Thursday, Jan 23 2020 | Time 02:00 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • हिमाचल के चंबा जिले में भूकंप के झटके
  • पेरु बस दुर्घटना में छह की मौत, 20घायल
  • पाकिस्तान पश्चिम एशिया में शांति के पक्ष में :खान
India


अयोध्या मामले में जमीयत ने दायर की पुनर्विचार याचिका

अयोध्या मामले में जमीयत ने दायर की पुनर्विचार याचिका

नयी दिल्ली, 02 दिसंबर (वार्ता) अयोध्या का राम जन्मभूमि बाबरी मस्जिद जमीन विवाद सोमवार को उस वक्त एक बार फिर उच्चतम न्यायालय की दहलीज पर पहुंच गया, जब जमीयत उलेमा-ए-हिन्द ने पुनर्विचार याचिका दायर की।
जमीयत-उलेमा-ए-हिंद के उत्तर प्रदेश के प्रमुख अशहद रशीदी ने अयोध्या मामले में गत नौ नवंबर को शीर्ष अदालत का ऐतिहासिक फैसला आने के करीब तीन हफ्ते बाद पुनर्विचार याचिका दाखिल कर दी। दो सौ सत्रह पन्नों की इस याचिका में याचिकाकर्ता ने संविधान पीठ के फैसले पर सवाल उठाए हैं। याचिका में मुस्लिम संगठनों का पक्ष दोबारा सुने जाने की मांग की गई है।
अपनी याचिका में जमीयत ने न्यायालय से आग्रह किया है कि वह गत नौ नवंबर को अपने फैसले की समीक्षा करे। साथ ही उसने हिन्दुओं के पक्ष में आए उक्त फैसले पर रोक लगाने की भी मांग अदालत से की है।
पुनर्विचार याचिका में जमीयत ने कहा है कि शीर्ष अदालत ने माना है कि हिन्दुओं द्वारा इस स्थल पर 1934, 1949 और 1992 में गैर-कानूनी काम किए गए। न्यायालय ने इन कृत्यों की निंदा भी की है, इसके बावजूद यह जमीन हिन्दू पक्ष को दे दी गई? इसलिए इस फैसले पर रोक लगायी जानी चाहिए।
गौरतलब है कि न्यायालय ने मस्जिद बनाने के लिए मुस्लिमों को अयोध्या में कहीं और पांच एकड़ ज़मीन उपलब्ध कराने का निर्देश दिया था। इसे जमीयत ने शरीयत के ख़िलाफ़ बताया है। जमीयत का कहना है कि मुस्लिम पक्ष ने मस्जिद के लिए कहीं और जमीन नहीं मांगी थी, लेकिन फैसले में संतुलन बनाने के इरादे से ऐसा आदेश सुनाया गया।
जमीयत ने अपनी समीक्षा याचिका में दावा किया है कि मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए मुस्लिम पक्ष मानता है कि काफ़ी दिनों से चले आ रहे इस विवाद का जल्द से जल्द अंत हो। जमीयत ने कहा है कि इतिहास में हुई ग़लतियों को न्यायालय सुधार नहीं सकता। मंदिर को गिराकर मस्जिद बनाए जाने के अभी तक कोई सबूत भी नहीं मिले हैं।
जमीयत ने न्यायालय से आग्रह किया है कि प्राचीन काल में आए पर्यटकों और घुमंतुओं द्वारा रचित वृत्तांतों पर भरोसा करना सही नहीं है और उन्हें काफ़ी बारीकी से पढ़ा जाना चाहिए। जमीयत ने फ़ैसले को त्रुटिपूर्ण करार दिया है। इस पुनर्विचार याचिका में संविधान पीठ के फ़ैसले में ’14 गलतियां’ गिनाई गई हैं और दावा किया गया है कि फैसले की समीक्षा का आधार भी यही है।
सुरेश आशा
वार्ता

More News
ब्राजील के साथ चार एमओयू को मंत्रिमंडल की मंजूरी

ब्राजील के साथ चार एमओयू को मंत्रिमंडल की मंजूरी

22 Jan 2020 | 11:30 PM

नयी दिल्ली, 22 जनवरी (वार्ता) केंद्रीय मंत्रिमंडल ने ब्राजील के साथ तेल एवं गैस तथा खनिज क्षेत्र समेत चार सहमति पत्रों (एमओयू) पर हस्ताक्षर के लिए बुधवार को मंजूरी प्रदान कर दी।

see more..
धर्मेंद्र प्रधान ने सेल की ‘सर्विस स्कीम’ की लांच

धर्मेंद्र प्रधान ने सेल की ‘सर्विस स्कीम’ की लांच

22 Jan 2020 | 11:20 PM

नयी दिल्ली 22 जनवरी (वार्ता) केंद्रीय इस्पात और पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (सेल) की ‘सर्विस स्कीम’ और इसके पोर्टल को यहां बुधवार को लांच किया।

see more..
कांग्रेस की बढ़ी लोकप्रियता देखकर भाजपा,आप हताश: चोपड़ा

कांग्रेस की बढ़ी लोकप्रियता देखकर भाजपा,आप हताश: चोपड़ा

22 Jan 2020 | 9:44 PM

नयी दिल्ली, 22 जनवरी (वार्ता) दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सुभाष चोपड़ा ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और आम आदमी पार्टी (आप) पर निशाना साधते हुए बुधवार कहा कि दोनों दल इतने हताश हो गए हैं कि कांग्रेस के विधानसभा उम्मीदवारों को लक्ष्य बनाकर नामांकन पत्रों की जांच के दौरान उन पर अनाप-शनाप आरोप लगा रहे हैं।

see more..
कपिल मिश्रा की उम्मीदवारी रद्द करे चुनाव आयोग: आप

कपिल मिश्रा की उम्मीदवारी रद्द करे चुनाव आयोग: आप

22 Jan 2020 | 9:44 PM

नयी दिल्ली, 22 जनवरी (वार्ता) आम आदमी पार्टी (आप) ने चुनाव आयोग से पार्टी के पूर्व विधायक कपिल मिश्रा की ओर से मॉडल टाउन सीट से भरे गये नामांकन पत्र में गलत जानकारियां देने के लिए उनकी उम्मीदवारी रद्द करने की बुधवार को मांग की।

see more..
शत्रुघ्न चौहान मामले के दिशानिर्देशों में बदलाव का सुप्रीम कोर्ट से अनुरोध

शत्रुघ्न चौहान मामले के दिशानिर्देशों में बदलाव का सुप्रीम कोर्ट से अनुरोध

22 Jan 2020 | 9:02 PM

नयी दिल्ली, 22 जनवरी (वार्ता) केंद्र सरकार ने जघन्य अपराध के गुनाहगारों द्वारा फांसी से बचने के लिए न्यायिक प्रक्रियाओं के दुरुपयोग पर अंकुश लगाने के इरादे से उच्चतम न्यायालय में बुधवार को एक अर्जी दायर करके शत्रुघ्न चौहान मामले में जारी दिशनिर्देशों में संशोधन का अनुरोध किया है।

see more..
image