Saturday, May 30 2020 | Time 08:49 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • लॉकडाउन में कोरोना मरीजों का तनाव दूर किया किताबों ने
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 31 मई)
  • मेक्सिको में कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा 9415 पहुंचा
  • चीन में कोरोना के चार नए मामले सामने आए
  • ठाणे के भाजपा निगम पार्षद का निधन
  • ब्राजील में कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा 27878 पहुंचा
  • फ्रांस में कोरोना से 52 और लोगों की मौत
  • ओमान में कोरोना के 811 नए मामले, कुल 9820 संक्रमित
  • न्यूजीलैंड के विटियांगा में भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए
  • ट्यूनीशिया ने स्टेट ऑफ इमरजेंसी छह महीने तक बढ़ायी
  • डब्ल्यूएचओ के साथ संबंध खत्म करेगा अमेरिका : ट्रंप
  • मोरक्को के पूर्व प्रधानमंत्री एबदर्रहमान यूसुफ़ि का निधन
  • मोरक्को में 1 54 टन गांजा बरामद, चार गिरफ्तार
  • पाकिस्तान में 30 मई से शुरु होगी अंतरराष्ट्रीय उड़ानें : प्रशासन
  • मेघालय में दो भाई नदी में डूबे
लोकरुचि


नंदी पर सवार शिवलिंग के जलाभिषेक के लिये केदारेश्वर मंदिर में लगता है भक्तों का तांता

नंदी पर सवार शिवलिंग के जलाभिषेक के लिये केदारेश्वर मंदिर में लगता है भक्तों का तांता

झांसी 05 अगस्त (वार्ता) उत्तर प्रदेश में झांसी जिले की मऊरानीपुर तहसील में एक ऐसा शिव मंदिर स्थित है जहां स्थापित दुर्लभ शिवलिंग पर जलाभिषेक के लिए श्रावण मास में भक्तों का बड़ा जमावडा लगता है।

मऊरानीपुर तहसील से लगभग आठ किलोमीटर दूर रौनी गांव में एक ऊंची पहाड़ी पर बना केदारेश्वर मंदिर सावन के महीने में शिव भक्तों से पट जाता है क्योंकि यह मंदिर देशभर के उन दुर्लभ मंदिरों में से है जहां भगवान शिव, लिंग के रूप में एक अलग ही पहचान लिये हुए हैं। इस मंदिर में शिवलिंग नंदी की पीठ पर स्थापित है और इस शिवलिंग की यही विशेषता इसे दुर्लभ बनाती है। श्रावण मास में दूर दूर से जल लाकर कांवडिये केदारेश्वर धाम पर जलाभिषेक करते हैं। पुरातत्व विभाग भी इस मंदिर में स्थापित शिवलिंग की दुर्लभता और मंदिर की प्राचीनता का व्याख्यान करता है।

क्षेत्रीय पुरातत्व अधिकारी डा़ एस के दुबे ने बताया कि यह मंदिर दसवी शताब्दी का है। इसे चंदेलकाल में बनाया गया। इतना प्राचीन होने के बाद भी मंदिर काफी अच्छी स्थिति में है। उन्होंने बताया कि पुरातत्व विभाग ने वर्ष 2001 में इस मंदिर के इतिहास और विशेषता जानने के लिए शोध किया था। शोध में यह पता चला कि मंदिर का निर्माण दसवीं सदी में किया गया है। यह भूतल से लगभग 200 मीटर ऊंची पहाड़ी पर स्थित है।

मंदिर के निर्माण में सैंड स्टोन का इस्तेमाल किया गया है। नायाब मूर्तिकला और नक्काशी इस मंदिर की विशेषता है। मंदिर का दरवाजा पत्थर का है और इस पर बेहद सुंदर नक्काशी की गयी है। मंदिर के गर्भगृह में स्थित नंदी की प्रतिमा की पीठ पर शिव लिंग बना है और गर्भगृह की छत पर कमल के फूलों की सुदंर नक्काशी है।

डा़ दुबे ने बताया कि नंदी की पीठ पर स्थापित शिवलिंग बुंदेलखंड में एक दाे जगहों पर ही मिले हैं। झांसी के अलावा बंगरा और कलिंजर ही में शिव इस रूप में मंदिर में विद्यमान हैं। बुंदेलखंड में और विशेषकर झांसी में बहुत कम ही मंदिर ऐसे बचे हैं जिन में इतनी शानदार नक्काशी की गयी हो। मंदिर न केवल दुर्लभ शिवलिंग बल्कि अपनी शानदार स्थापत्य कला और प्राकृतिक सौंदर्य के कारण भी दर्शनीय है।

