Wednesday, Sep 18 2019 | Time 21:01 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • बिहार सरकार विवि परीक्षा में स्वर्ण पदक प्राप्त करने वालों को 31 हजार से करेगी सम्मानित : नीतीश
  • योगी एवं धमेन्द्र प्रधान ने किया उर्वरक कारखाने का निरीक्षण
  • बैंस की अग्रिम जमानत अर्जी खारिज
  • ई-सिगरेट पर प्रतिबंध से स्वस्थ जीवन को बढ़ावा मिलेगा: हर्षवर्धन
  • बिहार भाजपा के नवनियुक्त अध्यक्ष संजय जायसवाल का पटना में भव्य स्वागत
  • बाबा जगन्नाथ सुरती वाले डेरे के महंत की हत्या, खेत से मिला शव
  • शिवानंद तिवारी के खिलाफ मानहानि मामले में संज्ञान
  • हत्या मामले में चाय दुकानदार को आजीवन कारावास
  • नाबालिग के साथ अप्राकृतिक यौनाचार एवं हत्या के मामले में दोषी को उम्रकैद
  • पंचायत चुनावों में आरक्षण देने की जनहित याचिका खारिज, सरकार को राहत
  • मुजफ्फरनगर में 12 तस्कर गिरफ्तार,एक करोड़ से अधिक की शराब आदि बरामद
  • सड़क हादसे में युवा किसान की मौत, भाई गम्भीर रूप से घायल
  • मोदी के विमान को अपने हवाई क्षेत्र से नहीं जाने देगा पाकिस्तान: कुरेशी
  • ऑस्कर में भारत की आधिकारिक प्रविष्टि होगा ‘मोती बाग’
दुनिया


जर्मनी और फ्रांस के की ब्रिटिश तेल टैंकर को रोके जाने की निंदा

जर्मनी और फ्रांस के की ब्रिटिश तेल टैंकर को रोके जाने की निंदा

लंदन 22 जुलाई (स्पूतनिक) जर्मनी के विदेश मंत्री हेइको मास तथा फ्रांस के विदेश मंत्री जीन यवेस ले ड्रियान ने ईरान द्वारा ब्रिटिश तेल टैंकर को रोके जाने की घटना की निंदा की है।

ब्रिटेन के विदेश मंत्रालय ने यह जानकारी रविवार को दी। विदेश मंत्रालय ने बताया कि विदेश मंत्री जेरेमी हंट ने फ्रांस के विदेश मंत्री जीन यवेस ले ड्रियान तथा जर्मनी के विदेश मंत्री हेइको मास से आज ईरान के सैनिकों द्वारा 19 जुलाई को होर्मुज के जलडमरूमध्य में ब्रिटिश जहाज के गैर कानूनी कब्जे में लेने की घटना को लेकर बात की। इस दौरान श्री हंट ने दोनों देशों के विदेश मंत्रियों को इस घटना को लेकर ब्रिटेन का समर्थन और सहयोग करने के लिए धन्यवाद दिया। श्री ले ड्रियान तथा श्री मास ने ईरान द्वारा ब्रिटेन के स्टेना इम्पेरो टैंकर को अपने कब्जे में लेने की घटना की निंदा की।

विदेश मंत्रालय के अनुसार बातचीत के दौरान तीनों नेताओं ने होर्मुज के जलडमरूमध्य में जहाजों के सुरक्षित परिवहन के साथ-साथ इस क्षेत्र में तनाव बढ़ने की किसी भी संभावना को रोकने को यूरोप के लिए सर्वोच्च प्राथमिक बताया।

गौरतबल है कि ईरान के रिवॉल्यूशनरी गार्ड कोर ने शुक्रवार को हार्मुज जलडमरूमध्य में अंतरराष्ट्रीय कानून का कथित तौर पर उल्लंघन करने को लेकर ब्रिटेन के स्टेना इम्पेरो टैंकर को गत शुक्रवार को जब्त कर कर लिया था। टैंकर पर भारत सहित विभिन्न देशों के चालक दल के 23 सदस्य सवार थे।

 

image