Tuesday, Feb 19 2019 | Time 08:26 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 20 फरवरी)
  • अमेरिका में तीन बच्चे सहित मृत पायी गयी महिला
  • अमेरिका में आपातकाल की घोषणा के विरोध में देश व्यापी प्रदर्शन
  • अल अजहर ने की नाइजीरिया में हुए आत्मघाती हमले की निंदा
  • मिस्र: बम विस्फोट में दो पुलिसकर्मी, एक आतंकवादी की मौत
  • सीरिया में आतंकवादी हमले में दो लोगों की मौत
  • तुर्की में यिल्दिरिम ने की इस्तीफा देने की घोषणा
  • इराक में आतंकवादियों ने की एक की हत्या और सात का अपहरण
  • यमन में सुरक्षा बलों के साथ झड़प में 10 हौती विद्रोही मारे गए
  • पुड्डुचेरी में बेदी से बातचीत के बाद नारायणसामी का धरना समाप्त
  • बिहार में 17 आईएएस अधिकारियों का तबादला
  • बेकाबू ट्रक की चपेट में आने से नौ लोगों की मौत, 22 घायल
  • भाजपा-शिवसेना गठबंधन ही महाराष्ट्र में ‘केवल विकल्प’: मोदी
भारत Share

पेट्रोल डीजल की कीमतों में वृद्धि के लिए कांग्रेस,भाजपा दोनों जिम्मेदार: मायावती

पेट्रोल डीजल की कीमतों में वृद्धि के लिए कांग्रेस,भाजपा दोनों जिम्मेदार: मायावती

नयी दिल्ली 11 सितंबर (वार्ता) बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष मायावती ने पेट्रोल और डीजल की कीमतों में लगातार वृद्धि के लिये कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी दोनों को जिम्मेदार ठहराते हुए आज कहा कि तेल कंपनियों की मनमानी रोकने के लिए पेट्रोलियम पदार्थों का बाजार सरकार को अपने नियंत्रण में लेना चाहिए।

सुश्री मायावती ने मंगलवार को यहां संवाददाताओं से कहा कि कल आयोजित किये गये भारत बंद के लिए कांग्रेस और भाजपा की सरकारों की आर्थिक नीतियां जिम्मेदार और कसूरवार हैं। इनकी आर्थिक नीतियों ने देश में ‘भारत बंद’ जैसे हालात पैदा कर दिये हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा ने सत्ता संभालने के मात्र छह महीने के भीतर ही पेट्रोल की तरह डीजल को भी सरकारी नियंत्रण से मुक्त कर दिया। कांग्रेस ने 2010 में पेट्रोल को नियंत्रण मुक्त किया था। बसपा प्रमुख ने कहा कि पेट्रोल- डीजल को सरकारी नियंत्रण से मुक्त करने के फैसले को बड़े आर्थिक सुधार के रुप में पेश किया गया जबकि यह गरीब और किसान विरोधी निर्णय था।

बसपा प्रमुख ने अारोप लगाया कि भाजपा की सरकार कांग्रेस की ही आर्थिक नीतियों को अागे बढ़ा रही है और नोटबंदी तथा वस्तु एवं सेवाकर जैसे जनविरोधी फैसले ले रही है। उन्हाेंने कहा कि सरकार को पेट्रोल और डीजल बाजार को अपने नियंत्रण में लेना चाहिए और सख्त नीति बनाकर तेल कंपनियों की मनमानी रोकनी चाहिए। उन्होंने कहा कि भारत जैसे देश में रसोई गैस, डीजल और पेट्रोल आदि बुनियादी वस्तुआें के बाजार पर सरकारी नियंत्रण तथा हस्तक्षेप जरुरी है जिससे देश में संविधान के अनुरुप कल्याणकारी शासन स्थापित हो सके।

सत्या अरुण

वार्ता

More News
महिला सुरक्षा के लिए कई योजनाओं की शुरूआत करेंगे राजनाथ

महिला सुरक्षा के लिए कई योजनाओं की शुरूआत करेंगे राजनाथ

18 Feb 2019 | 11:46 PM

नयी दिल्ली 18 फरवरी (वार्ता ) केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह मंगलवार को यहां महिलाओं की सुरक्षा के लिए अनेक योजनाओं की शुरूआत करेंगे।

 Sharesee more..
स्वच्छ यमुना के लिए 1387.71 करोड़ की परियोजनाएं स्वीकृत

स्वच्छ यमुना के लिए 1387.71 करोड़ की परियोजनाएं स्वीकृत

18 Feb 2019 | 11:36 PM

नयी दिल्ली, 18 फरवरी (वार्ता) सरकार ने गंगा को निर्मल बनाने के अपने महत्वाकांक्षी ‘नमामि गंगे’ कार्यक्रम के तहत यमुना तट पर बसे शहरों की गंदगी इसमें जाने से रोकने और इसे स्वच्छ बनाने के लिए 1387.71 करोड़ रुपये की परियोजनाएं स्वीकृत की है।

 Sharesee more..
जिला स्तर पर कारोबार के अनुकूल माहौल बनाने की योजना: प्रभु

जिला स्तर पर कारोबार के अनुकूल माहौल बनाने की योजना: प्रभु

18 Feb 2019 | 11:25 PM

नयी दिल्ली, 18 फरवरी (वार्ता) केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री सुरेश प्रभु ने सोमवार को कहा कि सरकार ने जिला स्तर पर कारोबार के अनुकूल माहौल बनाने के लिए एक योजना तैयार की है।

 Sharesee more..
image