Tuesday, Sep 29 2020 | Time 19:58 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • नडाल जीते, प्लिसकोवा का करना पड़ा संघर्ष, मेदवेदेव बाहर
  • आंध्र में कोरोना रिकवरी दर 90 फीसदी के पार
  • कोयला खदानों की ऑनलाइन बोली 30 सितंबर से शुरू
  • सोनीपत जिले में मतदाताओं की संख्या 1086300 हुई
  • पुलिस महानिदेशक स्तर के आईपीएस अधिकारी पुरुषोत्तम शर्मा निलंबित
  • उद्योगजगत के लिए कोविड-19 सुरक्षित कार्यस्थल दिशा-निर्देश जारी
  • पाक सीमा पर मिला टैग लगा संदिग्ध हुबारा बर्ड़
  • 23 कोयला खदानों के लिए 46 कंपनियों ने लगायी बोली
  • आईपीएल क्रिकेट पर सट्टा लगाने के आरोप में सिरसा से तीन लोग गिरफ्तार
  • भारत की गिलगित-बाल्टिस्तान में चुनाव कराने की घोषणा पर आपत्ति
  • फिरोजाबाद के जुगनू हत्याकांण्ड़ का खुलासा, इनामी मुख्य हत्यारोपी गिरफ्तार
  • डरबन करेगा 2023 टेटे विश्व चैंपियनशिप की मेजबानी
  • दिल्ली ने जीता टॉस, पहले गेंदबाजी का फैसला
  • दिल्ली ने जीता टॉस, पहले गेंदबाजी का फैसला
  • सोनिया के निर्देश के तहत कानून बनायेेंगे: नारायणसामी
लोकरुचि


आस्ट्रेलिया और स्विटरजरलैंड की खूबसूरती को मात देती है चंबल घाटी

आस्ट्रेलिया और स्विटरजरलैंड की खूबसूरती को मात देती है चंबल घाटी

इटावा, 11 सितम्बर (वार्ता) दशकों तक कुख्यात डाकुओं की शरणस्थली के तौर पर कुख्यात रही चंबल घाटी की नैसर्गिक सुंदरता आस्ट्रेलिया और स्विटरजरलैंड के खूबसूरत पर्यटन स्थलो को भी मात देती है।

भारतीय वन सेवा के अधिकारी रहे इटावा के जिलाधिकारी जितेंद्र बहादुर सिंह ने चंबल घाटी की खूबसूरती के बारे में यूनीवार्ता को बताया कि पिछले दिनो वह भरेह स्थिति ऐतिहासिक किले का दीदार करने गये थे जिसके कुछ फोटोग्राफ उन्होने अपने मित्रो को भेजे। तस्वीरो को देखने के बाद मित्रों से प्रतिक्रिया मिली कि उन्हे ऐसा लगा कि वह आस्ट्रेलिया और स्विटरजरलैंड घूम रहे है। इस तरह के कमेंट एक दो नही कम से कम 20 लोगो की ओर से आये। साथी यह समझ नही पा रहे थे कि हिन्दुस्तान मे भी इतनी खूबसूरत जगह हो सकती है ।

उन्होने कहा कि चंबल की प्राकृतिक और ऐतिहासिक धरोहर को आज ना केवल सुरक्षित रखने की जरूरत है बल्कि उसको लोकप्रिय भी बनाना है। निश्चित तौर पर जो प्राकृतिक संपदा मिली है उसे ईको पर्यटन के तौर पर विकसित करके जिले को नई दिशा दी जा सकती है।

चंबल घाटी का नाम आते ही शरीर मे सिहरन दौड़ जाती है क्योंकि ज्यादातर लोग मानते है कि खौफ और दहशत का दूसरा नाम चंबल घाटी है जबकि हकीकत मे ऐसा नही है। चंबल मे ऊबड़ खाबड़ मिट्टी के पहाड़ों के बीच कलकल बहती चंबल नदी की सुंदरता की कोई दूसरी बानगी शायद ही देश भर मे कहीं और देखने को मिले। नदी सैकडों दुर्लभ जलचरो का आशियाना है जिसमें घडियाल,मगरमच्छ,कछुए,डाल्फिन के अलावा करीब ढाई से अधिक प्रजाति के पक्षी चंबल की खूबसूरती को चार चांद लगाते है।

उत्तराखंड और कश्मीर की सुंदर वादियों की तरह चंबल की नैसर्गिक सुंदरता किसी का मन मोह सकती है। कश्मीर और उत्तराखंड की सुदंरता देखने के लिये देश दुनिया भर से पर्यटक आते है लेकिन चंबल को अभी वह मुकाम हासिल नहीं हुआ है जिसका वाकई मे वो हकदार रहा है । पीले फूलों के लिए ख्याति प्राप्त रही यह वादी उत्तराखंड की पर्वतीय वादियों से कहीं कमतर नहीं है। अंतर सिर्फ इतना है कि वहां पत्थरों के पहाड़ हैं तो यहां मिट्टी के पहाड़ है। बीहड़ की ऐसी बलखाती वादियां समूची पृथ्वी पर अन्यत्र कहीं नहीं देखी जा सकतीं हैं। प्रकृति की इस अद्भुत घाटी को दुनिया भर के लोग सिर्फ और सिर्फ डकैतों की वजह से ही जानती है । यही कारण रहा कि चंबल की इन वादियों के प्रति बालीबुड भी मुंबई की रंगीनियों से हटकर इन वादियों की ओर आकर्षित हुए और डकैत, मुझे जीने दो, चंबल की कसम, डाकू पुतलीबाई जैसी फिल्मों ने दुनिया भर के दर्शकों का मनोरंजन किया।

