Thursday, Apr 2 2020 | Time 23:46 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सारण में एक मरीज कोरोना से हुआ संक्रमित
  • फोटो कैप्शन-दूसरा सेट
  • तबलीगी जमात के संपर्क में आने वाले खुद को छिपाएं नहीं - गहलोत
  • किसानों एवं उद्योगों के बिजली-पानी के बिल दो महीने स्थगित
  • फोटो कैप्शन-पहला सेट
  • नाकेबंदी : कर्नाटक सरकार पहुंची शीर्ष अदालत, केरल ने डाली कैविएट
  • कोरोना से जुड़ी भ्रामक खबरों के प्रति जागरूकता फैलायेंगे स्वयंसेवक
  • बिहार में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़कर 28
  • भोपाल में चार व्यक्ति कोरोना पाजिटिव पाए गए
  • मध्यप्रदेश में कोरोना मरीज की संख्या 107 हुयी, अब तक आठ की मौत
  • गुजरात में कोरोना वायरस संक्रमण का एक नया मामला
  • कोरोना: देश में संक्रमितों की संख्या दो हजार के पार
  • महाराष्ट्र में कोरोना से 19 की मौत, 416 संक्रमित
  • दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण मामले 293 हुए
  • जम्मू-कश्मीर में 4-जी इंटरनेट सेवा बहाली की अर्जी सुप्रीम कोर्ट में दायर
लोकरुचि


नेतुला महारानी मंदिर में पूजा करने से नेत्र विकार से मिलती है मुक्ति

नेतुला महारानी मंदिर में पूजा करने से नेत्र विकार से मिलती है मुक्ति

जमुई 26 मार्च (वार्ता) बिहार के जमुई जिले के सिकंदरा प्रखंड स्थित नेतुला महारानी मंदिर में पूजा करने से श्रद्धालुओं को नेत्र संबंधित विकार से मुक्ति मिलती है और उन्हें मनवांछित फल की प्राप्ति होती है।

देश में कई मंदिरें है, जिनकी अलग-अलग मान्यताएं हैं। बिहार के जमुई जिले के सिकंदरा प्रखंड के कुमार गांव में स्थित मां नेतुला महारानी मंदिर लोगों के बीच अपनी मान्यताओं को लेकर काफी प्रसिद्ध हैं। यह मंदिर जमुई का गौरव माना जाता है। जुमई रेलवे स्टेशन एवं लखीसराय से मां नेतुला महारानी मंदिर की दूरी करीब तीस किलोमीटर है।मान्यता है कि इस मंदिर में भक्तिभाव से पूजा करने से मनवांछित फल की प्राप्ति होती है। इस मंदिर में सालों भर नेत्र रोग से पीड़ित श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है। मनचाही मुराद पूरी होने के बाद श्रद्धालु सोने या चांदी की आंखें मंदिर में चढ़ाते हैं।

पौराणिक कथा के अनुसार राजा दक्ष प्रजापति ने एक यज्ञ किया था लेकिन उन्होंने अपने दामाद भगवान शंकर को नहीं बुलाया। शंकर जी की पत्नी और दक्ष की पुत्री सती ने जब अपने पिता से इसका कारण पूछा तो उन्होंने शिव जी को अपशब्द कहे। इस अपमान से पीड़ित हुई सती ने अग्नि कुंड में कूदकर अपनी प्राणाहुति दे दी। भगवान शंकर को जब इस बात का पता चला तब उन्होंने भगवती सती के मृत शरीर को लेकर तीनों लोकों में तांडव मचाना शुरू कर दिया था। संपूर्ण सृष्टि भयाकूल हो गयी थी। तभी देवताओं के अनुरोध पर भगवान विष्णु ने सुदर्शन चक्र से सती के शरीर को खंडित किया था। लोगों का कहना है कि यहां सती की पीठ गिरी थी। लोग यहां मां के पीठ की भी पूजा करते हैं।

