Sunday, Mar 24 2019 | Time 18:47 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • रमन सिंह के बेटे का टिकट काटा भाजपा ने
  • कांग्रेस की कार्यसमिति की बैठक कल नयी दिल्ली में
  • मोदी इस बार भी सरकार बनायेंगे:सीतारमण
  • आईपीएल में प्रदर्शन चयन का आधार नहीं: अश्विन
  • झारखंड में कांग्रेस सात और झामुमो चार सीटों पर लड़ेगी चुनाव
  • महाराष्ट्र में बस दुर्घटना में चार की मौत, 45 घायल
  • इटावा में भैंस निकालने के चक्कर में किशोर समेत दो यमुना में डूबे
  • कांग्रेस ने तारिक अनवर को कटिहार और कार्ती चिदंबरम को शिवगंगा से दिया टिकट
  • बांका के चुनावी अखाड़े में निर्दलीय उतरेंगी पुतुल कुमारी
  • कांग्रेस सदस्यता लेने का सपना ने किया खंडन, पार्टी ने दिखाये सबूत
  • अलगाववादियों को खुश करने के लिए कांग्रेस,एनसी, पीडीपी का गठजोड़ : जितेन्द्र
  • वार्नर की विस्फोटक वापसी, हैदराबाद के 181
  • झांसी: पारिवारिक विवाद में पति ने किया पत्नी पर धारदार हथियार से हमला
  • चीन में रासायनिक संयंत्र में विस्फोट, 117 लोग अभी भी अस्पताल में
  • भारत ने आखिरी क्षणों में खाया गोल, कोरिया से मैच ड्रॉ
लोकरुचि


बगैर परामर्श एंटीबायोटिक मतलब मुश्किलों को दावत

बगैर परामर्श एंटीबायोटिक मतलब मुश्किलों को दावत

कानपुर 06 जनवरी (वार्ता) बगैर चिकित्सीय परामर्श के एंटीबायोटिक दवाइयों के सेवन के आदी और चिकन के शौकीन लोग जाने अनजाने स्वास्थ्य संबंधी मुसीबतों को दावत दे रहे हैं।

चिकित्सकों का मानना है कि एंटीबायोटिक अथवा दर्द निवारक दवाओं का अत्यधिक इस्तेमाल गंभीर बीमारियों की वजह बन सकता है। आमतौर पर लोगबाग खांसी जुकाम बुखार जैसी बीमारियों पर अस्पताल अथवा डाक्टर की क्लीनिक पर जाने की बजाय मेडिकल स्टोर का रूख करना पसंद करते है जहां तुरंत आराम के चक्कर में उन्हे दर्द निवारक और एंटीबायोटिक्स को डोज परोसा जाता है और यही दवाइयां भविष्य में उनके खराब स्वास्थ्य की एक बडी वजह बनती है।

इसके अलावा मुर्गियाें को बीमारियों से बचाने के लिये एंटीबायोटिक दवाइयाें से युक्त दानो का बढता प्रचलन भी आम जीवन के लिये खतरनाक साबित हो रहा है। चिकन के सेवन से एंटीबायोटिक लोगों के शरीर में अपनी जगह बना रहे है और रोग प्रतिरोधक क्षमता को प्रभावित कर रहे हैं।

केन्द्र सरकार स्वास्थ्य योजना (सीजीएचएस) में मेडीसिन विशेषज्ञ डा अरूण कृष्णा ने ‘यूनीवार्ता’ से बातचीत में कहा कि फौरी राहत के लिये एंटीबायोटिक्स दवाओं को धड़ल्ले से इस्तेमाल हो रहा है जो भविष्य में कई मुसीबतों की वजह बन सकती है।

उन्होने कहा कि देश में लचर कानून भी एंटीबायोटिक्स और दर्द निवारक दवाओं के बढते प्रचलन के लिये जिम्मेदार है। दरअसल, कुछ एक दवाओं को छोड़कर मेडिकल स्टोर संचालक दवाइयों की बिक्री बगैर चिकित्सीय परामर्श के नहीं कर सकता है मगर अधिसंख्य शहरों में मेडिकल स्टोर संचालक डाक्टरों की तरह मरीजों को दवायें दे रहे हैं जिससे ना सिर्फ मरीजों की जान जोखिम में है बल्कि इसकी आड़ में कई जटिल रोगों को बढावा मिल रहा है।