इन डकैतों की गतिविधियों में प्रकृति द्वारा प्रदत्त की गई यह वादियां इस कदर कुख्यात हो गईं कि क्षेत्रीय लोग भी इसमें जाने का साहस नहीं जुटा सकते थे जबकि वास्तविकता यह है कि पूरी तरह से प्रदूषण रहित चंबल की नदी के पानी को गंगाजल से भी अधिक शुद्ध और स्वच्छ माना जाता है। चंबल की इन वादियों में अनगिनत ऐसी औषधियां भी समाहित है जो जीवनदान दे सकतीं हैं। यकीनन इन वादियों के इर्द-गिर्द रहने वाले युवकों को रोजगार तो मिलेगा ही बल्कि वादियों की दस्यु समस्या को भी सदा-सदा के लिए दूर किया जा सकेगा और चंबल की यह घाटी समृद्धि होकर विश्व पर्यटन के मानचित्र पर अपना नाम दर्ज कर सकेगी ।

चंबल घाटी से खासा लगाव रखने वाले मशहूर सिनेस्टार तिग्मांशु धूलिया की नजर में चंबल घाटी अमरीका के ग्रांड कैनीयन कम नही है लेकिन चंबल के बदलते मिजाज से परेशान घूलिया यह कहने से भी नही चूकते कि अगर समय रहते चंबल के लिये कुछ किया नही गया तो देश के बेहतरीन पर्यटन केंद्र को हम लोग खो देगे । मशहूर महिला डकैत फूलन देवी की जिंदगी पर बनी ख्यातिलब्ध फिल्म बैंडिट क्वीन की शूटिंग के दौरान चंबल से शुरू हुआ प्यार पानसिंह तोमर से होता हुआ बुलेट राजा ,रिवाल्वर रानी के बाद सोन चिरैया तक लगातार जारी है ।

उन्होने कहा “ सरकार को चंबल को पर्यटन मानचित्र में अहमियत दिलाने की दिशा में आगे बढना होगा। चंबल की घाटियाें को हम लोग रिवाइन्स बोलते है वो खत्म हो जायेगी अगर यही चीज किसी विदेश मे होती ना तो बहुत बडा टूरिस्ट स्पाॅट बन जाता अमेरिका मे जैसे ग्रांड कैनीयन है जहाॅ पर दुनिया भर के लोग जाते है ग्रांड कैनीयन को देखने के लिये । चंबल भी किसी ग्रांड कैनीयन से कम नही है और चंबल नदी हिन्दुस्तान की सबसे अच्छी सबसे साफ नदी है इतनी प्यारी इतनी खूबसूरत नदी चंबल । इसकी कोई दूसरी मिसाल नही है । ”

सं प्रदीप

वार्ता

 

More News
नन्हे घड़ियाल यमुना में भैंस की कर रहे हैं सवारी

नन्हे घड़ियाल यमुना में भैंस की कर रहे हैं सवारी

26 Sep 2020 | 9:33 PM

औरैया, 26 सितम्बर (वार्ता) उत्तर प्रदेश के औरैया जिले में रिजर्व सेंचुरी क्षेत्र (चंबल) से निकलकर यमुना नदी में आ आये घड़ियाल के बच्चे भैंस पर सवारी करते हुए देखे जा रहे हैं।

see more..
ताजमहल की तरह दुनिया को आकर्षित करेगी यूपी में फिल्म सिटी

ताजमहल की तरह दुनिया को आकर्षित करेगी यूपी में फिल्म सिटी

22 Sep 2020 | 7:32 PM

लखनऊ 22 सितम्बर (वार्ता) उत्तर प्रदेश में फिल्म सिटी के सिलसिले में विचार विमर्श के लिये लखनऊ आये फिल्मी दुनिया की हस्तियों ने एक सुर में कहा कि उन्हे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की क्षमता पर पूरा भरोसा है और हिन्दी भाषी राज्य में प्रस्तावित फिल्म सिटी सफलता के नये आयाम स्थापित करेगी।

see more..
फिल्मलैंड के लिए मुफीद है चंबल की वादियां

फिल्मलैंड के लिए मुफीद है चंबल की वादियां

22 Sep 2020 | 7:26 PM

इटावा , 22 सितंबर (वार्ता) उत्तर प्रदेश में फिल्मसिटी के निर्माण के लिये जारी कवायद के बीच इटावा के बाशिंदो काे भरोसा है कि नैसर्गिक सुंदरता की पर्याय चंबल घाटी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के फिल्मलैंड के सपने में चार चांद लगाने में मददगार साबित हो सकती हैं।

see more..
मथुरा के गया घाट में पिंडदान करने से पितरों को मिलता है मोक्ष

मथुरा के गया घाट में पिंडदान करने से पितरों को मिलता है मोक्ष

13 Sep 2020 | 5:03 PM

मथुरा 13 सितम्बर (वार्ता) पितृ पक्ष में ब्रजवासियों के साथ साथ देश के विभिन्न भागों के लोग गया जाने की जगह अपने पितरों के मोक्ष के लिए राधाकुण्ड में ‘गया घाट’ पर पिण्डदान करते हैं।

see more..
आस्ट्रेलिया और स्विटरजरलैंड की खूबसूरती को मात देती है चंबल घाटी

आस्ट्रेलिया और स्विटरजरलैंड की खूबसूरती को मात देती है चंबल घाटी

11 Sep 2020 | 7:31 PM

इटावा, 11 सितम्बर (वार्ता) दशकों तक कुख्यात डाकुओं की शरणस्थली के तौर पर कुख्यात रही चंबल घाटी की नैसर्गिक सुंदरता आस्ट्रेलिया और स्विटरजरलैंड के खूबसूरत पर्यटन स्थलो को भी मात देती है।

see more..
image