Wednesday, Nov 13 2019 | Time 02:29 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • संयुक्त राष्ट्र ने गाजा पट्टी की स्थिति पर जतायी चिंता
  • इजरायल ने दक्षिणी गाजा में घोषित की 48 घंटे की आपातकाल
  • ट्रम्प- मैक्रों ने सीरिया के मुद्दे पर समन्वय को जारी रखने पर जतायी सहमति
  • डोडा में दर्दनाक सड़क दुर्घटना, 16 लोगों की मौत
राज्य » अन्य राज्य


धार्मिक भेदभाव के कारण पड़ोसी देशों से आए लोगों को नागरिकता देंगे : माधव

धार्मिक भेदभाव के कारण पड़ोसी देशों से आए लोगों को नागरिकता देंगे : माधव

गुवाहाटी, 21 सितंबर (वार्ता) भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के महासचिव राम माधव ने कहा है कि धार्मिक भेदभाव होने के कारण पड़ोसी देशों से भारत आये लोगों को भारतीय नागरिकता दी जायेगी।

श्री माधव ने सिलचर के पूर्व विधायक दिवंगत बिमोलंग्शू रॉय के 81वें जन्मदिन के मौके पर एक कार्यक्रम के दौरान यह बातें कही।

भाजपा महासचिव ने कहा, “भारत में 1951 में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) पूरा किया गया लेकिन असम में इसे पूरा होने में 70 साल लग गए। राज्य में 19 लाख लोगों के नाम एनआरसी से बाहर है और इसमें छोटी तथा बड़ी गलतियां हुई हैं जिसके लिए इसे दोबारा जांचने की जरूरत है। हमारी पार्टी का मानना है कि इस लिस्ट में सभी भारतीयों को नाम शामिल होने चाहिए।”

हिंदू बंगालियों के नाम एनआरसी में शामिल नहीं होने को लेकर उन्होंने कहा, “इसमें चिंता की कोई बात नहीं है। यह हमारी सरकार की जिम्मेदारी है कि पड़ोसी देशों से आए पीड़ित परिवारों को सुरक्षा मुहैया कराए जाए।”

श्री माधव ने कहा, “हमने जम्मू-कश्मीर के लोगों के लिए संविधान के अनुच्छेद 370 को खत्म कर दिया जो गलत कानून के कारण भारत में स्वतंत्र हो कर सांस नहीं ले पा रहे थे और अब हम जल्द ही उन लोगों के लिए जिन्हें बंटवारे के बाद काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा उनके लिए राष्ट्रीय नागरिकता संसोधन विधेयक भी पास कराएंगे।”

शोभित.श्रवण

वार्ता

image