Wednesday, Sep 26 2018 | Time 20:21 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • चार दिन के अभियान में गिर में दिखे 460 शेर, मृत शावकों में सीडी विषाणु नहीं
  • ओलम्पिक मेजबानी के लिए तैयार हो रही है अमरावती स्पोटर्स सिटी
  • राजीव रौतला ने जी बी पंत विश्वविद्यालय के कुलपति का कार्यभार संभाला
  • त्रिपुुुरा के धलाई जिले में मलेरिया का प्रकोप बढ़ा
  • आधार पर शीर्ष न्यायालय का फैसला आम लोगाें के लिए बड़ी राहत :ममता
  • आभूषण, रिफ्रिजरेटर, वाशिंग मशीन, फुटवेयर होंगे महँगे
  • ---
  • धार्मिक मेले के दौरान जहरीला दाना खाने से 30 मोर मरे
  • खेल उपकरणों की खरीद के लिये 50 करोड़ रूपये मंजूर
  • आतंकी फंडिंग मामला: दिल्ली से तीन गिरफ्तार, डेढ करोड रूपये बरामद-एनआईए
  • दूरबीन लेकर ढूंढने जैसी कांग्रेस की स्थिति-शाह
  • हरियाणा में खेल उपकरणों की खरीद के लिये 50 करोड़ मंजूर
  • झारखंड सरकार का पर्यावरण अनुकूल विकास पर जोर : रघुवर
  • हाईकोर्ट ने स्टेशनों पर भीख मांगने वालों के खिलाफ सख्त कदम उठाने को कहा
भारत Share

पेट्रोल डीजल की कीमतों में वृद्धि के लिए कांग्रेस,भाजपा दोनों जिम्मेदार: मायावती

पेट्रोल डीजल की कीमतों में वृद्धि के लिए कांग्रेस,भाजपा दोनों जिम्मेदार: मायावती

नयी दिल्ली 11 सितंबर (वार्ता) बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष मायावती ने पेट्रोल और डीजल की कीमतों में लगातार वृद्धि के लिये कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी दोनों को जिम्मेदार ठहराते हुए आज कहा कि तेल कंपनियों की मनमानी रोकने के लिए पेट्रोलियम पदार्थों का बाजार सरकार को अपने नियंत्रण में लेना चाहिए।

सुश्री मायावती ने मंगलवार को यहां संवाददाताओं से कहा कि कल आयोजित किये गये भारत बंद के लिए कांग्रेस और भाजपा की सरकारों की आर्थिक नीतियां जिम्मेदार और कसूरवार हैं। इनकी आर्थिक नीतियों ने देश में ‘भारत बंद’ जैसे हालात पैदा कर दिये हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा ने सत्ता संभालने के मात्र छह महीने के भीतर ही पेट्रोल की तरह डीजल को भी सरकारी नियंत्रण से मुक्त कर दिया। कांग्रेस ने 2010 में पेट्रोल को नियंत्रण मुक्त किया था। बसपा प्रमुख ने कहा कि पेट्रोल- डीजल को सरकारी नियंत्रण से मुक्त करने के फैसले को बड़े आर्थिक सुधार के रुप में पेश किया गया जबकि यह गरीब और किसान विरोधी निर्णय था।

बसपा प्रमुख ने अारोप लगाया कि भाजपा की सरकार कांग्रेस की ही आर्थिक नीतियों को अागे बढ़ा रही है और नोटबंदी तथा वस्तु एवं सेवाकर जैसे जनविरोधी फैसले ले रही है। उन्हाेंने कहा कि सरकार को पेट्रोल और डीजल बाजार को अपने नियंत्रण में लेना चाहिए और सख्त नीति बनाकर तेल कंपनियों की मनमानी रोकनी चाहिए। उन्होंने कहा कि भारत जैसे देश में रसोई गैस, डीजल और पेट्रोल आदि बुनियादी वस्तुआें के बाजार पर सरकारी नियंत्रण तथा हस्तक्षेप जरुरी है जिससे देश में संविधान के अनुरुप कल्याणकारी शासन स्थापित हो सके।

सत्या अरुण

वार्ता

More News
‘नागराज’ फैसले की समीक्षा की आवश्यकता नहीं : सुप्रीम कोर्ट

‘नागराज’ फैसले की समीक्षा की आवश्यकता नहीं : सुप्रीम कोर्ट

26 Sep 2018 | 8:07 PM

नयी दिल्ली, 26 सितम्बर (वार्ता) उच्चतम न्यायालय ने अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति (एससी/एसटी) के सरकारी कर्मचारियों के पदोन्नति में आरक्षण से संबंधित 2006 के ‘नागराज’ फैसले को बुधवार को बरकरार रखा।

 Sharesee more..
लोकसभा चुनाव में वीवीपैट मशीनें उपलब्ध होंगी: चुनाव आयोग

लोकसभा चुनाव में वीवीपैट मशीनें उपलब्ध होंगी: चुनाव आयोग

26 Sep 2018 | 7:53 PM

नयी दिल्ली, 26 सितम्बर (वार्ता) चुनाव आयोग ने इन आशंकाओं को निराधार बताया है कि वह आगामी लोकसभा के चुनाव में वोटर वेरिफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल (वीवीपैट) मशीनों को पूरी तरह उपलब्ध नहीं करा पायेगा।

 Sharesee more..
image