नेतुला महारानी मंदिर में हर मंगलवार और शनिवार को विशेष पूजा का इंतजाम किया जाता है। इस दिन भक्तों की काफी भीड़ होती है। यहां पर लोग संतान प्राप्ति के लिए भी मन्नत मांगते हैं। कहा जाता है कि इस मंदिर में श्रद्धापूर्वक पूजा करने से कई नि:संतान दंपत्तियों को संतान की प्राप्ति हो चुकी है। नवरात्र में नेतुला महारानी मंदिर में मां दुर्गा के नौ अवतारों की पूजा की जाती है। बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल से हजारो व्रती पहुंचकर नौ दिन तक मंदिर परिसर में उपवास एवं फलहार पर रहकर माता की पूजा-अर्चना एवं आरती करते हैं। कुमार गांव के ग्रामीण द्वारा साफ-सफाई एवं व्रतियों की सेवा की जाती है।

इस मंदिर का इतिहास 2600 साल पुराना रहा है। जैन धर्म के प्रसिद्ध ग्रंथ कल्पसूत्र के अनुसार, 24वें तीर्थंकर भगवान महावीर अपने घर का त्याग कर कुंडलपुर से निकले थे, तब प्रथम दिन मां नेतुला मंदिर स्थित वटवृक्ष के नीचे रात्रि विश्राम किया था। इसी स्थान पर भगवान महावीर ने अपना वस्त्र का त्याग कर दिया था। इस मंदिर में हिंदूओं के साथ-साथ मुस्लिम संप्रदाय के लोग भी मन्नत मांगने के लिये आते हैं।

मंदिर की देखरेख के लिए 11 सदस्यीय कमेटी गठित है। यह मंदिर धार्मिक न्यास बोर्ड से भी संबद्ध है। कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष हरदेव सिंह ने बताया कि स्थानीय लोगों के सहयोग से मंदिर का रख-रखाव किया जाता है। मंदिर के मुख्य पुजारी विश्वजीत पांडे ने बताया कि नेतुला महारानी मंदिर में प्रत्येक दिन सुबह-शाम मां का श्रृंगार और आरती की जाती है। फूलों से मां का दरवार सजाया जाता है।

More News
यहां राजा राम को पुलिस हर रोज देती है सलामी

यहां राजा राम को पुलिस हर रोज देती है सलामी

01 Apr 2020 | 6:38 PM

ललितपुर 01 अप्रैल (वार्ता) बुंदेलखंड की अयोध्या के तौर पर प्रसिद्ध ओरछा दुनिया का ऐसा इकलौता मंदिर है जहां मर्यादा पुरूषोत्तम श्रीराम की पूजा राजा के रूप में होती है और स्थानीय पुलिस नियमित रूप से अपने राजा को सलामी देकर दिन की शुरूआत करती है।

see more..
थावे दुर्गा मंदिर में श्रद्धालुओं की मनोकामनाएं होती हैं पूरी

थावे दुर्गा मंदिर में श्रद्धालुओं की मनोकामनाएं होती हैं पूरी

31 Mar 2020 | 11:48 AM

गोपालगंज 31 मार्च (वार्ता) बिहार में गोपालगंज जिले के थावे दुर्गा मंदिर में सच्चे मन से पूजा-अर्चना करने वाले श्रद्धालुओं की मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

see more..
चंडिका मंदिर में मां सती के नेत्र की होती है पूजा

चंडिका मंदिर में मां सती के नेत्र की होती है पूजा

30 Mar 2020 | 12:10 PM

मुंगेर, 30 मार्च (वार्ता) बिहार के मुंगेर जिले के प्रसिद्ध मां चंडिका मंदिर में मां सती के एक नेत्र की पूजा की जाती है और श्रद्धालुओं को नेत्र संबंधी विकार से मुक्ति मिलती है।

see more..
शीतला माता श्रद्धालुओं को देती है निरोगी काया

शीतला माता श्रद्धालुओं को देती है निरोगी काया

28 Mar 2020 | 10:57 AM

राजगीर 28 मार्च (वार्ता) बिहार में नालंदा जिले के मघड़ा गांव स्थित शीतला माता मंदिर में पूजा करने से श्रद्धालुओं को निरोगी काया की प्राप्ति है।

see more..
पटना की नगर रक्षिका है मां पटनेश्वरी

पटना की नगर रक्षिका है मां पटनेश्वरी

27 Mar 2020 | 9:53 AM

पटना 27 मार्च (वार्ता) देश के प्रमुख शक्ति उपासना केंद्रों में शामिल पटना के पटन देवी मंदिर में विद्यमान मां भगवती को पटना की नगर रक्षिका माना जाता है।

see more..
image