Friday, Sep 20 2019 | Time 13:15 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • एचपीएल की नाप्था इकाई में लगी भीषण आग
  • भाजपा ने सुप्रियाे के साथ हुई बदसलूकी पर ममता पर साधा निशाना
  • जरदारी और उनकी बहन पर भ्रष्टाचार मामले में चार अक्टूबर को तय होंगे आरोप
  • अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने के लिए सरकार के बड़े ऐलान: कंपनी कर दर घटाकर 22 फीसदी
  • अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने के लिए सरकार के बड़े ऐलान: कंपनी कर दर घटाकर 22 फीसदी
  • अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने के लिए सरकार के बड़े ऐलान: कंपनी कर दर घटाकर 22 फीसदी
  • दर्शकों के दिल में खास पहचान बनायी ताराचंद ने
  • दर्शकों के दिल में खास पहचान बनायी ताराचंद ने
  • दर्शकों के दिल में खास पहचान बनायी ताराचंद ने
  • बैडमैन के नाम से मशहूर है गुलशन ग्रोवर
  • बैडमैन के नाम से मशहूर है गुलशन ग्रोवर
  • बैडमैन के नाम से मशहूर है गुलशन ग्रोवर
  • अगले वर्ष मुन्नाभाई सीरीज की शूटिंग शुरू करेंगे संजय
  • अगले वर्ष मुन्नाभाई सीरीज की शूटिंग शुरू करेंगे संजय
  • अगले वर्ष मुन्नाभाई सीरीज की शूटिंग शुरू करेंगे संजय
भारत


नोटबंदी के बाद एक साल में विदेशी बैंकों में पहुंचे 7000 करोड़ : कांग्रेस

नोटबंदी के बाद एक साल में विदेशी बैंकों में पहुंचे 7000 करोड़  : कांग्रेस

नयी दिल्ली, 04 मई (वार्ता) कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि विदेशी बैंकों में जमा काले धन को वापस लाने की बात करने और कैशलेस समाज की बात करने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नोटबंदी के ऐलान के बाद एक साल में सात हजार करोड़ रुपए विदेशी बैंकों में जमा हुए हैं।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने शनिवार को यहां पार्टी मुख्यालय में संवाददाता सम्मेलन में कहा कि नोटबंदी के बाद बहुत बड़ा घोटाला हुआ है। सोशल मीडिया में इस संबंध में एक वीडियो चल रहा है जिसके एक दृश्य में भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) के दफ्तर का एक सुरक्षा अधिकारी कह रहा है कि उसे नोटों से भरी एक वैन को बिना जांच के अंदर आने के लिए पार्टी के कोषाध्यक्ष पीयूष गोयल का फोन आता है और वैन में लाया गया सारा कैश भाजपा दफ्तर की पहली मंजिल के स्ट्रांग रुम में जमा करा दिया जाता है।

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने नोटबंदी का मकसद कैशलेस को बढ़ावा देना बताया था लेकिन वह मकसद पूरा नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि रिजर्व बैंक के डाटा के अनुसार 2014 में 7.8 लाख करोड़ रुपए की नकदी प्रचलन में थी जो 2018 में 18.5 लाख करोड़ हो गई थी। नोटबंदी के समय 2016 में बाजार में नकदी 17.97 लाख करोड़ थी जो अब बढकर 21.42 लाख करोड़ हो गई है।

प्रवक्ता ने सवाल किया कि नोटबंदी के बाद अगर नकदी का प्रचलन ढाई लाख करोड रुपए से ज्यादा बढ़ जाता है तो नोटबंदी कर लोगों को परेशान करने का क्या औचित्य था। श्री मोदी तब कैशलेस सोसायटी बनाने की बात करते थे लेकिन बाद में हुआ इसके ठीक उलट। आज प्रचलन में 21 लाख करोड़ से ज्यादा रुपए के नोट हैं और इतने अधिक नोट पहले कभी प्रचलन में नहीं रहे।

उन्होंने कहा कि यदि काला धन विदेशी बैंकों में जमा होना नहीं रुका, कालेधन का खात्मा नहीं हुआ, आतंकवाद का खात्मा नहीं हुआ और कैशलेस सोसायटी का निर्माण नहीं किया जा सका तो फिर किसलिए नोटबंदी की घोषणा की गयी थी। नोटबंदी की जो भी वजह सरकार ने बतायी थी वह हुआ ही नहीं है।

 

More News
अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने के लिए सरकार के बड़े ऐलान: कंपनी कर दर घटाकर 22 फीसदी

अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने के लिए सरकार के बड़े ऐलान: कंपनी कर दर घटाकर 22 फीसदी

20 Sep 2019 | 12:31 PM

नयी दिल्ली,20 सितम्बर(वार्ता) देश की अर्थव्यवस्था की सुस्त पड़ी रफ्तार को गति पकड़ने के प्रयासों के तहत सरकार ने शुक्रवार को कई बड़े ऐलान किए। घरेलू कंपनियों और नयी घरेलू विनिर्माण कंपिनयों के लिए कंपनी करों में बड़ी कटौती की घोषणा की गई है। घरेलू कंपनियों के लिए कंपनी की दर बिना रियायत के 22 प्रतिशत की गई है।

see more..
अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए कंपनी कर में बड़ी कटौती का एलान

अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए कंपनी कर में बड़ी कटौती का एलान

20 Sep 2019 | 12:08 PM

नयी दिल्ली 20 सितंबर (वार्ता) अर्थव्यवस्था की सुस्त पड़ गयी रफ्तार को गति देने के लिए सरकार ने घरेलु कंपनियों और नयी घरेलु विनिर्माण कंपनियों के वास्ते कंपनी कर की दरों में बड़ी कटौती का एलान किया है।

see more..
image