चिकित्सक ने कहा “ एंटीबायोटिक दवाओं को लेकर हमारा रवैया बेहद लापरवाही भरा है और हम इसे आम दवा समझकर धड़ल्ले से सेवन करते हैं। इसकी वजह है कि ये दवायें सस्ती होने के साथ आसानी से उपलब्ध है। अपनी प्रैक्टिस चमकाने के फेर में 70-75 फीसदी डॉक्टर भी सामान्य सर्दी-ज़ुकाम के लिए भी एंटीबायोटिक्स लिख देते हैं। यह दिलचस्प है कि लगभग 50 फीसदी मरीज़ ख़ुद एंटीबायोटिक्स दवाएं लेने पर ज़ोर देते हैं। ”

      उन्होने बताया कि चिकन और अंडों के शौकीन लोग चाहे अनचाहे एंटीबायोटिक दवाओं के आदी हो रहे है। दरअसल, मुर्गियों को बीमारियों से बचाने के लिये मुर्गी के दानों को एंटीबायोटिक दवाओं से लैस कर दिया जाता है। ऐसे में जब आप चिकन खाते है तो आपका शरीर खुद बखुद इन दवाओं का अादी बना लेता है जो भविष्य में जटिल बीमारियों काे न्योता देता है।

      डा कृष्णा ने बताया कि एंटीबायोटिक के अत्यधिक इस्तेमाल से मरीज को विकलांगता की स्थिति तक से दो चार होना पड़ सकता है। दवाओं के आदी होने से पूर्व में जिन रोगों का उपचार संभव होता है, वही रोग अब इतने गंभीर हो जाते हैं कि मौत तक का कारण बन सकते हैं। ऐसे मरीजों की बीमारी में ठीक होने में लंबा समय लग सकता है। बार-बार डॉक्टर के चक्कर लगाने या हॉस्पिटल में एडमिट होने की नौबत आ सकती है।

      चिकित्सक ने बताया कि एंटीबायोटिक एक ऐसी दवा है, जो इंफेक्शन समेत कई गंभीर बीमारियों के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाती है लेकिन एंटीबायोटिक्स का अगर सही तरी़के से इस्तेमाल नहीं किया गया, तो लाभ की जगह नुक़सान पहुंच सकता है। एंटीबायोटिक्स प्रभावशाली दवा ज़रूर है, लेकिन इसमें हर बीमारी का इलाज ढूढना समझदारी नहीं होगी। एंटीबायोटिक्स सिर्फ़ बैक्टीरियल इंफेक्शन से होनेवाली बीमारियों पर असरदार है जबकि वायरल बीमारियों, जैसे सर्दी-ज़ुकाम, फ्लू, ब्रॉन्काइटिस, गले में इंफेक्शन आदि में ये दवायें कोई लाभ नहीं देती।

डा कृष्णा ने बताया कि वायरल बीमारियां ज़्यादातर अपने आप ठीक हो जाती हैं। शरीर की रोगप्रतिरोधक क्षमता इन वायरल बीमारियों से ख़ुद ही निपट लेती हैं. इसलिए अपनी प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने की  कोशिश करें। कई डॉक्टर भी ज़रूरी न होने पर भी एंटीबायोटिक्स लिख देते हैं1 कुल मिलाकर दुनियाभर में एंटीबायोटिक्स का उपयोग की बजाय दुरुपयोग हो रहा है।

      उन्होने बताया कि एंटीबायोटिक्स को बिना डाक्टर की सलाह के कतई नहीं लेना चाहिये वरना ऐसा हो जाएगा कि जब आपको सही में एंटीबायोटिक्स की ज़रूरत होगी, तब वो बेअसर हो जाएगी। दरअसल, एंटीबायोटिक्स लेने से सभी बैक्टीरिया नहीं मरते और जो बच जाते हैं, वे ताक़तवर हो जाते हैं। इन बैक्टीरियाज़ को उस एंटीबायोटिक्स से मारना असंभव हो जाता है। ये एंटीबायोटिक रज़िस्टेंट बैक्टीरिया कहलाते हैं।

