Sunday, Aug 9 2020 | Time 11:36 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सरकार को अस्थिर करने के मंसूबे कामयाब नहीं हो सके-गहलोत
  • एक दिन में रिकॉर्ड 64 हजार से अधिक मामले, 53,879 रोगमुक्त
  • एक दिन में रिकॉर्ड 64 हजार से अधिक मामले, 53,879 रोगमुक्त
  • रक्षा मंत्रालय ने ‘आत्मनिर्भर भारत’ अभियान को बढ़ावा देने के लिए 101 वस्तुओं के आयात पर रोक लगायी
  • आदिवासी सांस्कृतिक विरासत संजोकर रखने की जरूरत : राहुल
  • नरेंद्र मोदी को लेकर ट्वीट करने के मामले में विधायक पटवारी के खिलाफ प्राथमिकी
  • आंध्र कोविड सेंटर आग: शाह ने लाेगों की मौत पर जताया शोक
  • आंध्र के कोविड केयर सेंटर में आग लगने से सात मरीजाें की मौत, तीन घायल
  • जगन मोहन ने कोविड केयर सेंटर में आग से लोगों की मौत पर जताया शोक
  • पटना में युवक का शव बरामद
  • पम्बा बांध: जलस्तर 983 05 मीटर पहुंचा,ऑरेंज अलर्ट जारी
  • मोदी ने आंध्र के कोविड केंद्र में आग से लोगों की मौत पर जताया दुख
  • मोदी ने दी बलराम जयंती की शुभकामनाएं
  • आंध्र के कोविड केयर सेंटर में आग लगने से तीन मरीजाें की मौत, कई झुलसे
फीचर्स


बच्चों की बेहतर देखभाल करती है कामकाजी महिलायें

बच्चों की बेहतर देखभाल करती है कामकाजी महिलायें

लखनऊ,11 जनवरी (वार्ता) आमतौर पर माना जाता है कि नौकरी करने वाले दंपत्ति को संतान की बेहतर देखभाल करने में तमाम मुश्किलों का सामना करना पड़ता है लेकिन एक शोध ने इस धारणा को न सिर्फ गलत साबित किया है बल्कि आधुनिकता का जीवन बसर करने वाली कामकाजी महिलाओं को योग्य मां करार दिया है।

      महिलाओं के प्रमुख ब्रांड फेमिना ने भारतीय महिलाओं पर ‘ऑल अबाउट वीमन’ शीर्षक से एक रिपोर्ट जारी की है, जिसमें बताया गया है कि नौकरीपेशा माताओं के लिए उनके बच्चे पहली प्राथमिकता है। अपनी व्यस्तता में से समय निकालकर आधुनिक दौर के माता-पिता यह सुनिश्चित करते हैं कि कोई एक अभिभावक बच्चों की निगरानी के लिए उनके साथ हर समय मौजूद रहे।

     रिपोर्ट में आधुनिक नौकरीपेशा माताओं के जीवन के कई पहलुओं, जैसे उपभोक्ता व्यवहार, जीवनशैली, आदत, नया सामान खरीदने की ताकत और आपसी संबंधों समेत कई पक्षों को प्रस्तुत किया गया है। यह शोध देश के 10 बड़े और छोटे शहरों में रहने वाली 1500 से ज्यादा शहरी महिलाओं पर किया गया।

      कामकाजी महिलाओं की लाइफस्टाइल के दिलचस्प उदाहरण पेश करते हुए रिपोर्ट में खुद की देखभाल के प्रति महिलाओं की बढ़ती दिलचस्पी को भी उभारा गया है। रिपोर्ट में बताया गया है कि टाइम की कमी, बिजी शेड्यूल और थकाने वाले डेली रूटीन के बावजूद नौकरीपेशा कामकाजी महिलाओं ने स्वस्थ खान-पान की आदतों से कोई समझौता नहीं किया। कामकाजी माताएं अपने और अपने परिवार की सेहत के प्रति काफी जागरूक हैं।

      दफ्तर की जिंदगी और व्यक्तिगत जीवन में तालमेल के सवाल पर शोध में शामिल महिलाओं ने बताया कि वह अपने परिवार और सहयोगियों की सक्रिय मदद से नौकरी और निजी जिंदगी में संतुलन बनाने में कामयाब हो पाई हैं।


मिलेनियल वर्ल्ड वाइड मीडिया के सीईओ दीपक लांबा ने ऑल अबाउट वीमन रिपोर्ट के बारे में कहा, “हमने महिलाओं की जिंदगी के कई पहलुओं का गहराई से विश्लेषण करते हुए ट्रेंड्स की भविष्यवाणी के साथ रिपोर्ट तैयार की है। रिपोर्ट को तैयार करने में आधुनिक कामकाजी महिलाओं की जिंदगी से जुड़ाव बढ़ाने का अनुकूल नजरिया अपनाया गया है।”

