Thursday, Jul 18 2019 | Time 16:37 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • बाबा रामदेव मंदिर से मुकुट और नकदी चोरी
  • राज्यसभा में अंतरराष्ट्रीय मध्यस्थता एवं सुलह केन्द्र बनाने की मांग
  • एशिया को फतह करने लेबनान रवाना भारत की लड़कियां
  • दिल्ली में 8 सितंबर को होगा 7वीं पिंकाथॉन दौड़ का आयोजन
  • गुरु नानक देव के 550वें प्रकाशोत्सव को समर्पित पंजाब खेल कैलेंडर जारी
  • मानसून सत्र के पहले दिन विपक्ष के हंगामे के बीच परिषद की कार्यवाही स्थगित
  • भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाना सरकार की बड़ी सफलता : निशिकांत
  • चौतरफा बिकवाली से सेंसेक्स धड़ाम
  • आठ हजार से अधिक भारतीय विदेशी जेलों में
  • फर्जी राशन कार्ड पर कालाबाजारी के मामले की सदन की कमेटी करेगी जांच
  • पंचकूला की काजमपुर पंचायत अब रायपुरानी में शामिल
  • लिंग निर्धारण की सूचना देने वालों को ईनाम, 60 आरोपी गिरफ्तार, 14 मशीनें सील: सिद्धू
  • तमिलनाडु में वैन नहर में गिरी, छह मरे, 12 घायल
भारत


सोशल मीडिया को दुश्मन के खिलाफ हथियार बनाना होगा: जनरल रावत

सोशल मीडिया को दुश्मन के खिलाफ हथियार बनाना होगा: जनरल रावत

नयी दिल्ली 04 सितम्बर (वार्ता) सेना में सोशल मीडिया के इस्तेमाल को लेकर चल रही बहस के बीच सेना प्रमुख जनरल रावत ने कहा है कि बदलती परिस्थितियों में सेना को सोशल मीडिया से वंचित नहीं किया जा सकता बल्कि सेना को इसे दुश्मन के खिलाफ हथियार के तौर पर इस्तेमाल करना होगा।

‘सोशल मीडिया और सशस्त्र सेनाएं’ विषय पर मंगलवार को यहां आयोजित सेमिनार को संबोधित करते हुए जनरल रावत ने कहा कि ये सोशल मीडिया का जमाना है और सेनाओं को इससे वंचित नहीं किया जा सकता। दुश्मन भी मनोवैज्ञानिक लड़ाई के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल करता है तो हमें भी इसे दुश्मन के खिलाफ हथियार बनाना होगा। सोशल मीडिया का फायदा उठाने के तरीके अपनाने होंगे।

उन्होंने कहा कि यह सलाह दी गयी है कि जवानों को सोशल मीडिया से दूर रखा जाये। उन्होंने सवालिया अंदाज में कहा, “ क्या यह संभव है, ऐसा किया जा सकता है, जवानों को स्मार्ट फोन से वंचित किया जा सकता है।” इसका जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि जब इसे रोका नहीं जा सकता तो इसे इस्तेमाल करने के तरीके सुझाये जाने चाहिए और इसका फायदा उठाया जाना चाहिए। जवानों को जागरुक करना होगा कि स्मार्ट फोन और सोशल मीडिया का इस्तेमाल किस तरह से किया जाना है।

जनरल रावत ने कहा, “ मौजूदा दौर की लड़ाई में ‘सूचना युद्ध’ महत्वपूर्ण है। अब आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस की बात चल रही है। यदि हमें इसका फायदा उठाना है तो हमें सोशल मीडिया के मैदान में उतरना ही होगा। छद्म युद्ध और आतंकवाद का मुकाबला करने के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल जरूरी बन गया है। सेना ने सोशल मीडिया के बारे में अध्ययन कराया है और पता चला है कि सोशल मीडिया सेना का अभिन्न हिस्सा बन गया है। ”

उन्होंने कहा कि सेना ने जवानों को सोशल मीडिया के बारे में जागरुक बनाने और उसके इस्तेमाल के बारे में बताने के लिए अपनी एक एप ‘अरमान’ भी बनायी है।

संजीव.श्रवण

वार्ता

More News
दिल्ली में बारिश ने बदला मौसम का मिजाज

दिल्ली में बारिश ने बदला मौसम का मिजाज

18 Jul 2019 | 1:53 PM

नयी दिल्ली, 18 जुलाई (वार्ता) राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में गुरुवार सुबह हुयी हल्की बारिश से लोगों को उमस भरी गर्मी से राहत मिली।

see more..
अयोध्या विवाद: मध्यस्थता अवधि 31 जुलाई तक बढ़ी

अयोध्या विवाद: मध्यस्थता अवधि 31 जुलाई तक बढ़ी

18 Jul 2019 | 1:17 PM

नयी दिल्ली, 18 जुलाई (वार्ता) उच्चतम न्यायालय ने अयोध्या के राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद जमीन विवाद मामले में मध्यस्थता प्रक्रिया की अवधि 31 जुलाई तक बढ़ा दी है।

see more..
जरुरत हुयी तो अयोध्या मामले में सुनवायी दो अगस्त से

जरुरत हुयी तो अयोध्या मामले में सुनवायी दो अगस्त से

18 Jul 2019 | 11:32 AM

नयी दिल्ली 18 जुलाई (वार्ता) उच्चतम न्यायालय ने अयोध्या के राम जन्म भूमि बाबरी मस्जिद जमीन विवाद मामले में मध्यस्थता समिति को 31 जुलाई तक मध्यस्थता संबंधी परिणाम से उसे अवगत कराने का निर्देश दिया है।

see more..
image