Wednesday, Jul 24 2019 | Time 07:48 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पूर्व सेना प्रमुख एस्पर ने ली अमेरिका के रक्षा मंत्री पद की शपथ
  • पाकिस्तान के क्वेटा में विस्फोट, दो की मौत, 25 घायल
  • कनाडा में सड़क हादसे में 69 लोग घायल
  • नाइजीरिया में सेना ने 78 सशस्त्रधारियों को मार गिराया
  • छह यूरोपीय देशों ने की फिलिस्तीनियों के घरों को तोड़े जाने की निंदा
  • सड़क हादसे में चार तीर्थ यात्रियों की मौत, दो घायल
  • कर्नाटक में भाजपा की सत्ता में वापसी
  • कर्नाटक में लोकतंत्र की हार, लालच की जीत हुई: राहुल
भारत


दाल में कुछ काला जरूर है : कांग्रेस

दाल में कुछ काला जरूर है : कांग्रेस

नयी दिल्ली, 09 सितम्बर (वार्ता) कांग्रेस ने राफेल विमान सौदे की जांच के लिए संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) गठित करने या इस पर चर्चा कराने से पीछे हटने को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार की तीव्र आलोचना करते हुए आज कहा कि इससे साबित होता है कि ‘दाल में कुछ काला’ जरूर है।

पार्टी के वरिष्ठ प्रवक्ता अजय माकन ने मुख्यालय में आयोजित विशेष संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘मोदी सरकार राफेल सौदे को लेकर न तो संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) की जांच चाहती है, न कोई चर्चा। इसका सीधा मतलब है कि दाल में कुछ काला जरूर है। वर्ष 2014 के आम चुनाव में श्री मोदी के लिए भ्रष्टचार पर लगाम लगाना मुख्य नारा था, लेकिन अब वह जनता के मुद्दे से दूर हो रहे हैं।”

मोदी सरकार में पेट्रोल और डीजल पर उत्पाद शुल्क में बेतहाशा बढ़ोतरी का जिक्र करते हुए श्री माकन ने कहा, “वर्ष 2014 के बाद अब तक पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क में 211.7 प्रतिशत की वृद्धि की जा चुकी है और संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार की तुलना में उत्पाद शुल्क दो रुपये 20 पैसे से बढ़कर 19 रुपये 48 पर पहुंच गया है। इसी प्रकार डीजल के उत्पाद शुल्क में 433 प्रतिशत की वृद्धि हुई है और यह तीन रुपये 46 पैसे से बढ़कर 15 रुपये 33 पैसे तक पहुंच गया है। इतना ही नहीं, डॉलर की तुलना में रुपये की कीमत भी 73 रुपये के पार पहुंच गयी है।”

उन्होंने पूछा कि संप्रग सरकार में एक डॉलर की कीमत 60 रुपये से पार करते ही श्री मोदी कहते थे रुपया आईसीयू में पहुंच गया है, लेकिन अब तो यह 73 रुपये के पार पहुंच गयी है, इस पर रोक के लिए सरकार क्या कर रही है? उन्होंने पेट्रोल और डीजल को वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के दायरे में लाने की मांग करते हुए कहा कि इससे तत्काल इन पेट्रोलियम उत्पादों की कीमत 15 से 18 रुपये प्रति लीटर नीचे आ जायेगी। उन्होंने कहा, “सरकार ने 11 लाख करोड़ रुपये पिछले चार वर्ष में उत्पाद शुल्क के माध्यम से कमाये हैं। सरकार ने आम आदमी की जेब पर डाका डालकर अपना खजाना भरा है।”

सुरेश टंडन

जारी वार्ता

More News
कुमारस्वामी सरकार का हटना कर्नाटक की जनता के लिए खुशखबरी: भाजपा

कुमारस्वामी सरकार का हटना कर्नाटक की जनता के लिए खुशखबरी: भाजपा

24 Jul 2019 | 12:02 AM

नयी दिल्ली 23 जुलाई (वार्ता) कर्नाटक में कांग्रेस - जनता दल यूनाइटेड सरकार के विश्वास मत में हार जाने के बाद भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने कहा कि राज्य के लोगों के लिए एक भ्रष्ट और अवैधानिक गठबंधन के सत्ता से हटना एक बड़ी खुशखबरी है।

see more..
वन प्रबंधन में स्थानीय लोगों की भागीदारी आवश्यक: कोविंद

वन प्रबंधन में स्थानीय लोगों की भागीदारी आवश्यक: कोविंद

23 Jul 2019 | 11:22 PM

नयी दिल्ली, 23 जुलाई (वार्ता) राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने स्थानीय लोगों की प्रभावी भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए संरक्षण के प्रयासों के साथ आजीविका के अवसरों को जोड़ने की मंगलवार को आवश्यकता जतायी।

see more..
दलित मुस्लिम आरक्षण की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट का घेराव

दलित मुस्लिम आरक्षण की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट का घेराव

23 Jul 2019 | 11:15 PM

नयी दिल्ली, 23 जुलाई (वार्ता) ऑल इंडिया यूनाइटेड मुस्लिम मोर्चा ने दलित मुस्लिम आरक्षण की मांग को लेकर मंगलवार को उच्चतम न्यायालय के समक्ष प्रदर्शन किया।

see more..
राजनाथ ने एनसीसी कैडेटों के पुरस्कारों की संख्या और राशि बढायी

राजनाथ ने एनसीसी कैडेटों के पुरस्कारों की संख्या और राशि बढायी

23 Jul 2019 | 10:54 PM

नयी दिल्ली 23 जुलाई (वार्ता) रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने राष्ट्रीय कैडेट कोर (एनसीसी) के कैडेटों को विभिन्न श्रेणियों में दिये जाने वाले पुरस्कारों और इनकी राशि में बढोतरी को आज मंजूरी दे दी।

see more..
जलवायु परिवर्तन पर लक्ष्य से बेहतर कर सकता है भारत : एल्बा

जलवायु परिवर्तन पर लक्ष्य से बेहतर कर सकता है भारत : एल्बा

23 Jul 2019 | 10:47 PM

नयी दिल्ली 23 जुलाई (वार्ता) अमेरिका के न्यूयॉर्क में सितम्बर में होने वाली जलवायु शिखर बैठक के लिए संयुक्त राष्ट्र महासचिव के दूत लूई एल्फोंसो डी एल्बा ने कहा है कि जलवायु परिवर्तन पर भारत अपने मूल लक्ष्य से भी बेहतर प्रदर्शन कर सकता है।

see more..
image