Friday, Sep 21 2018 | Time 20:55 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • जडेजा की जबरदस्त वापसी, भारत ने बंगलादेश को 173 पर रोका
  • बिटक्वाइन पॉन्जी स्कीम के मामले में 42 88 करोड़ की संपत्ति कुर्क
  • करजई ने जलियांवाला बाग में शहीदों को दी श्रद्धांजलि
  • विश्व शांति दिवस पर मानव श्रंखला बना दिया शांति का संदेश
  • कश्मीर के बांदीपोरा में मुठभेड़, पांच आतंकवादी ढेर
  • राफेल पर सरकार के झूठ का पर्दाफाश : कांग्रेस
  • दक्षिण पश्चिम मानसून गांगेय पश्चिम बंगाल में अति सक्रिय
  • छत्तीसगढ़ में पूर्व पुलिस महानिदेशक समेत 17 अधिकारी भाजपा में शामिल
  • ओलांद के बयान की सच्चाई का पता लगा रही है सरकार
  • मोदी सरकार का कौशल विकास बन गया घोटाला : कांग्रेस
  • भारत ने जीते 3 स्वर्ण सहित 7 पदक
  • भारत ने जीते 3 स्वर्ण सहित 7 पदक
  • सर्जिकल स्ट्राइक दिवस पर उठा विवाद,सरकार ने किया बचाव
  • एससी एसटी एक्ट के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे सवर्णों पर लाठीचार्ज
लोकरुचि Share

सौ साल की हथिनी का नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज कराने के प्रयास

सौ साल की हथिनी का नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज कराने के प्रयास

पन्ना, 12 अगस्त (वार्ता) मध्यप्रदेश के प्रसिद्ध पन्ना टाइगर रिजर्व की धरोहर बन चुकी दुनिया की सबसे उम्रदराज मानी जाने वाली लगभग एक साै साल की हथिनी 'वत्सला' का नाम गिनीज बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज कराने के प्रयास शुरू हो गये हैं। हथिनी वत्सला के जन्म का पूरा रिकॉर्ड केरल प्रान्त के नीलांबुर फारेस्ट डिवीज़न से मंगाया जा रहा है।

प्रदेश के प्रधान मुख्य वन संरक्षक (वन्य प्राणी) शहवाज अहमद ने कल यहां अपने तीन दिवसीय पन्ना दौरे के समापन के बाद यूनीवार्ता से चर्चा के दौरान यह जानकारी दी। हथिनी के स्वास्थ्य पर भी विशेष ध्यान रखा जा रहा है।

केरल के नीलांबुर फारेस्ट डिवीज़न में जन्मी व पली-बढ़ी यह हथिनी 1972 में वहां से मध्यप्रदेश के होशंगाबाद के बोरी अभयारण्य में लाई गई थी। इसके बाद वहां से यह हथिनी वर्ष 1992 में पन्ना टाइगर रिज़र्व पहुंची। तभी से यह यहां की शोभा बढ़ा रही है।

लगभग सौ वर्ष की उम्र पार कर चुकी हथिनी वत्सला का उपयोग पन्ना टाइगर रिज़र्व में पूरे डेढ़ दशक तक यहां आने वाले पर्यटकों को बाघों का दीदार कराने के लिए किया जाता रहा है। लेकिन अत्याधिक उम्रदराज होने के कारण इसे आराम की जिंदगी गुजारने के लिए कुछ वर्ष पहले सेवानिवृत (रिटायर) कर दिया गया। रिटायरमेंट के बाद से हथिनी वत्सला की पूरी देखरेख की जा रही है। उम्र को देखते हुए वत्सला को जहां सुगमता से पचने वाला आहार दिया जाता है, वहीं नियमित रूप से स्वास्थ्य परीक्षण भी कराया जाता है।

