Thursday, Oct 29 2020 | Time 16:20 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • चंद्रशेखर राव ने धरणी ऑनलाइन पोर्टल किया लांच
  • अंतिम पांच ओवरों की खराब बल्लेबाजी से हारे : विराट
  • अंतिम पांच ओवरों की खराब बल्लेबाजी से हारे : विराट
  • पुलिस विभाग ने मोहंती के निधन पर जताया शोक
  • मोदी की नई भूमि नीति ने प्रदेश के सात दशक पुराने भूमि सुधार को पलटाः उमर
  • प्रदूषण पर नियंत्रण के लिए आयोग का गठन महत्वपूर्ण कदम: जावड़ेकर
  • उधमसिंह नगर में एटीएम कार्ड बदल कर ठगी करने वाले युवक को पुलिस ने पकड़ा
  • केसीआर की बेटी कविता ने ली विधायक की शपथ
  • बागेश्वर में कोरोना संक्रमित व्यक्ति की मौत के मामले की जांच के आदेश
  • एथनॉल की कीमतों में 3 35 रुपए प्रति लीटर तक की वृद्धि
  • इसरो नौ विदेशी उपग्रहों का प्रक्षेपण करेगा
  • बिहार में दो तिहाई से अधिक सीट जीतकर राजग की फिर बनेगी सरकार : गौरव
  • चंपावत में चरस के साथ एक तस्कर गिरफ्तार
  • विस उपाध्यक्ष हांसदा का निधन, ममता ने जताया शोक
फीचर्स


ताईवान के आईटी प्रोफेशनल, गांधीनगर के फैशन डिजाइनर बुंदेलखंड में सीख रहे खेती के गुर

ताईवान के आईटी प्रोफेशनल, गांधीनगर के फैशन डिजाइनर बुंदेलखंड में सीख रहे खेती के गुर

..निर्मल यादव से..

बांदा, 04 अक्टूबर (वार्ता) कोरोना संकट ने प्रकृति और पर्यावरण के प्रति संजीदा सोच रखने वालों को जीवन शैली में बदलाव लाने के लिये ऐसा प्रेरित किया है कि फैशन डिजाइनिंग और सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र से लेकर पत्रकारिता और कला जगत तक के लोग अब अपना कार्य क्षेत्र बदलकर गांव और खेती किसानी का रुख कर रहे हैं।

विभिन्न क्षेत्रों के कार्यकुशल ( प्रोफेशनल) लोगों में खेती किसानी के जरिये प्रकृति के करीब रहकर काम करने और खेती के गुरु सीखने की इच्छा को देखते हुए बुंदेलखंड के प्रगतिशील किसान प्रेम सिंह के बांदा स्थित फार्म हाऊस में प्रशिक्षण पाठ्यक्रम शुरु किया गया है।

ताईवान में कार्यरत आईटी प्रोफेशनल राजीव सिंह और उनकी पत्नी साक्षी हों या गांधीनगर के फैशन डिजाइनर रोहित दुबे और लोकगायिका बेबी रानी प्रजापति हों, अन्य क्षेत्रों के प्रोफेशनल को खेती किसानी सिखाने के लिए पिछले सप्ताह पहली कार्यशाला का आयोजन किया गया। संतोषप्रद जीवनशैली को सुनिश्चित करने वाली आवर्तनशील खेती की अवधारणा से दुनिया को परिचित कराने वाले प्रेम सिंह की अगुवाई में हुई पहली कार्यशाला में ‘‘खेती क्यों और कैसे हो’’ इसका व्यवहारिक ज्ञान कराया गया।

चार दिवसीय कार्यशाला की सफलता से उत्साहित प्रेम सिंह और उनकी प्रशिक्षण टीम ने इस तरह की अनूठी कार्यशालाओं का सिलसिला जारी रखने का फैसला किया है। कार्यशाला के संचालक जितेन्द्र गुप्ता का कहना है कि पर्यावरण संकट को देखते हुये अब विभिन्न क्षेत्रों के प्रोफेशनल खेती की ओर बढ़ रहे हैं। खेती किसानी के हुनर से अनभिज्ञ होने के कारण उन्हें इस विधा के सामान्य व्यवहारिक ज्ञान की दरकार होती है। इस जरूरत को महसूस करते हुये अब हर महीने चार दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन करने की कार्ययोजना बनायी गयी है।

प्रेम सिंह का मानना है कि किसानी ही एकमात्र ऐसा कार्य है जो प्रकृति की सेवा करते हुये पर्यावरण को संतुलित बनाने एवं मानव जीवन की पूर्णता का अहसास कराता है। उन्होंने 1987 में इलाहाबाद विश्वविद्यालय से दर्शन शास्त्र में एमए की पढ़ाई पूरी करने के बाद बांदा स्थित अपने पुश्तैनी गांव बड़ोखर खुर्द में नयी अवधारणाओं पर आधारित खेती करना शुरु किया था। पिछले तीन दशक से जारी प्रयोगधर्मी कृषि के दौरान ही आवर्तनशील पद्धति को विकसित किया गया। उनके फार्म हाऊस पर अब इस पद्धति से खेती सीखने के लिये दो दर्जन से अधिक देशों के किसान और छात्र हर साल नियमित रूप से आते है।