     चिकित्सक ने बताया कि रज़िस्टेंट बैक्टीरिया ज़्यादा लंबी और गंभीर बीमारियों का कारण बनते हैं और इन बीमारियों से लड़ने के लिए ज़्यादा स्ट्रॉन्ग एंटीबायोटिक्स की ज़रूरत होती है, जिनके और ज़्यादा साइड इफेक्ट्स होते हैं। हो सकता है कि एक स्टेज ऐसा भी आ जाए कि सभी ऐसे इंफेक्शन से घिर जाएं, जिसका इलाज मुश्किल हो।

     उन्होने बताया कि एंटीबायोटिक्स दवाएं अनहेल्दी और हेल्दी बैक्टीरिया के बीच फ़र्क़ नहीं कर पातीं, यही वजह है कि ये अनहेल्दी बैक्टीरिया के साथ-साथ हेल्दी बैक्टीरिया को भी मार देती हैं। दुनियाभर में नई एंटीबायोटिक्स का विकास रुक गया है और एंटीबायोटिक दवाओं के बहुत ज़्यादा और ग़लत इस्तेमाल से जो एंटीबायोटिक दवाएं उपलब्ध हैं, वे बेअसर हो रही हैं और ये मेडिकल एक्सपर्ट्स के लिए चिंता का विषय बन गया है, क्योंकि ऐसी स्थिति में कई बीमारियों का इलाज मुश्किल हो जाएगा।

More News
बलरामपुर स्थित पक्षी बिहार से लौटने लगे मेहमान पक्षी

बलरामपुर स्थित पक्षी बिहार से लौटने लगे मेहमान पक्षी

23 Mar 2019 | 3:18 PM

बलरामपुर 23 मार्च (वार्ता )सरहदों की बेबस दीवारों को अपने मासूम पंखों के सहारे बेरोक टोक शरद ऋतु की आहट होते ही पारकर आये विदेशी मनमोहक मेहमान पक्षियों के कलरव से गूंज रहा उत्तर प्रदेश मे बलरामपुर जिले के सौहेल्वा वन्य जीव संरक्षित क्षेत्र के पक्षी बिहार में शनैः शनैः प्रवासी पक्षियों की वापसी से सन्नाटा परसने लगा है।

see more..
घाघरा चोली पहन भगवान बनते सखी, सिर्फ महिलाओं को मिलता प्रवेश

घाघरा चोली पहन भगवान बनते सखी, सिर्फ महिलाओं को मिलता प्रवेश

23 Mar 2019 | 11:24 AM

पन्ना, 23 मार्च (वार्ता) मध्यप्रदेश के पन्ना जिले में आज चैत्र माह की तृतीया पर रंगों के पर्व होली के बाद सुप्रसिद्ध भगवान श्री जुगल किशोर जी मंदिर में जुगल किशोर जी सखी वेष में दर्शन देते हैं।

see more..
मुलायम की कपड़ा फाड़ होली अब गुजरे जमाने की बात

मुलायम की कपड़ा फाड़ होली अब गुजरे जमाने की बात

20 Mar 2019 | 6:56 PM

इटावा , 20 मार्च (वार्ता) कभी मथुरा की लठ्ठामार होली से तुलना की जाने वाली समाजवादी पार्टी (सपा) संरक्षक मुलायम सिंह यादव के गांव सैफई की कपडा फाड होली आज गुजरे जमाने की बात हो चुकी है।

see more..
होली पर पहले जैसी अब नही दिखती फाग की फुहारें

होली पर पहले जैसी अब नही दिखती फाग की फुहारें

20 Mar 2019 | 8:33 PM

इटावा, 20 मार्च (वार्ता) उत्तर प्रदेश के इटावा में होली का त्योहार आते ही कभी ढोलक की थाप और मंजीरों पर चारों ओर फाग गीत गुंजायमान होने लगते थे, लेकिन आधुनिकता के दौर में आज ग्रामीण क्षेत्रों की यह परम्परा लुप्त सी हो गई है ।

see more..
image