Sunday, May 31 2020 | Time 15:14 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मरीज की मृत्यु पर परिजनों ने मचाया हंगामा
  • एनआईओएस की 10वीं, 12वीं बोर्ड की 17 जुलाई से होंगी परीक्षाएं
  • लॉकडाउन-5 में दी गयी ढील को उमर ने बड़ा बदलाव बताया
  • कोविड-19 : गुरुग्राम में 82 के साथ हरियाणा में 118 मामले
  • आईडीएफसी फर्स्ट बैंक ने ऑनलाइन बचत खातों के लिए वीडियो केवाईसी किया लॉन्च
  • लोकतंत्र में असहमति का भी सम्मान होना चाहिए : जस्टिस कौल
  • असम में भीड़ द्वारा पीट-पीट कर युवक की हत्या
  • तमिलनाडु में लॉकडाउन 30 जून तक के लिए बढ़ा, कुछ प्रतिबंधों में ढील
  • नमस्ते ट्रंप कार्यक्रम के कारण फैला कोरोनाः राउत
  • तीन सप्ताह बाद उछला शेयर बाजार, सेंसेक्स 1751 अंक चमका
  • मणिपुर में कोरोना संक्रमितों की संख्या 64 हुई
  • भावनगर में ट्रैक्टर में लगी आग, तीन किसानों की मौत
  • कोल्हापुर में कोरोना के छह नए मामले
  • लॉकडाउन में फोटोग्राफर के कैमरा का शटर हुआ ‘लॉक’
राज्य » अन्य राज्य


धार्मिक भेदभाव के कारण पड़ोसी देशों से आए लोगों को नागरिकता देंगे : माधव

धार्मिक भेदभाव के कारण पड़ोसी देशों से आए लोगों को नागरिकता देंगे : माधव

गुवाहाटी, 21 सितंबर (वार्ता) भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के महासचिव राम माधव ने कहा है कि धार्मिक भेदभाव होने के कारण पड़ोसी देशों से भारत आये लोगों को भारतीय नागरिकता दी जायेगी।

श्री माधव ने सिलचर के पूर्व विधायक दिवंगत बिमोलंग्शू रॉय के 81वें जन्मदिन के मौके पर एक कार्यक्रम के दौरान यह बातें कही।

भाजपा महासचिव ने कहा, “भारत में 1951 में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) पूरा किया गया लेकिन असम में इसे पूरा होने में 70 साल लग गए। राज्य में 19 लाख लोगों के नाम एनआरसी से बाहर है और इसमें छोटी तथा बड़ी गलतियां हुई हैं जिसके लिए इसे दोबारा जांचने की जरूरत है। हमारी पार्टी का मानना है कि इस लिस्ट में सभी भारतीयों को नाम शामिल होने चाहिए।”

हिंदू बंगालियों के नाम एनआरसी में शामिल नहीं होने को लेकर उन्होंने कहा, “इसमें चिंता की कोई बात नहीं है। यह हमारी सरकार की जिम्मेदारी है कि पड़ोसी देशों से आए पीड़ित परिवारों को सुरक्षा मुहैया कराए जाए।”

श्री माधव ने कहा, “हमने जम्मू-कश्मीर के लोगों के लिए संविधान के अनुच्छेद 370 को खत्म कर दिया जो गलत कानून के कारण भारत में स्वतंत्र हो कर सांस नहीं ले पा रहे थे और अब हम जल्द ही उन लोगों के लिए जिन्हें बंटवारे के बाद काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा उनके लिए राष्ट्रीय नागरिकता संसोधन विधेयक भी पास कराएंगे।”

शोभित.श्रवण

वार्ता

image