पन्ना टाइगर रिज़र्व के वन्य प्राणी चिकित्सक डॉ एस के गुप्ता ने बताया कि टाइगर रिज़र्व के ही एक हाथी ने वर्ष 2003 और 2008 में दो बार प्राणघातक हमला कर हथिनी को गंभीर रूप से घायल कर दिया था। मदमस्त नर हाथी ने दांतों से प्रहार कर वत्सला का पेट चीर दिया था। बेहतर उपचार और सेवा से इस बुजुर्ग हथिनी को मौत के मुंह में जाने से बचा लिया गया था। मौजूदा समय यह हथिनी देशी व विदेशी पर्यटकों लिए जहां आकर्षण का केंद्र है, वहीं पन्ना टाइगर रिज़र्व के लिए भी किसी अनमोल धरोहर से कम नहीं है।

श्री अहमद ने बताया कि वत्सला का जन्म रिकॉर्ड नीलांबुर से मंगाने के निर्देश उन्होंने दिए हैं। यदि जरूरत पड़ी तो पन्ना टाइगर रिज़र्व के वन्य प्राणी चिकित्सक डॉ संजीव गुप्ता को रिकॉर्ड लाने के लिए नीलांबुर भेजा जाएगा। ताकि वत्सला की उम्र कितनी है, इसकी प्रामाणिक रूप से पुष्टि हो सके। वत्सला के शतायु होने का पन्ना में उत्सव मनाने के साथ ही गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में नाम दर्ज कराने की भी पहल की जाएगी, जिससे वत्सला को दुनिया की सबसे बुज़ुर्ग हथिनी का गौरव हासिल हो सके।

डॉ गुप्ता का कहना है कि दुनिया में अमूमन हाथी और हथिनियों की उम्र अधिकतम पच्चासी या नब्बे वर्ष ही रही है। फिलहाल एक सौ वर्ष पुरानी हथिनी को लेकर कहीं भी रिकार्ड नहीं है।

सं प्रशांत

वार्ता

More News

पिता से प्रेरणा लेते हैं शाहिद कपूर

20 Sep 2018 | 3:07 PM

 Sharesee more..
मुर्हरम पर मजहबी सदभाव का प्रतीक है इटावा की “लुट्टस” परम्परा

मुर्हरम पर मजहबी सदभाव का प्रतीक है इटावा की “लुट्टस” परम्परा

19 Sep 2018 | 4:13 PM

इटावा, 19 सितम्बर (वार्ता) यमुना नदी के किनारे बसा उत्तर प्रदेश का इटावा शहर यूं तो सांप्रदायिक सद्भाव की मिसाल पेश करता ही है लेकिन मुहर्रम के दिन निभायी जाने वाली “ लुट्टस परम्परा” इसमें चार चांद लगा देती है।

 Sharesee more..
जब विघ्नहर्ता बने थे अंग्रेजों के खिलाफ आजादी के मतवालों के हथियार

जब विघ्नहर्ता बने थे अंग्रेजों के खिलाफ आजादी के मतवालों के हथियार

12 Sep 2018 | 3:55 PM

इलाहाबाद, 12 सितम्बर (वार्ता) ब्रितानी हुकूमत की गुलामी की जंजीरों से देश को आजाद करने के लिये फड़फड़ा रहे क्रांतिकारियों ने गणेशोत्सव को हथियार के तौर पर इस्तेमाल किया था।

 Sharesee more..
शिराज-ए-हिन्द के मोहर्रम में हिन्दू भी करते हैं मजलिस

शिराज-ए-हिन्द के मोहर्रम में हिन्दू भी करते हैं मजलिस

09 Sep 2018 | 12:35 PM

जौनपुर, 09 सितम्बर (वार्ता) शिराज-ए-हिन्द जौनपुर के मोहर्रम में सिर्फ शिया मुसलमान ही नहीं बल्कि हिन्दू भी मजलिस और मातम में शामिल होकर गंगा जमुनी संस्कृति की अनूठी मिसाल पेश करते हैं।

 Sharesee more..
कान्हा को दर्शन को उमड़े गोकुलवासी

कान्हा को दर्शन को उमड़े गोकुलवासी

04 Sep 2018 | 4:26 PM

मथुरा, 04 सितम्बर (वार्ता) ब्रजवासियों के कान्हा और आमजन के श्यामसुन्दर के गोकुल पहुंचने की खुशी में मंगलवार को गोकुलवासियों ने पलक पांवड़े बिछा दिए। शहनाई और नगाड़ों की ध्वनि के बीच गोकुलवासी झूम उठे।

 Sharesee more..
image