Wednesday, May 27 2020 | Time 15:43 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • राजस्थान में कोरोना संक्रमित संख्या 7680 पहुंची
  • धान बुआई पर पाबंदी - एक जून तक सरकार वापस ले फैसला : हुड्डा
  • किर्गिस्तान में कोरोना के 52 नये मामले
  • पर्रिकर की जीवनी अंग्रेजी में छपकर अगले माह आएगी
  • बंगाल सरकार ने हवाई सेवा शुरू होने के मद्देनजर जारी किये नये दिशा-निर्देश
  • तिहरे हत्याकांड में जदयू विधायक की गिरफ्तारी नहीं हुई तो राजद सदस्य करेंगे गोपालगंज मार्च
  • दक्षिण कोरिया में दर्ज किये गये कोरोना के रिकॉर्ड 40 नये मामले
  • मुंबई,पुणे में सेना के तैनाती का कोई प्रस्ताव नहीं है:देशमुख
  • सैन्य सम्मान के साथ जवान महेंद्र सिंह का अंतिम संस्कार
  • बिना तैयारियों के लॉकडाऊन लगाने से सभी वर्ग कर रहे त्राहि-त्राहि : कुमारी सैलजा
  • बछड़े को बचाने के प्रयास में दो की दम घुटने से मौत
  • पुलिस कांस्टेबल के घर पर शरारती तत्वों ने केरोसिन बम फेंका, कोई घायल नहीं
  • कोरोना के मामले बढ़ने के बाद भी हालात नियंत्रण में-शर्मा
  • पर्रिकर की जीवनी अंग्रेजी में छपकर अगले माह आएगी
  • दिल्ली में कोरोना संक्रमितों की संख्या 15000 के पार
राज्य » उत्तर प्रदेश


आदमखोर बाघ के हमलों से चिंतित वरुण ने की योगी से बातचीत

आदमखोर बाघ के हमलों से चिंतित वरुण ने की योगी से बातचीत

पीलीभीत,04 अप्रैल (वार्ता) भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता एवं पीलीभीत के सांसद वरुण गांधी ने पिछले दिनो दो किसानों के आदमखोर बाघ के हमले में मारे जाने के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रमुख सचिव वन से बातचीत की और समस्या के समाधान की अपील की।

श्री गांधी के निजी सचिव एम आर मलिक ने शनिवार को बताया कि क्षेत्र में बाघ के हमलों का शिकार हुए लोगों के परिजनों तथा दहशत में आये क्षेत्र वासियों ने विभागीय उदासीनता की शिकायत शुक्रवार को सांसद से की थी। इस पर श्री गांधी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को फोन पर पूरे घटनाक्रम से अवगत कराते हुए समस्या के समाधान का आग्रह किया। मुख्यमंत्री योगी ने सांसद को आश्वस्त करने के बाद वन विभाग के प्रमुख सचिव को बाघ को पकड़े जाने के लिये कड़े निर्देश दिए। उसके बाद सांसद ने भी प्रमुख सचिव वन से फोन पर बातचीत की।

श्री वरूण गांधी ने भविष्य में घटनाओं की पुनरावृत्ति रोकने के लिए शीघ्र ही तार फेंसिंग कराए जाने तथा बाघ के शिकार हुए लोगों के परिजनों को मुआवजा दिलाए जाने की भी मांग किया। मलिक ने सांसद के हवाले से बताया कि उन्होंने जिलाधिकारी से भी बात कर जल्द ही तार फेंसिंग कराने के लिए फाइल तैयार कराकर शासन को भेजने का आग्रह किया।

श्री मलिक ने वन विभग से मिले आंकड़ो के आधार पर बताया कि वर्ष 2016 से लेकर तीन अप्रैल 2020 तक विभिन्न गांवों के 30 लोगों को बाघ ने अपना निवाला बनाया। आंकड़ों के अनुसार वर्ष 2017 में सबसे अधिक 16 लोगों पर हमला कर उन्हें मौत के घाट उतार चुका है।

सं दिनेश प्रदीप

वार्ता

image