         शोध के नतीजों ने भारतीय घरों में मातृत्व और अभिभावकों के बच्चों के पालन पोषण के बदलते तरीकों की झलक पेश की। इन विषयों को परिवार के प्रकार के आधार पर विभाजित किया गया। इसके बाद इन विषयों को कई अन्य तरीकों से वर्गीकृत किया गया। इस वर्गीकरण में कामकाज और निजी जीवन में संतुलन बनाना, बच्चों को प्राथमिकता देना, पति-पत्नी के बीच संबंध, खुद की देखभाल और डिजिटल कॉन्टेंट की खपत जैसे विषयों को शामिल किया गया।

       फेमिना की संपादक और चीफ कम्युनिटी ऑफीसर तान्या चैतन्य ने कहा, “60 वर्षों की समृद्ध विरासत के साथ फेमिना लीक से हटकर बोल्ड पाठ्य सामग्री देने के मामले में पथप्रदर्शक रही है। इस रिपोर्ट ने एक बार फिर यह साबित कर दिया है कि भारतीय महिलाओं को जितनी अच्छी तरह से हम जानते हैं, उतनी अच्छी तरह से कोई नहीं।”

प्रदीप

वार्ता
More News
‘कोरोना’ के डर ने प्रकृति को दिया संवरने का मौका

‘कोरोना’ के डर ने प्रकृति को दिया संवरने का मौका

22 Apr 2020 | 12:01 AM

लखनऊ 21 अप्रैल (वार्ता) मानव जीवन के इन दिनों दहशत का पर्याय बने नोवल कोरोना वायरस के खतरे से निपटने के लिये पूरी दुनिया एकजुट होकर उपाय खोज रही है वहीं लाकडाउन के इस मौके का फायदा उठाते हुये प्रकृति भी अपने बिगड़े स्वरूप को संवारने में व्यस्त है।

see more..
लाकडाउन के दौरान दिनोदिन निर्मल हो रही है श्यामल यमुना

लाकडाउन के दौरान दिनोदिन निर्मल हो रही है श्यामल यमुना

12 Apr 2020 | 2:11 PM

मथुरा, 12 अप्रैल (वार्ता) पतित पावनी श्याम वर्ण यमुना की निर्मलता को वापस लाने के लिए जो काम न्यायपालिका, सरकार और स्वयंसेवी संस्थायें न कर सकी, उस काज को दुनिया के लिये काल बन कर विचरण कर रहे अनचाहे सूक्ष्म विषाणु ‘कोरोना’ के डर ने कर दिखाया है।

see more..
मुगलकालीन चित्रकला और रागमाला का बेजोड़ संगम है रजा लाइब्रेरी

मुगलकालीन चित्रकला और रागमाला का बेजोड़ संगम है रजा लाइब्रेरी

01 Apr 2020 | 4:46 PM

रामपुर 01 अप्रैल (वार्ता) सदियों तक नवाबी सभ्यता के केन्द्र रहे उत्तर प्रदेश के रामपुर में स्थित रजा लाइब्रेरी में संग्रहित पांडुलिपियां मुगलकालीन चित्रकला की अनूठी दास्तां बयां कर रही है वहीं रागमाला पर आधारित अलबम किसी का भी ध्यान बरबस अपनी ओर खींच लेता है।

see more..
हमीरपुर के 37 गावों के मिट्टी के टीलों की खुदायी पर लगायी रोक

हमीरपुर के 37 गावों के मिट्टी के टीलों की खुदायी पर लगायी रोक

21 Mar 2020 | 8:24 PM

हमीरपुर,21 माच्र (वार्ता) पुरातत्व विभाग ने उत्तर प्रदेश में हमीरपुर जिले के तीन ब्लाकों के 32 गांव में सर्वे करने के बाद दस हजार साल पुरानी सभ्यता के कई अवशेष मिलने के बाद 37 गांवों के मिट्टी के टीलाें को खोदने पर रोक लगाने के आदेश दिये है।

see more..
मुलायम के इटावा में आज भी शिद्दत से याद किये जाते हैं कांशीराम

मुलायम के इटावा में आज भी शिद्दत से याद किये जाते हैं कांशीराम

14 Mar 2020 | 11:34 AM

इटावा, 14 मार्च (वार्ता) दलितों की राजनीति की बदौलत देश के लोकप्रिय नेताओं में शुमार रहे बहुजन समाज पार्टी (बसपा) संस्थापक कांशीराम को आज भी समाजवादी पार्टी (सपा) संस्थापक मुलायम सिंह यादव के गृह जिले इटावा में पूरे आदर भाव के साथ याद किया जाता है।

see more..
image