Saturday, Feb 16 2019 | Time 11:21 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • बोल्टन ने पुलवामा हमले पर डोभाल से की बात
  • ब्राजील बांध हादस: आठ और लोग गिरफ्तार
  • घुटने और कुल्हे के ऑपरेशन में 30 प्रतिशत की बढ़ोतरी
  • यरुशलम, इजरायल-फिलिस्तीन की संयुक्त राजधानी बने: संयुक्त राष्ट्र
  • बाधित ‘वंदे भारत एक्सप्रेस’ फिर से रवाना
  • आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारत के साथ है अमेरिका : पोम्पियो
  • वापसी के दौरान रूकी ‘वंदे भारत एक्सप्रेस’
  • पाकिस्तान आतंकवाद को जायज ठहराने का न करे प्रयास: हक्कानी
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 17 फरवरी)
  • अमेरिका में कारखाने में गोलीबारी में पांच की मौत
  • ट्रम्प ने खर्च एवं सीमा सुरक्षा कानून पर हस्ताक्षर किये
  • केन्या में सड़क दुर्घटना में नौ लोगों की मौत
  • इराक में आईएस ने आठ लोगों का किया अपहरण
  • नाइजीरिया में बंदूकधारियों ने 66 की हत्या की
मनोरंजन Share

आपकी की नजरों ने समझा प्यार के काबिल मुझे

आपकी की नजरों ने समझा प्यार के काबिल मुझे

..पुण्यितिथि 14 जुलाई के अवसर पर..

मुंबई 13 जुलाई (वार्ता)हिन्दी फिल्मों के मशहूर संगीतकार मदनमोहन के एक गीत

..आपकी नजरों ने समझा प्यार के काबिल मुझे..

दिल की ऐ धड़कन ठहर जा मिल गयी मंजिल मुझे..

से संगीत सम्राट ..नौशाद..इस कदर प्रभावित हुये थे कि उन्होंने मदन मोहन से इस धुन के बदले अपने संगीत का पूरा खजाना लुटा देने की इच्छा जाहिर कर दी थी।

मदन मोहन कोहली का जन्म 25 जून 1924 को हुआ। उनके पिता राय बहादुर चुन्नी लाल फिल्म व्यवसाय से जुड़े हुये थे और बाम्बे टाकीज और फिलिम्सतान जैसे बडे फिल्म स्टूडियो में साझीदार थे। घर मे फिल्मी माहौल होने के कारण मदन मोहन भी फिल्मों में काम करके बड़ा नाम करना चाहते थे लेकिन अपने पिता के कहने पर उन्होंने सेना में भर्ती होने का फैसला ले लिया और देहरादून में नौकरी शुरू कर दी। कुछ दिनों बाद उनका तबादला दिल्ली हो गया। लेकिन कुछ समय के बाद उनका मन सेना की नौकरी से ऊब गया और वह नौकरी छोड लखनऊ आ गये और आकाशवाणी के लिये काम करने लगे।

आकाशवाणी में उनकी मुलाकात संगीत जगत से जुड़े उस्ताद फैयाज खान, उस्ताद अली अकबर खान, बेगम अख्तर और तलत महमूद जैसी जानी मानी हस्तियों से हुयी जिनसे वे काफी प्रभावित हुये और उनका रूझान संगीत की ओर हो गया। अपने सपनों को नया रूप देने के लिये मदन मोहन लखनउ से मुंबई आ गये। मुंबई आने के बाद मदन मोहन की मुलाकात एस डी बर्मन, श्याम सुंदर और सी.रामचंद्र जैसे प्रसिद्व संगीतकारों से हुयी और वह उनके सहायक के तौर पर काम करने लगे। संगीतकार के रूप में 1950 में प्रदर्शित फिल्म ‘आंखें’ के जरिये वह फिल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने मे सफल हुए।

इस फिल्म के बाद लता मंगेशकर मदन मोहन की चहेती गायिका बन गयी और वह अपनी हर फिल्म के लिये लता मंगेशकर से ही गाने की गुजारिश किया करते थे। लता मंगेशकर भी मदनमोहन के संगीत निर्देशन से काफी प्रभावित थीं और उन्हें ‘गजलों का शहजादा’ कह कर संबोधित किया करती थीं। संगीतकार ओ पी नैयर अक्सर कहा करते थे ..मैं नहीं समझता कि लता मंगेशकर, मदन मोहन के लिये बनी हुयी हैं या मदन मोहन, लता मंगेश्कर के लिये लेकिन अब तक न तो मदन मोहन जैसा संगीतकार हुआ और न लता जैसी गायिका।