सतत प्रयोगों पर आधारित आवर्तनशील पद्धति से खेती के प्रशिक्षण के व्यवस्थित पाठ्यक्रम को युवा किसान जितेन्द्र गुप्ता ने तैयार किया है। अपने तरह के इस अनूठे प्रशिक्षण में फार्म डिजाइनिंग, सिंचाई एवं जल प्रबंधन, पशुपालन और जैविक खाद निर्माण सहित खेती से जुड़े विभिन्न कार्यों को सीखने समझने का पाठ्यक्रम डिजाइन किया गया है। इसमें तालाब निर्माण के महारथी और बुंदेलखंड क्षेत्र में एक हजार से अधिक तालाब बनवाने वाले प्रगतिशील किसान पुष्पेन्द्र भाई जल प्रबंधन के गुर सिखाते हैं।

बागवानी विशेषज्ञ, पंकज बागवान फल एवं सब्जियों के बाग लगाने के तौर तरीके बताते हैं जबकि कृषि विशेषज्ञ शैलेन्द्र सिंह बुंदेला, किसानों को खुद अपने फार्म पर ही जैविक खाद बनाने के गुर सिखाते हैं। इसके अलावा प्रेम सिंह, ‘खेती क्यों और कैसे’ जैसे मूलभूत सवालों के जवाब अपने अनुभवजन्य ज्ञान से देकर संतृप्त एवं संतोषप्रद जीवनशैली से प्रशिक्षुओं को अवगत कराते हैं।

ताईवान में पिछले डेढ़ दशक से रह रहे राजीव सिंह और उनकी पत्नी साक्षी वहां की एक बहुराष्ट्रीय कंपनी में ऊंचे ओहदे पर कार्यरत थे। श्री सिंह बताते हैं कि पैसे की पर्याप्त उपलब्धता के बावजूद उनका परिवार जीवन में संतुष्ट नहीं था। खेती किसानी को पूर्ण एवं तृप्त जीवन का आधार मानते हुये उन्होंने इस साल जनवरी में अपनी नौकरी छोड़कर भारत में खेती करने का फैसला किया। मार्च में कोरोना संकट के कारण लॉकडाउन की वजह से उनकी योजना खटाई में पड़ गयी।

गांव में बसने के लिये संकल्पबद्ध राजीव और उनकी पत्नी ने हालात से हिम्मत न हारते हुये गत जून में ताईवान के दक्षिणी राज्य पिंग तुंग के लिन लाऊ गांव का रुख किया। फिलहाल उनका परिवार उस गांव की एक वृद्ध महिला किसान जॉय लिन का सहारा बन कर उसके साथ खेती-बाड़ी का काम कर रहा है। राजीव और साक्षी ने प्रेम सिंह के बाग में आयोजित कार्यशाला में वीडियो काॅफ्रेंसिंग के जरिये शिरकत की. उन्होंने कहा कि वह लॉकडाउन की बाध्यतायें खत्म होने के बाद स्वदेश वापसी के अपने फैसले पर अमल करेंगे। वह अपने परिवार के साथ मध्य प्रदेश के रीवां जिले में अपने गांव में रह कर प्रकृति की सेवा करते हुये शेष जीवन पूर्ण संतुष्टि के साथ बिताना चाहते हैं।

गुजरात में बतौर फैशन डिजाइनर अपना कारोबार जमा चुके रोहित दुबे को भी कोरोना संकट ने शहरी जीवन शैली की अपूर्णता के बारे में सोचने पर मजबूर कर दिया। उन्हें लॉकडाउन के दौरान जालौन जिले में स्थित अपने पुश्तैनी गांव आना पड़ा। उन्होंने बताया कि इस दौरान खुद को खेती से जोड़ने के बारे में सोचने के बाद वह इस विधा के गुर सीखने के लिये प्रेम भाई के बाग तक पहुंच गये। उन्होंने अपनी 50 बीघा पुश्तैनी जमीन पर आवर्तनशील पद्धति पर आधारित फार्म हाऊस बनाने का काम शुरु कर दिया है।

कुछ ऐसी ही कहानी मध्य प्रदेश की युवा लोक गायिका बेबी रानी प्रजापति की है। छतरपुर की निवासी बेबी रानी ने भी लोक गायिकी के अपने काम को जारी रखते हुये अपने पुश्तैनी गांव में नयी सोच के साथ खेती शुरु कर दी है। साथ ही वह लोकगीतों के माध्यम से जैविक खेती के प्रति किसानों को जागरुक भी करेंगी।

