Thursday, Sep 20 2018 | Time 12:09 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • लघु बचत योजनाओं की ब्याज दरों में बढ़ोत्तरी
  • लघु बचत योजनाओं की ब्याज दरों में बढ़ोत्तरी
  • गोंडा में दो वाहनों की टक्कर चार मरे 12 घायल
  • दर्शकों के बीच खास पहचान बनायी करीना ने
  • दर्शकों के बीच खास पहचान बनायी करीना ने
  • मुहर्रम को लेकर गिरिडीह में सुरक्षा के कड़े इंतजाम
  • फिल्म इंडस्ट्री के बैडमैन के नाम से मशहूर हैं गुलशन ग्रोवर
  • फिल्म इंडस्ट्री के बैडमैन के नाम से मशहूर हैं गुलशन ग्रोवर
  • श्रीदेवी का किरदार निभायेंगी रकुल प्रीत सिंह
  • श्रीदेवी का किरदार निभायेंगी रकुल प्रीत सिंह
  • आमिर खान को सबसे मेहनती अभिनेता मानते हैं गोविंदा
  • मेघना गुलजार की फिल्म में काम करेंगी दीपिका
  • भंसाली की फिल्म में फिर काम करेंगी प्रियंका
  • आमिर खान को सबसे मेहनती अभिनेता मानते हैं गोविंदा
  • मेघना गुलजार की फिल्म में काम करेगी दीपिका
दुनिया Share

भारतीय मूल के प्रख्यात लेखक वी एस नायपॉल का निधन

भारतीय मूल के प्रख्यात लेखक वी एस नायपॉल का निधन

लंदन 12 अगस्त (रायटर) भारतीय मूल के नोबेल पुरस्कार विजेता ब्रिटिश लेखक वी एस नायपॉल का शनिवार को निधन हो गया।

वह 85 वर्ष के थे। श्री नायपॉल ने लंदन स्थित अपने घर में अंतिम सांस ली।

उनकी पत्नी नादिरा नायपॉल ने एक वक्तव्य जारी कर उनके निधन की जानकारी दी। श्रीमती नायपॉल ने अपने वक्तव्य में बताया कि अद्भुत रचनात्मकता और प्रयासों से भरा हुआ जीवन जीने वाले प्रख्यात लेखक ने अपने करीबियों के बीच आखिरी सांस ली।

श्री नायपॉल का जन्म 1932 में कैरेबियाई द्वीप त्रिनिदाद में एक भारतीय परिवार में हुआ था। उनका पूरा नाम विद्याधर सूरजप्रसाद नायपॉल था।

श्री नायपॉल ने अपने लेखन करियर की शुरुआत 1950 के दशक में की। उनके चर्चित उपन्यासों में ‘ए हाउस फॉर मिस्टर बिस्वास’, ‘इन ए फ्री स्टेट’ और ‘ए बेन्ड इन द रिवर’ शामिल हैं।

श्री नायपॉल का बचपन काफी गरीबी में बीता। मात्र 18 वर्ष की उम्र में स्कॉलरशिप हासिल करने के बाद वह ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में पढ़ाई करने के लिए इंग्लैंड चले गए। उन्होंने अपना पहला उपन्यास ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में पढ़ाई के दौरान ही लिखा था लेकिन वो प्रकाशित नहीं हुआ। उन्होंने 1954 में ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय छोड़ दिया और लंदन की राष्ट्रीय पोर्ट्रेट गैलरी में एक कैटलॉगर के रूप में नौकरी शुरू कर दी। ‘मिस्टिक मैसर’ उनका पहला उपन्यास था जिसे प्रकाशित किया गया।

ब्रिटेन की महारानी एलिज़ाबेथ ने वर्ष 1989 में उन्हें नाइटहुड की उपाधि से भी नवाजा।

साहित्य के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए श्री नायपॉल को वर्ष 1971 में बुकर पुरस्कार तथा वर्ष 2001 में साहित्य के नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

 

More News
ट्रम्प के पूर्व सुरक्षा सलाहकार फ्लिन को दिसंबर में होगी सजा

ट्रम्प के पूर्व सुरक्षा सलाहकार फ्लिन को दिसंबर में होगी सजा

20 Sep 2018 | 10:03 AM

वाशिंगटन 20 सितंबर (रायटर) अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार माइकल फ्लिन को दिसंबर में सजा सुनायी जायेगी।

 Sharesee more..
नजीब रजाक पर धनशोधन के 21 मामले

नजीब रजाक पर धनशोधन के 21 मामले

20 Sep 2018 | 9:48 AM

कुआलालंपुर 20 सितंबर (रायटर) मलेशिया के पूर्व प्रधानमंत्री नजीब रजाक के निजी बैंक खाते में 68.10 करोड़ डॉलर के हस्तांतरण के संबंध में उनके खिलाफ धनशोधन के कुल 21 आरोप तय किए गए हैं।

 Sharesee more..
गुटेरेस ने कोरियाई शिखर सम्मेलन के नतीजों का किया स्वागत

गुटेरेस ने कोरियाई शिखर सम्मेलन के नतीजों का किया स्वागत

20 Sep 2018 | 9:30 AM

संरा 20 सितंबर (रायटर) संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने बुध‌वार को उत्तर कोरिया तथा दक्षिण कोरिया के नेताओं के शिखर सम्मेलन के नतीजों का स्वागत किया और कहा कि अब ठोस कार्रवाई का समय है।

 Sharesee more..
‘गाजा में इजरायली सैनिकों ने की गोलीबारी, एक की मौत’

‘गाजा में इजरायली सैनिकों ने की गोलीबारी, एक की मौत’

20 Sep 2018 | 9:18 AM

दमिश्क 20 सितंबर (रायटर) फिलिस्तीन के स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुध‌वार को कहा कि दक्षिणी गाजा पट्टी में प्रदर्शन के दौरान इजरायल के सुरक्षा बलों ने गोलीबारी की, जिसमें फिलिस्तीन का एक युवक मारा गया।

 Sharesee more..
‘उ. कोरिया से वार्ता  पुनर्प्रारंभ करने के लिए तैयार है अमेरिका’

‘उ. कोरिया से वार्ता पुनर्प्रारंभ करने के लिए तैयार है अमेरिका’

20 Sep 2018 | 9:04 AM

सोल/वाशिंगटन 20 सितंबर (रायटर) अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने बुधवार को कहा कि अमेरिका जनवरी 2021 तक उत्तर कोरिया के परमाणु निरस्त्रीकरण के उदेश्य को लेकर उसके साथ तत्काल वार्ता पुनर्प्रारंभ करने के लिए तैयार है।

 Sharesee more..
image