       मदनमोहन के संगीत निर्देशन मे आशा भोंसले ने फिल्म मेरा साया के लिये ..झुमका गिरा रे बरेली के बाजार में .. गाना गाया जिसे सुनकर श्रोता आज भी झूम उठते है। उनसे आशा भोंसले को अक्सर यह शिकायत रहती थी कि ..वह अपनी हर फिल्म के लिये लता दीदी को हीं क्यो लिया करते हैं .. इस पर मदन मोहन कहा करते ..जब तक लता जिंदा है उनकी फिल्मों के गाने वही गायेंगी।

मदन मोहन केवल महिला पार्श्वगायिका के लिये ही संगीत दे सकते हैं, वह भी विशेषकर लता मंगेशकर के लिये, यह चर्चा फिल्म इंडस्ट्री में पचास के दशक में जोरो पर थी लेकिन 1957 में प्रदर्शित फिल्म ..देख कबीरा रोया ..में पार्श्वगायक मन्ना डे के लिये ..कौन आया मेरे मन के द्वारे ..जैसा दिल को छू लेने वाला संगीत देकर उन्होंने अपने बारे में प्रचलित धारणा पर विराम लगा दिया। वर्ष 1965 मे प्रदर्शित फिल्म ‘हकीकत’ में मोहम्मद रफी की आवाज में मदन मोहन के संगीत से सजा गीत ..कर चले हम फिदा जानों तन साथियो अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों ..आज भी श्रोताओं में देशभक्ति के जज्बे को बुलंद कर देता है। आंखो को नम कर देने वाला ऐसा संगीत मदन मोहन ही दे सकते थे।

वर्ष 1970 मे प्रदर्शित फिल्म ‘दस्तक’ के लिये मदन मोहन सर्वश्रेष्ठ संगीतकार के राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किये गये। उन्होंने अपने ढाई दशक लंबे सिने कैरियर में लगभग 100 फिल्मों के लिये संगीत दिया। अपनी मधुर संगीत लहरियों से श्रोताओं के दिल में खास जगह बना लेने वाला यह सुरीला संगीतकर 14 जुलाई 1975 को इस दुनिया से अलिवदा कह गया।

मदन मोहन के निधन के बाद 1975 में ही उनकी ‘मौसम’ और ‘लैला मजनू’ जैसी फिल्में प्रदर्शित हुयी, जिनके संगीत का जादू आज भी श्रोताओं को मंत्रमुग्ध करता है। मदन मोहन के पुत्र संजीव कोहली ने अपने पिता की बिना इस्तेमाल की हुयी 30 धुनें यश चोपडा को सुनाई जिनमें आठ का इस्तेमाल उन्होंने अपनी फिल्म ‘वीर जारा’ के लिये किया। ये गीत भी श्रोताओं के बीच काफी लोकप्रिय हुये।

 

More News
सलमान का गाना ‘ओ ओ जाने जाना’  होगा रिक्रियेट

सलमान का गाना ‘ओ ओ जाने जाना’ होगा रिक्रियेट

15 Feb 2019 | 2:39 PM

मुंबई, 15 फरवरी (वार्ता) बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान का सुपरहिट गाना ‘ओ-ओ जाने जाना’ रिक्रियेट किया जा रहा है।

 Sharesee more..
अमिताभ ने फिल्म इंडस्ट्री में पूरे किये 50 साल

अमिताभ ने फिल्म इंडस्ट्री में पूरे किये 50 साल

15 Feb 2019 | 2:33 PM

मुंबई,15 फरवरी (वार्ता) बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन ने फिल्म इंडस्ट्री में 50 साल पूरे कर लिये हैं।

 Sharesee more..
‘शेमारू ’बचपन से ही मेरी जिंदगी का अभिन्‍न हिस्‍सा :टाइगर

‘शेमारू ’बचपन से ही मेरी जिंदगी का अभिन्‍न हिस्‍सा :टाइगर

15 Feb 2019 | 2:04 PM

मुंबई 15 फरवरी (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता टाइगर श्राफ का कहना है कि ‘शेमारू इंटरटेनमेंट’ बचपन से ही उनकी जिंदगी का अभिन्न हिस्सा रहा है।

 Sharesee more..
image