Tuesday, Sep 25 2018 | Time 18:12 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • दक्षिण-पश्चिम मानसून असम और मेघालय में अति सक्रिय
  • जनता की अपेक्षाएं निष्पक्षता के साथ हो पूरी : नीतीश
  • रक्षा सौदों में दलाली लेता रहा है गांधी परिवार -भाजपा
  • पाइप लाइन से ऑयल चोरी मामले में तीन गिरफ्तार
  • वीडीसी सदस्य ने पत्नी समेत स्वयं को गोली मारी
  • कश्मीर में पंचायत घर में आग लगने का आठवां मामला
  • स्वत: संज्ञान का अधिकार खंडपीठ को नहीं : ए राजा
  • आईटीओ, मुकरबा चौक पर लगा प्रदूषण कम करने वाला यंत्र
  • रुपया छह पैसे टूटा
  • फेयरसेंटडॉटकॉम की व्यक्तिगत ब्याज दरों में कमी
  • कमेन्टेटर जसदेव सिंह का निधन
  • मोदी बताएं, राफेल में किसको हुआ फायदा : कांग्रेस
  • नीतीश ने छात्र की मौत पर जताया गहरा शोक
दुनिया Share

कंजरवेटिव पार्टी सांसदों को सुश्री मे के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव की उम्मीद नहीं

कंजरवेटिव पार्टी सांसदों को सुश्री मे के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव की उम्मीद नहीं

लंदन,10 जुलाई(रायटर) यूराेपीय संघ से ब्रिटेन के बाहर होने के मसले(ब्रेग्जिट) पर ब्रिटिश सरकार के दो मंत्रियों के इस्तीफे के बाद कंजरवेटिव पार्टी सांसदों का मानना है कि प्रधानमंत्री थेरेसा मे की सरकार के समक्ष कोई चुनौती नहीं है और उनके खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाए जाने की कोई संभावना भी दिखाई नहीं देती है।

गौरतलब है कि सुश्री मे के इस योजना से जुड़े प्रस्ताव के विरोध में विदेश मंत्री बोरिस जानसन और ब्रेग्जिट मामलों के मंत्री डेविड डेविस ने अपने पदों से इस्तीफा दे दिया है।

पार्टी अध्यक्ष ब्रानडेन लेविस और अन्य सांसदों को मानना है कि इसके बावजूद उन्हें नहीं लगता है कि सुश्री मे के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाया जाएगा।

इंगलैंड और वेल्स के महाधिवक्ता राबर्ट बकलैंड ने पत्रकारों को बताया“ सत्ता को चुनौती देने वाला एेसा कोई भी सवाल मेरे लिहाज से खिड़की से बाहर कर दिया है और ऐसा कुछ भी नहीं है। उनके नेतृत्व को कोई चुनौती नहीं है और उनकी सरकार पूरी तरह सुरक्षित हैं।”

जितेन्द्र

रायटर

More News
इमरान भारत के साथ बातचीत कैसे कर सकते हैं: विपक्षी दल

इमरान भारत के साथ बातचीत कैसे कर सकते हैं: विपक्षी दल

25 Sep 2018 | 3:21 PM

इस्लामाबााद 25 सितम्बर (वार्ता) पाकिस्तान में विपक्षी दलों ने प्रधानमंत्री इमरान खान की भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से द्विपक्षीय वार्ता करने के प्रस्ताव को लेकर कड़ी आलोचना की है।

 Sharesee more..
image