।

श्री नायपॉल का जन्म 1932 में कैरेबियाई द्वीप त्रिनिदाद में एक भारतीय परिवार में हुआ था। उनका पूरा नाम विद्याधर सूरजप्रसाद नायपॉल था।

श्री नायपॉल ने अपने लेखन करियर की शुरुआत 1950 के दशक में की। उनके चर्चित उपन्यासों में ‘ए हाउस फॉर मिस्टर बिस्वास’, ‘इन ए फ्री स्टेट’ और ‘ए बेन्ड इन द रिवर’ शामिल हैं।

श्री नायपॉल का बचपन काफी गरीबी में बीता। मात्र 18 वर्ष की उम्र में स्कॉलरशिप हासिल करने के बाद वह ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में पढ़ाई करने के लिए इंग्लैंड चले गए। उन्होंने अपना पहला उपन्यास ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में पढ़ाई के दौरान ही लिखा था लेकिन वो प्रकाशित नहीं हुआ। उन्होंने 1954 में ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय छोड़ दिया और लंदन की राष्ट्रीय पोर्ट्रेट गैलरी में एक कैटलॉगर के रूप में नौकरी शुरू कर दी। ‘मिस्टिक मैसर’ उनका पहला उपन्यास था जिसे प्रकाशित किया गया।

ब्रिटेन की महारानी एलिज़ाबेथ ने वर्ष 1989 में उन्हें नाइटहुड की उपाधि से भी नवाजा।

साहित्य के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए श्री नायपॉल को वर्ष 1971 में बुकर पुरस्कार तथा वर्ष 2001 में साहित्य के नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

 

More News
जापान के एनीमेशन स्टूडियो में लगी आग, 30 घायल

जापान के एनीमेशन स्टूडियो में लगी आग, 30 घायल

18 Jul 2019 | 9:37 AM

टोक्यो 18 जुलाई (वार्ता) जापान के क्योटो शहर में गुरुवार को एनीमेशन स्टूडियो में आग लगने से 30 से अधिक लोग घायल हो गये।

see more..
जाधव मामले में पाकिस्तान की जीत हुयी : कुरैशी

जाधव मामले में पाकिस्तान की जीत हुयी : कुरैशी

18 Jul 2019 | 9:12 AM

इस्लामाबाद 18 जुलाई (वार्ता) पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव पर अंतरराष्ट्रीय न्यायालय के फैसले को ‘पाकिस्तान की जीत’ बताया है।

see more..
शरीफ परिवार की संपत्तियों को जब्त करने का आदेश

शरीफ परिवार की संपत्तियों को जब्त करने का आदेश

18 Jul 2019 | 9:04 AM

लाहौर 18 जुलाई (वार्ता) पाकिस्तान की राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (नैैब) ने पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के भाई एवं विपक्षी नेता शहबाज शरीफ के परिवार की संपत्तियों तथा दो वाहनों को जब्त करने का आदेश दिया है।

see more..
image