Sunday, Feb 17 2019 | Time 17:32 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • वसुंधरा ने शहीद के परिजनों को बंधाया ढांढस
  • विधानसभा का चार दिवसीय सत्र सोमवार से, अध्यक्ष ने लिया तैयारियों का जायजा
  • पाकिस्तान के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करे भारत : बादल
  • मादक पदार्थ विरोधी दस्ते ने पकड़ी लाखों की अफीम
  • तुर्की ने चार विदेशी संदिग्धों को हिरासत में लिया
  • मुरादाबाद- कश्मीरी छात्रों के बारे में छानबीन जारी
  • सरकारी चिकित्सा महाविद्यालयों में शिक्षकों के 153 पद भरने के लिए मंत्रिमंडल की स्वीकृति
  • शाह सोमवार को जयपुर आयेंगे
  • संजय तोमर और श्री सीमा बने ‘मैक्स लाइफ इंश्योरेंस - द रन’ के चैंपियन
  • पुल की रेलिंग तोड़ गहरे नाले में गिरी बस, तीन की मौत पचास घायल
  • पुलवामा हमले के दोषियों को बख्शा नहीं जायेगा: नकवी
  • सुरक्षा हमारे लिए कोई मसला नहीं : मीरवाइज
  • पंजाब कांग्रेस भवन में पुलवामा के शहीदों को दी गई श्रद्धांजलि
  • विश्वेन्द्र ने शहीद के परिजनों को बंधाया ढांढस
  • नारायणस्वामी का धरना पांचवे दिन भी जारी रहा
खेल Share

एशियाई बॉडी बिल्डिंग चैंपियनशिप दो अक्टूबर से पुणे में

एशियाई बॉडी बिल्डिंग चैंपियनशिप दो अक्टूबर से पुणे में

उज्जैन, 12 अगस्त (वार्ता) महाराष्ट्र के पुणे में आगामी 2 से 8 अक्टूबर तक 42वीं एशियाई बॉडी बिल्डिंग प्रतियोगिता आयोजित की जायेगी।

इंडियन बॉडी बिल्डर्स फेडरेशन के महासचिव चेतन पठारे ने रविवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि उज्जैन फेडरेशन का प्रदेश स्तरीय मुख्यालय है। पुणे में आयोजित होने वाली इस प्रतियोगिता के लिए पुरुष और महिला वर्ग में चयन ट्रॉयल यहां आयोजित किया गया जिसमें 31 पुरुष, 2 महिलाएं एवं 2 दिव्यांग वर्ग में शरीर साधकों ने सहभागिता की। चयनित शरीर साधक 31 अगस्त से 2 सितंबर तक रायपुर में आयोजित भारतीय टीम की चयन स्पर्धा में मध्य प्रदेश टीम का नेतृत्व करेंगे।

पठारे ने बताया कि पहली बार दो महिला बॉडी बिल्डर वंदना ठाकुर और सीमा शर्मा चैम्पियनशिप में हिस्सा लेंगी। इसके अलावा दिव्यांग बॉडी बिल्डर विशाल सिंह चौहान (उज्जैन) और रेहान लतीफ (भोपाल) भी चयनित किये गये।

उन्होंने कहा कि बॉडी बिल्डिंग के क्षेत्र में उज्जैन ने संपूर्ण भारत में पहचान स्थापित की है। यहां के युवा एवं संस्था बॉडी बिल्डिंग खेल में हब बनने की ताकत रखते है। प्रतिवर्ष यहां आयोजित होने वाली मेयर ट्रॉफी ने हिंदुस्तान के शरीर साधकों को नई पहचान दी है।

 

image