Saturday, Jul 4 2020 | Time 00:42 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
खेल


ऐश्वर्य के सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन का इंतजार है: वीर बहादुर

ऐश्वर्य के सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन का इंतजार है: वीर बहादुर

भोपाल, 10 नवंबर (वार्ता) दोहा में 14वीं एशियाई निशानेबाजी प्रतियाेगिता में पुरुषों की 50 मीटर राइफल थ्री पोजीशन स्पर्धा में कांस्य पदक जीतकर बेहतर प्रदर्शन के जरिए भारत को टोक्यो ओलंपिक 2020 के लिए 13वां ओलंपिक कोटा दिलाने वाले मध्यप्रदेश के युवा निशानेबाज ऐश्वर्य प्रताप सिंह तोमर के परिजन इस सफलता से बेहद खुश हैं, लेकिन उन्हें अभी ऐश्वर्य के सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन का इंतजार है।

मध्यप्रदेश के खरगोन जिले के रतनपुर गांव निवासी एवं भोपाल स्थित मध्यप्रदेश राज्य शूटिंग अकादमी के युवा खिलाड़ी ऐश्वर्य ने 14वीं एशियाई निशानेबाजी प्रतियोगिता में शानदार प्रदर्शन करते हुए पुरुषों की 50 मीटर राइफल थ्री पोजीशन स्पर्धा में कांस्य पदक जीतने के साथ भारत को टोक्यो ओलंपिक 2020 के लिए 13वां ओलंपिक कोटा दिला दिया।

रतनपुर निवासी ऐश्वर्य के पिता वीरबहादुर सिंह तोमर ने दूरभाष पर यूनीवार्ता से कहा कि वह और उनके परिजन अपने पुत्र की इस उपलब्घि से बेहद खुश हैं, लेकिन उन्हें अभी ऐश्वर्य के श्रेष्ठ प्रदर्शन का इंतजार है। उन्हें विश्वास है कि ऐश्वर्य ओलंपिक में भी सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर देश के लिए स्वर्ण पदक हासिल करेगा।

ऐश्वर्य के पिता ने बताया कि उन्हें अपने पुत्र की आज की उपलब्धि की जानकारी उनके एक निकट के रिश्तेदार नवदीप सिंह राठौर से मिली। उन्होंने बताया कि उनका पुत्र ऐश्वर्य नवदीप सिंह राठौर की प्रेरणा से ही शूटिंग के क्षेत्र में आ पाया है। नवदीप भी शूटिंग का खिलाड़ी है और उसे देखकर ही ऐश्वर्य ने भोपाल पहुंचकर शूटिंग के क्षेत्र में हाथ आजमाना प्रारंभ किया था। नवदीप फिलहाल केंद्र सरकार की सेवा में आ गया है।

56 वर्षीय तोमर ने बताया कि वह पेशे से किसान हैं और खरगोन जिले की झिरन्या तहसील के तहत आने वाले रतनपुर गांव के निवासी हैं। ऐश्वर्य की मां हेमा तोमर सामान्य गृहणी हैं। परंपरागत काश्तकार पृष्ठभूमि से आने वाले तोमर ने बताया कि ऐश्वर्य तीन भाई बहनों में सबसे छोटा हैं। दो बहनों में से एक का विवाह हो गया है और एक अन्य शिक्षा हासिल कर रही है, हालाकि दोनों बहनें ऐश्वर्य की तरह किसी खेल से पेशेवर तौर पर नहीं जुड़ी हैं।

तोमर के अनुसार उनका पुत्र ऐश्वर्य वर्तमान में बी काम प्रथम वर्ष में हैं, लेकिन शूटिंग खेल में व्यस्तता इतनी अधिक रहती है कि वह इन दिनों तीज त्योहारों पर भी अपने गृहगांव नहीं आ पाता है। लेकिन उन्हें इस बात की प्रसन्नता है कि ऐश्वर्य की मेहनत रंग ला रही है। साथ ही उन्होंने उम्मीद जतायी कि और अधिक मेहनत कर ऐश्वर्य ओलंपिक में भी देश को स्वर्ण पदक दिलाएगा।

