Thursday, Jun 27 2019 | Time 13:58 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • श्रीलंका पर सेमीफाइनल की उम्मीदें बरकरार रखने की चुनौती
  • स्विटजरलैंड ने भगोड़े नीरव मोदी का बैंक खाता किया फ्रीज
  • केंद्रीय शैक्षणिक संस्थान आरक्षण विधेयक लोकसभा में पेश
  • नयी शिक्षा नीति के मसौदे पर सुझाव का समय एक महीने बढा
  • स्विटजरलैंड ने नीरव मोदी और उसकी बहन का बैंक खाता फ्रीज किया।
  • दक्षिण चेन्नई कांग्रेस जिला समिति के अध्यक्ष निलंबित
  • सेमीफाइनल की राह मज़बूत करने उतरेगा भारत
  • सेमीफाइनल की राह मज़बूत करने उतरेगा भारत
  • हरियाणा कांग्रेस प्रवक्ता विकास चौधरी की हत्या
  • संस्कृत के संरक्षण के लिए राष्ट्रीय नीति बनाने की मांग
  • साढ़े तीन साल में शुरू हो जायेगा दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस-वे : गडकरी
  • विकास चौधरी की हत्या के दोषियों को सजा दिलाने की मांग की कांग्रेस ने
  • मोदी ने की जापान के प्रधानमंत्री शिंजे आबे से मुलाकात
  • लाखों रुपये के गांजे के पौधे बरामद
  • ‘मनमाने’ हवाई किराये पर लोकसभा में हंगामा
भारत


नोटबंदी के बाद एक साल में विदेशी बैंकों में पहुंचे 7000 करोड़ : कांग्रेस

नोटबंदी के बाद एक साल में विदेशी बैंकों में पहुंचे 7000 करोड़  : कांग्रेस

नयी दिल्ली, 04 मई (वार्ता) कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि विदेशी बैंकों में जमा काले धन को वापस लाने की बात करने और कैशलेस समाज की बात करने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नोटबंदी के ऐलान के बाद एक साल में सात हजार करोड़ रुपए विदेशी बैंकों में जमा हुए हैं।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने शनिवार को यहां पार्टी मुख्यालय में संवाददाता सम्मेलन में कहा कि नोटबंदी के बाद बहुत बड़ा घोटाला हुआ है। सोशल मीडिया में इस संबंध में एक वीडियो चल रहा है जिसके एक दृश्य में भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) के दफ्तर का एक सुरक्षा अधिकारी कह रहा है कि उसे नोटों से भरी एक वैन को बिना जांच के अंदर आने के लिए पार्टी के कोषाध्यक्ष पीयूष गोयल का फोन आता है और वैन में लाया गया सारा कैश भाजपा दफ्तर की पहली मंजिल के स्ट्रांग रुम में जमा करा दिया जाता है।

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने नोटबंदी का मकसद कैशलेस को बढ़ावा देना बताया था लेकिन वह मकसद पूरा नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि रिजर्व बैंक के डाटा के अनुसार 2014 में 7.8 लाख करोड़ रुपए की नकदी प्रचलन में थी जो 2018 में 18.5 लाख करोड़ हो गई थी। नोटबंदी के समय 2016 में बाजार में नकदी 17.97 लाख करोड़ थी जो अब बढकर 21.42 लाख करोड़ हो गई है।

प्रवक्ता ने सवाल किया कि नोटबंदी के बाद अगर नकदी का प्रचलन ढाई लाख करोड रुपए से ज्यादा बढ़ जाता है तो नोटबंदी कर लोगों को परेशान करने का क्या औचित्य था। श्री मोदी तब कैशलेस सोसायटी बनाने की बात करते थे लेकिन बाद में हुआ इसके ठीक उलट। आज प्रचलन में 21 लाख करोड़ से ज्यादा रुपए के नोट हैं और इतने अधिक नोट पहले कभी प्रचलन में नहीं रहे।

उन्होंने कहा कि यदि काला धन विदेशी बैंकों में जमा होना नहीं रुका, कालेधन का खात्मा नहीं हुआ, आतंकवाद का खात्मा नहीं हुआ और कैशलेस सोसायटी का निर्माण नहीं किया जा सका तो फिर किसलिए नोटबंदी की घोषणा की गयी थी। नोटबंदी की जो भी वजह सरकार ने बतायी थी वह हुआ ही नहीं है।

 

More News
विकास चौधरी की हत्या के दोषियों को सजा दिलाने की मांग की कांग्रेस ने

विकास चौधरी की हत्या के दोषियों को सजा दिलाने की मांग की कांग्रेस ने

27 Jun 2019 | 1:36 PM

नयी दिल्ली, 26 जून (वार्ता) कांग्रेस ने हरियाणा में पार्टी नेता विकास चौधरी की हत्या की कड़ी निंदा करते हुए इसकी निष्पक्ष जांच अौर दाेषियों को सजा देने की मांग की है।

see more..
दिल्ली में गर्मी से लोग बेहाल, न्यूनतम तापमान 28.6 डिग्री सेल्सियस

दिल्ली में गर्मी से लोग बेहाल, न्यूनतम तापमान 28.6 डिग्री सेल्सियस

27 Jun 2019 | 12:04 PM

नयी दिल्ली, 27 जून(वार्ता) राष्ट्रीय राजधानी में लोगाें को गुरुवार की सुबह से ही भयंकर गर्मी का सामना करना पड़ा।

see more..
संयुक्त राष्ट्र में देश की अस्थायी सदस्यता का समर्थन गर्व का विषय:नायडू

संयुक्त राष्ट्र में देश की अस्थायी सदस्यता का समर्थन गर्व का विषय:नायडू

27 Jun 2019 | 11:55 AM

नयी दिल्ली, 27 जून(वार्ता) उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने संयुक्त राष्ट्र के एशिया प्रशांत समूह के 55 सदस्य देशों के सर्वसम्मति से वर्ष 2020-21 के लिए भारत को सुरक्षा परिषद के अस्थायी सदस्य के रुप में समर्थन को देश के लिए गर्व का विषय बताया है ।

see more..
सुप्रीम कोर्ट ने लगाई सक्सेना की विदेश यात्रा पर रोक

सुप्रीम कोर्ट ने लगाई सक्सेना की विदेश यात्रा पर रोक

26 Jun 2019 | 10:28 PM

नयी दिल्ली, 26 जून ( वार्ता) उच्चतम न्यायालय ने अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर घोटाला मामले में आरोपी राजीव सक्सेना को इलाज के लिए विदेश जाने की अनुमति देने वाले दिल्ली उच्च न्यायालय के फैसले पर बुधवार को रोक लगा दी।

see more..
image