पूरे इलाके में सबसे ऊंची पहाड़ी पर बने इस मंदिर की छटा देखते ही बनती है। इसके आसपास का प्राकृतिक सौंदर्य भी अप्रतिम है ,इस कारण झांसी और खजुराहो के बीच यह स्थान एक महत्वपूर्ण पर्यटन स्थल के रूप में विकसित हो सकता है। इस स्थान में पर्यटन स्थल के रूप में विकसित होने की पूरी संभावना है। उन्होंने बताया कि संभव है कि कभी यह मंदिर एक महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल रहा हो।

इस मंदिर से जुड़ी कई स्थानीय मान्यताएं भी हैं। लोगों का मानना है कि मंदिर मे कोई इंसान कभी पहली पूजा नहीं कर पाता । सुबह के समय जब मंदिर के कपाट खोले जाते हैं तब ऐसा प्रतीत होता है कि कोई अदृश्य शक्ति पहले ही पूजा करके जा चुकी है । कुछ बुजुर्गों का कहना है कि मंदिर में भगवान शिव की पूजा सबसे पहले आल्हा ऊदल करके चले जाते हैं। वह भोर के समय घोडे पर सवार होकर मंदिर में आते हैं। कई लोगों ने मंदिर के पास रात को घोड़ों की टापों की आवाज सुनायी देने का भी दावा किया है।

इन सभी दावों के बीच इतना तो निश्चित है कि प्राचीन कालीन इस मंदिर मे न केवल दुर्लभ शिवलिंग मौजूद है जो बड़ी संख्या में लोगों की आस्था से जुडा है बल्कि इस इलाके में युवाओं को रोजगार मुहैया कराने के लिए पर्यटन स्थल के रूप में भी विकसित होने की भी पूरी संभावना है।

More News
लॉकडाउन में गुम हुयी खुशियों पर बजने वाली किन्नरों की ताली

लॉकडाउन में गुम हुयी खुशियों पर बजने वाली किन्नरों की ताली

29 May 2020 | 9:41 PM

पटना 26 मई (वार्ता) मांगलिक कार्यों के दौरान लोगों के घरों में जा कर नाचने-गाने और आशीर्वाद देकर आजीविका कमाने वाले किन्नरों की तालियां लॉकडाउन में गुम हो गयी है।

see more..
लाकडाउन ने नट समुदाय को समझाया जड़ का महत्व

लाकडाउन ने नट समुदाय को समझाया जड़ का महत्व

29 May 2020 | 9:39 PM

मुरादाबाद 26 मई (वार्ता) वैश्विक महामारी कोविड-19 के कारण जारी लाकडाउन ने लोगों के जीने के अंदाज को बदल दिया है और इसमें नट समुदाय भी अछूता नहीं है।

see more..
कई कारोबारियों के बिजनेस पार्टनर है ‘ठाकुर’

कई कारोबारियों के बिजनेस पार्टनर है ‘ठाकुर’

29 May 2020 | 9:38 PM

मथुरा 25 मई (वार्ता) व्यापार को चमकाने के लिए ‘ठाकुर’ को ’बिजनेस पार्टनर’ बनाने की निराली परंपरा भक्तों द्वारा ब्रज के मंदिरों में लम्बे समय से अपनाई जा रही है।

see more..
महोबा में जागरूकता अभियान के साथ अनूठे अंदाज में मनाई गई आल्हा की जयंती

महोबा में जागरूकता अभियान के साथ अनूठे अंदाज में मनाई गई आल्हा की जयंती

29 May 2020 | 9:38 PM

महोबा, 25मई (वार्ता) उत्तर प्रदेश के महोबा में बारहवीं शताब्दी के महान योद्धा चंदेल सेनानायक, महाबली आल्हा की जयंती सोमवार को कोरोना जागरूकता अभियान के साथ अनूठे अंदाज में मनाई गई।

see more..
प्रकृति की खातिर हर साल 21 दिन का लॉकडाउन जरूरी: पर्यावरणविद

प्रकृति की खातिर हर साल 21 दिन का लॉकडाउन जरूरी: पर्यावरणविद

24 May 2020 | 4:01 PM

इटावा, 24 मई (वार्ता) कोरोना संक्रमण के चलते देशव्यापी लाकडाउन ने सरकार और आम आदमी की मुश्किलों में इजाफा किया है लेकिन आपदा की इस घड़ी ने प्रकृति के सौंदर्य को बरकरार रखने के लिये नियमित अंतराल में मानव दखलदांजी पर रोक लगाने को लेकर एक नयी बहस को जन्म दे दिया है।

see more..
image