Friday, Sep 21 2018 | Time 19:35 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • प्रधानमंत्री मोदी कल छत्तीसगढ़ के एक दिवसीय दौरे पर
  • भारत अंडर-16 लड़कियों को मंगोलिया से मिली हार
  • चीफ खालसा दीवान के प्रधान संतोख सिंह को पांच साल की कैद
  • भारत-पाकिस्तान विदेश मंत्रियों की बैठक रद्द
  • भाजपा की छत्तीसगढ़ सहित तीन राज्यों में सत्ता में वापसी तय – शाह
  • अकाली दल अपनी हार देख बौखलाई : अमरिंदर
  • सीलिंग कर दिल्ली सरकार छीन रही है पूर्वांचल के लोगों की रोजी-रोटी: मनोज
  • पांचवां इंडिया सीएसआर शिखर सम्मेलन एवं प्रदर्शनी दिल्ली में
  • कांग्रेस ने हर वर्ग को लड़ाने का काम किया-वसुंधरा
  • नासिक में स्वाइन फ्लू से तीन और लोगों की मौत
  • हिंदुस्तान जिंक ने लांच किया ग्रासरूट फुटबाल प्रोग्राम
  • हाथियों के स्वास्थ्य में हुआ सुधार
  • नागपुर में बारिश, विदर्भ में बारिश का अनुमान
  • कॉलेजों-विश्वविद्यालय में लड़कियों को आत्मरक्षा के गुर सिखाने के निर्देश
India Share

पाकिस्तान में सिख जत्थे को राजनयिकों से न मिलने देने पर भारत का विरोध

पाकिस्तान में सिख जत्थे को राजनयिकों से न मिलने देने पर भारत का विरोध

नयी दिल्ली 15 अप्रैल (वार्ता) भारत ने तीर्थयात्रा के लिए पाकिस्तान गये सिख जत्थे को वहां स्थित भारतीय राजनयिकों और उच्चायोग की टीम से नहीं मिलने देने के पाकिस्तान के कदम को वियना संधि का उल्लंघन एवं ‘कूटनीतिक अशिष्टता’ करार देते हुए इस पर कड़ा विरोध दर्ज कराया है।
विदेश मंत्रालय ने आज यहां जारी वक्तव्य में कहा कि करीब 1800 सिख यात्रियों का जत्था धार्मिक स्थलों के भ्रमण सम्बन्धी द्विपक्षीय समझौते के तहत 12 अप्रैल से पाकिस्तान की यात्रा पर हैं। वक्तव्य के अनुसार यह स्थापित परंपरा रही है कि भारतीय उच्चायोग की वाणिज्य एवं प्रोटोकाल टीम इन यात्राओं के दौरान भारतीय तीर्थयात्रियों के साथ रहती है। यह टीम मेडिकल सहायता या परिवार को किती तरह की आपात स्थिति में मदद करती है।
इस बार इस टीम को भारतीय सिख तीर्थयात्रियों से नहीं मिलने दिया गया। टीम को सिखाें के जत्थे के 12 अप्रैल को वाघा रेलवे स्टेशन पहुंचने पर उनसे नहीं मिलने दिया गया। इस टीम को 14 अप्रैल को गुरूद्वारा पंजा साहिब में प्रवेश की अनुमति नहीं दी गयी जबकि सिख जत्थे का टीम से इस गुरूद्वारे में मुलाकात का कार्यक्रम था। इस तरह उच्चायोग को भारतीय नागरिकों के प्रति प्रोटोकाॅल ड्यूटी करने तथा मूलभूत सेवाएं मुहैया कराने से राेका गया।
वक्तव्य के अनुसार पाकिस्तान में तैनात भारतीय उच्चायुक्त को इवैकुई ट्रस्ट प्रॉपर्टी बोर्ड (ईटीपीबी) के अध्यक्ष ने गुरुद्वारा पंजा साहिब आने का निमंत्रण दिया था लेकिन गुरुद्वारा जा रहे उच्चायुक्त को रास्ते में ही सुरक्षा कारणों का हवाला देकर वापस लौटने को कहा गया। उच्चायुक्त को बैशाखी के अवसर पर भारतीय जत्थे का स्वागत करना था लेकिन उन्हें भारतीय नागरिकों से मिले बगैर ही वापस लौटने पर मजबूर कर दिया गया।
वक्तव्य में कहा गया है कि भारत ने इस राजनयिक अशिष्टता के खिलाफ अपना कड़ा विरोध दर्ज कराया है। भारत का कहना है कि पाकिस्तान का यह कदम 1961 की वियना संधि के साथ-साथ 1974 की धार्मिक स्थलों के भ्रमण सम्बन्धी द्विपक्षीय प्रोटोकाॅल तथा 1992 की उस आचार संहिता का स्पष्ट उल्लंघन है जो भारत और पाकिस्तान में राजनयिक / वाणिज्य दूतावास कर्मियों के साथ बर्ताव को लेकर है और दोनों देशों ने हाल ही में इसकी एक बार फिर पुष्टि की है।
नीलिमा संजीव
वार्ता

More News
सीलिंग कर दिल्ली सरकार छीन रही है पूर्वांचल के लोगों की रोजी-रोटी: मनोज

सीलिंग कर दिल्ली सरकार छीन रही है पूर्वांचल के लोगों की रोजी-रोटी: मनोज

21 Sep 2018 | 7:18 PM

नयी दिल्ली 21 सितंबर (वार्ता) भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की दिल्ली इकाई के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने दिल्ली सरकार पर आरोप लगाया कि उच्चतम न्यायालय की आड़ में सीलिंग का संकट पैदा कर लाखों पूर्वांचलवासियों की रोजी-रोटी छीनने का षडयंत्र कर रही है।

 Sharesee more..
कश्मीर के हालात के लिए सरकार जिम्मेदार : कांग्रेस

कश्मीर के हालात के लिए सरकार जिम्मेदार : कांग्रेस

21 Sep 2018 | 7:07 PM

नयी दिल्ली, 21 सितम्बर (वार्ता) कांग्रेस ने कहा है कि पिछले 24 घंटे के दौरान जम्मू कश्मीर में तीन पुलिसकर्मियों की अपहरण के बाद हत्या तथा आतंकवादियों के भय से दस पुलिसकर्मियों के इस्तीफे की घटनाएं चिंताजनक हैं और राज्य के इस हालात के लिए मोदी सरकार जिम्मेदार है।

 Sharesee more..

21 Sep 2018 | 6:53 PM

 Sharesee more..
image