उन्होंने बताया कि ऐश्वर्य ने कक्षा नवीं तक की शिक्षा रतनपुर और झिरन्या में हासिल की। इसके बाद वह पढ़ाई के लिए भोपाल चला गया और साथ ही शूटिंग खेल से जुड़ गया। उन्होंने बताया कि ऐश्वर्य राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी पदक जीत चुका है।

प्रशांत राज

वार्ता

More News
2011 विश्व कप फाइनल फिक्स होने का कोई प्रमाण नहीं, जांच बंद

2011 विश्व कप फाइनल फिक्स होने का कोई प्रमाण नहीं, जांच बंद

03 Jul 2020 | 10:13 PM

कोलम्बो, 03 जुलाई (वार्ता) भारत में हुए 2011 एकदिवसीय विश्व कप फाइनल के फिक्स होने का कोई प्रमाण नहीं मिला है और तत्कालीन श्रीलंकाई खेल मंत्री महेंद्रानंद अलुथगमागे के फाइनल फिक्स होने के आरोप बेबुनियाद साबित हुए हैं जिसके बाद इस मामले में जांच को बंद कर दिया गया है। भारत ने फाइनल में श्रीलंका को हराकर खिताब जीता था।

see more..
ऑस्ट्रिया ग्रां प्री के अभ्यास सत्र में सबसे तेज रहे हैमिल्टन

ऑस्ट्रिया ग्रां प्री के अभ्यास सत्र में सबसे तेज रहे हैमिल्टन

03 Jul 2020 | 10:06 PM

स्पीलबर्ग, 03 जुलाई (वार्ता) छह बार के विश्व चैंपियन ब्रिटेन के लुइस हैमिल्टन ने सत्र की पहली फार्मूला वन रेस ऑस्ट्रियन ग्रां प्री में शानदार शुरुआत करते हुए शुक्रवार को अभ्यास सत्र में सबसे तेज समय निकाला।

see more..
आइसोलेशन में गए सैम करेन का टेस्ट नेगेटिव

आइसोलेशन में गए सैम करेन का टेस्ट नेगेटिव

03 Jul 2020 | 9:31 PM

साउथम्पटन, 03 जुलाई (वार्ता) इंग्लैंड के आलराउंडर सैम करेन बीमार पड़ने के बाद एजिस बॉल में अपने कमरे में आइसोलेशन में चले गए थे लेकिन बाद में उनका कोरोना टेस्ट नेगेटिव आया है।

see more..
सुरक्षा को ध्यान रख बेंगलुरु में ही रुक गए सूरज करकेरा

सुरक्षा को ध्यान रख बेंगलुरु में ही रुक गए सूरज करकेरा

03 Jul 2020 | 9:26 PM

बेंगलुरु, 03 जुलाई (वार्ता) हॉकी इंडिया ने जब भारतीय पुरुष और महिला कोर संभावितों के लिए एक महीने के ब्रेक का एलान किया था तब सूरज करकेरा को छोड़कर अन्य सभी खिलाड़ी अपने-अपने घरों को रवाना हो गए थे।

see more..
2011 विश्व कप फाइनल फिक्स होने का कोई प्रमाण नहीं, जांच पूरी

2011 विश्व कप फाइनल फिक्स होने का कोई प्रमाण नहीं, जांच पूरी

03 Jul 2020 | 8:03 PM

कोलम्बो, 03 जुलाई (वार्ता) भारत में हुए 2011 एकदिवसीय विश्व कप फाइनल के फिक्स होने का कोई प्रमाण नहीं मिला है और तत्कालीन श्रीलंकाई खेल मंत्री महेंद्रानंद अलुथगमागे के फाइनल फिक्स होने के आरोप बेबुनियाद साबित हुए हैं। भारत ने फाइनल में श्रीलंका को हराकर खिताब जीता था।

see more..
image