कार्यशाला में दिल्ली एवं हरियाणा के कुछ छात्रों, पत्रकारों और मध्य प्रदेश के ओरछा के कुछ आदिवासी ग्रामीणों ने भी हिस्सा लेकर जैविक खेती की बारीकियों को समझा।

प्रशिक्षण के कोर्स डिजाइनर जितेन्द्र गुप्ता ने बताया कि उन्होंने 12वीं कक्षा की पढ़ाई पूरी करने के साथ ही किसान बनने का फैसला कर लिया था। पिछले चार साल से वह खुद प्रेम सिंह के फार्म पर आवर्तनशील पद्धति से जैविक खेती सीख रहे हैं। छब्बीस वर्षीय श्री गुप्ता अब उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में किसानों को जैविक खेती का प्रशिक्षण देते हैं।

आवर्तनशील खेती के बारे में प्रेम सिंह का दावा है कि खेती की इस विधा को पूर्णता के करीब माना जाता है। इस पद्धति में फार्म के तीन हिस्से कर एक भाग में पशुपालन, एक भाग में फल एवं सब्जियों के बाग लगाना और एक भाग में सभी प्रकार की स्थानीय फसलों की खेती की जाती है। उनका दावा है कि किसान को खेती में आत्मनिर्भर बनाने का एकमात्र रास्ता आवर्तनशील खेती ही है। इसमें सामान्य उपयोग में आने वाले लगभग सभी प्रकार की वस्तुओं का उत्पादन एक ही जगह किया जा सकता है। इस तरीके को अपनाने के बाद किसान की बाजार पर निर्भरता न्यूनतम हो जाती है।

सं, जय, टंडन

वार्ता

More News
ताईवान के आईटी प्रोफेशनल, गांधीनगर के फैशन डिजाइनर बुंदेलखंड में सीख रहे खेती के गुर

ताईवान के आईटी प्रोफेशनल, गांधीनगर के फैशन डिजाइनर बुंदेलखंड में सीख रहे खेती के गुर

04 Oct 2020 | 1:46 PM

..निर्मल यादव से.. बांदा, 04 अक्टूबर (वार्ता) कोरोना संकट ने प्रकृति और पर्यावरण के प्रति संजीदा सोच रखने वालों को जीवन शैली में बदलाव लाने के लिये ऐसा प्रेरित किया है कि फैशन डिजाइनिंग और सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र से लेकर पत्रकारिता और कला जगत तक के लोग अब अपना कार्य क्षेत्र बदलकर गांव और खेती किसानी का रुख कर रहे हैं।

see more..
लॉकडाउन में  भूले बिसरे गीतकारों के इतिहास पर किताब

लॉकडाउन में भूले बिसरे गीतकारों के इतिहास पर किताब

27 Sep 2020 | 2:46 PM

नयी दिल्ली 27 सितंबर (वार्ता ) क्या आपको मालूम है कि देश में 1933 में ही एक ऐसी सवाक हिंदी फ़िल्म "कर्मा " बनी जिसमे एक गाना अँग्रेजी में भी था। इस फ़िल्म के निर्माता हिमांशु राय थे और उसकी नायिका उनकी पत्नी देविका रानी थी जिन्होंने एक गाना अपनी आवाज में गया था।

see more..
गाजीपुर के जखनिया क्षेत्र में पर्यटन की अपार संभावना

गाजीपुर के जखनिया क्षेत्र में पर्यटन की अपार संभावना

26 Sep 2020 | 7:29 PM

गाजीपुर,26 सितम्बर (वार्ता) उत्तर प्रदेश के गाजीपुर स्थित जखनिया तहसील क्षेत्र में पर्यटन के विकास की अपार संभावनाएं हैं ।

see more..
मिथिलांचल में बाढ़ से सूख गये हजारों पेड़

मिथिलांचल में बाढ़ से सूख गये हजारों पेड़

25 Sep 2020 | 6:02 PM

दरभंगा, 25 सितम्बर (वार्ता) बिहार में मिथिलांचल की राजधानी कहे जाने वाले दरभंगा जिले के हजारों एकड़ में करीब दो माह से जमा बाढ़ के पानी से हजारों की संख्या में आम समेत अन्य फलदार एवं कीमतों वृक्षों के सूख जाने से एक तरफ जहां किसानों की कमर टूट गई है वहीं पर्यावरण को भी काफी नुकसान पहुंचा है।

see more..
प्रकृति दे रही लॉकडाउन को धन्यवाद

प्रकृति दे रही लॉकडाउन को धन्यवाद

04 Jun 2020 | 8:00 PM

झांसी 04 जून (वार्ता) दुनिया और देशभर में कोविड -19 के कहर के कारण मची हाहाकार के बीच इससे निपटने के लिए लगाये गये देशव्यापी लॉकडाउन ने इंसान को जहां बंदिशों में रखा वहीं प्रकृति को फिर से सजने और संवरने का मौका दिया है।

see more..
image