Sunday, Sep 23 2018 | Time 07:44 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • नाइजीरिया में नौका से चालक दल के 12 सदस्यों का अपहरण
  • उ कोरिया को ईंधन देने वालों पर प्रतिबंध लगाया जाएगा : अमेरिका
  • साेमालिया में दो कार बम विस्फोट, दो घायल
  • तंजानिया नौका हादसे में मृतकों की संख्या 218 हुई
  • नन से दुष्कर्म के आरोपी बिशप की जमानत याचिका खारिज
  • सैन्य परेड पर हमले में अमेरिकी सहयोगियों का हाथ : खोमैनी
  • अमेरिकी सेना का 18 आतंकवादियों को मारने का दावा
भारत Share

अखौरा-अगरतला रेललिंक खुला

अखौरा-अगरतला रेललिंक खुला

नयी दिल्ली 10 सितंबर (वार्ता) भारत और बंगलादेश के बीच आज एक और रेल लिंक खुल गया। त्रिपुरा की राजधानी अगरतला से अखौरा (बंगलादेश) तक लगभग 15 किलोमीटर लंबे इस रेललिंक के खुलने से कोलकाता और अगरतला के बीच की दूरी लगभग 21 घंटे कम होने की संभावना है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और बंगलादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी तथा त्रिपुरा के मुख्यमंत्री विप्लव कुमार देब ने संयुक्त रूप से अगरतला-अखौरा रेललिंक, भेरामारा-बहरामपुर विद्युत ग्रिड इंटरकनेक्शन से 500 मेगावाट की आपूर्ति तथा कुलौरा-शाहबाजपुर रेलवे लाइन के पुनर्निर्माण का आज उद्घाटन किया। दिल्ली, कोलकाता एवं ढाका में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आयोजित इस कार्यक्रम में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और बंगलादेश के विदेश मंत्री अबुल हसन महमूद अली भी शामिल हुए।

इस अवसर पर श्री मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि पड़ोसी देशों के साथ ऐसे रिश्ते होने चाहिए कि एक दूसरे से नियमित बातचीत, मिलना-जुलना और आना-जाना होता रहे। उन्होंने श्रीमती हसीना के साथ अपने रिश्तों में इस प्रकार की गर्मजोशी का भी उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि श्रीमती हसीना भारत के साथ वैसी ही ‘कनेक्टविटी’ बहाल करना चाहती हैं जैसी 1965 के पहले थी। उन्होंने दोनों देशों के बीच बिजली की आपूर्ति की नयी लाइन और अखौरा अगरतला रेललाइन के खुलने पर प्रसन्नता व्यक्त की और कहा कि इससे दोनों देशों को लाभ होगा।

श्रीमती हसीना ने तीनों परियोजनाओं में भारत के सक्रिय सहयोग के लिए श्री मोदी को धन्यवाद दिया।

महज 15.5 किलोमीटर लंबी अखौरा रेल लाइन का 5.5 किलोमीटर भाग भारत में और 6.5 किलोमीटर हिस्सा बंगलादेश में है। इस पर लगभग 570 करोड़ रुपए की लागत आयी है। इस लाइन के चालू होने से अगरतला और कोलकाता के बीच रेलयात्रा की अवधि करीब 21 घंटे कम हो जाएगी। इस नई रेल लाइन से न केवल त्रिपुरा के लोगों को बल्कि मिजोरम के यात्रियों के लिए सुविधा होगी।

अभी तक इन दो शहरों के बीच रेल के सफर में 31 घंटे लगते हैं जिसमें ट्रेन 1600 किलोमीटर की दूरी तय करती है। वर्तमान में ट्रेन गुवाहाटी होते हुए कोलकाता जाती है जबकि नई रेल लाइन चालू होने के बाद ट्रेन ढाका होते हुए कोलकाता पहुंचेगी। इस मार्ग भारत में निश्चिंतपुर और बंगलादेश में गंगासागर में यात्रियों की सुरक्षा जांच होगी। यह रेलमार्ग कोलकाता और अगरतला के बीच मालवाहक का भी काम करेगा जिससे सामान एक तिहाई समय में लाया और ले जाया जा सकेगा। उन्होंने यह भी बताया की अगरतला में गुड्स ट्रांसपोर्ट यार्ड और इंटीग्रेटेड चेक पोस्ट भी भारत में ही बनने का प्रस्ताव है। इसकी लागत करीब 967.50 करोड़ होने का अनुमान है।

सचिन संजीव

वार्ता

More News
राफेल सौदे पर गलतबयानी कर रहे राहुल: अकबर

राफेल सौदे पर गलतबयानी कर रहे राहुल: अकबर

22 Sep 2018 | 10:22 PM

नयी दिल्ली 22 सितम्बर(वार्ता) भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) नेता एवं केंद्रीय विदेश राज्यमंत्री एम जे अकबर ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की यह कहते हुए खिंचायी की कि वह राफेल सौदे पर गलतबयानी कर रहे हैं और इसे दोहरा भी रहे हैं।

 Sharesee more..
चर्चा, बहस, असहमति लोकतंत्र के जरूरी पहलू : प्रणव

चर्चा, बहस, असहमति लोकतंत्र के जरूरी पहलू : प्रणव

22 Sep 2018 | 10:13 PM

नयी दिल्ली 22 सितम्बर (वार्ता) पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने आज कहा कि चर्चा, बहस और असहमति लोकतंत्र के आवश्यक पहलू हैं।

 Sharesee more..
सर्जिकल स्ट्राइक की वर्षगांठ पर ‘पराक्रम पर्व ’

सर्जिकल स्ट्राइक की वर्षगांठ पर ‘पराक्रम पर्व ’

22 Sep 2018 | 9:58 PM

नयी दिल्ली 22 सितम्बर (वार्ता) सरकार जम्मू-कश्मीर में सीमा पार आतंकवादी ठिकानों पर सेना की सर्जिकल स्ट्राइक की दूसरी वर्षगांठ पर देश भर में तीन दिन का ‘पराक्रम पर्व’ मनायेगी।

 Sharesee more..
‘भूटान के साथ आर्थिक सहयोग सशक्त बनाने को प्रतिबद्ध भारत’

‘भूटान के साथ आर्थिक सहयोग सशक्त बनाने को प्रतिबद्ध भारत’

22 Sep 2018 | 9:51 PM

नयी दिल्ली, 22 सितम्बर (वार्ता) भारत ने भूटान के साथ जारी आर्थिक सहयोग को और सशक्त बनाने के प्रति अपनी प्रतिबद्धता जतायी है, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शनिवार को उनसे मिलने राष्ट्रपति भवन आयी भूटान की रानी मां का स्वागत करते हुए कहा कि भारत पड़ोसी देश भूटान के साथ जारी आर्थिक सहयोग को और मजबूत बनाने को लेकर कटिबद्ध है।

 Sharesee more..
image