Friday, May 24 2024 | Time 00:43 Hrs(IST)
image
राज्य » बिहार / झारखण्ड


बिहार के एकमात्र पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी लड़ रहे हैं लोकसभा का चुनाव

बिहार के एकमात्र पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी लड़ रहे हैं लोकसभा का चुनाव

पटना, 13 अप्रैल (वार्ता) बिहार के एकमात्र पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी इस बार का लोकसभा चुनाव लड़ रहे हैं।

आजादी के बाद बिहार में अबतक 23 मुख्यमंत्री बने। इनमे श्री कृष्ण सिंह, दीप नारायाण सिंह,बिनोदानंद झा, कृष्ण बल्लभ सहाय, महामाया प्रसाद सिन्हा,सतीश प्रसाद सिंह, बिंदेश्वरी प्रसाद मंडल,भोला पासवान शास्त्री, हरिहर सिंह, दारोगा प्रसाद राय, कर्पूरी ठाकुर, केदार पांडेय,अब्दुल गफूर,जगन्नाथ मिश्रा,रामसुंदर दास, चंद्रशेखर सिंह, बिंदेश्वरी दुबे, भागवत झा आजाद, सत्येन्द्र नारायण सिंह, लालू प्रसाद यादव, राबड़ी देवी, नीतीश कुमार और जीतन राम मांझी शामिल हैं। इनमें लालू प्रसाद यादव, राबड़ी देवी और जीतन राम मांझी को छोड़कर सभी पूर्व मुख्यमंत्री का निधन हो गया है। नीतीश कुमार अभी मुख्यमंत्री पद पर आसीन हैं।

जीतन राम मांझी एकमात्र पूर्व मुख्यमंत्री हैं, जो इस बार का लोकसभा चुनाव लड़ रहे हैं। पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव और उनकी पत्नी राबड़ी देवी चुनाव नहीं लड़ रही है। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव सर्वप्रथम वर्ष 1977 में जनता पार्टी की लहर में छपरा लोकसभा सीट से भारतीय लोक दल (बीएलडी) के टिकट पर चुनाव जीतकर लोकसभा पहुंचे थे। इसके बाद वर्ष 1989, 2004 में वह छपरा से चुनाव जीते।2008 में परिसीमन के बाद छपरा सीट सारण बन गयी। वर्ष 2009 के चुनाव में श्री यादव ने सारण से जीत हासिल की । श्री यादव ने मधेपुरा संसदीय सीट पर 1998 और वर्ष 2004 का लोकसभा का चुनाव भी जीता है। चारा घोटाले में सजा होने से श्री यादव की लोकसभा की सदस्यता छिन गयी और उनके चुनाव लड़ने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। राबड़ी देवी ने वर्ष 2014 में सारण संसदीय सीट से चुनाव लड़ा लेकिन जीत हासिल नहीं कर पायी। इसके बाद श्रीमती राबड़ी देवी ने लोकसभा के चुनाव में अपनी किस्मत नही आजमायी।

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तान आवामी मोर्चा (हम) के संस्थापक और इमामगंज (सु) के विधायक जीतन राम मांझी गया (सु) सीट से चौथी बार लोकसभा का चुनाव लड़ रहे हैं। जीतन राम मांझी ने वर्ष 1991, 2014 और 2019 में लोकसभा का चुनाव लड़ा है लेकिन उन्हें हर बार पराजय का सामना करना पड़ा।

प्रेम सूरज

वार्ता

More News
 हमने हमेशा किये विकास के कार्य, जनता आगे भी दे मौका: नीतीश

हमने हमेशा किये विकास के कार्य, जनता आगे भी दे मौका: नीतीश

23 May 2024 | 10:24 PM

बक्सर, 23 मई (वार्ता) बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राज्य के विकास योजनाओंं की चर्चा करते हुए आज कहा कि उनकी सरकार ने विकास को हमेशा सर्वोच्च प्राथमिकता दी है इसलिए विकास की गति को बढ़ाने के लिए लोगों को एक बार फिर से राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) को वोट देना चाहिए।

see more..
शाह ने दिवंगत सुशील मोदी को दी श्रद्धांजलि

शाह ने दिवंगत सुशील मोदी को दी श्रद्धांजलि

23 May 2024 | 10:21 PM

पटना 23 मई (वार्ता) केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रमुख नेता और बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी को आज शाम श्रद्धांजलि दी।

see more..
बिहार : छठे चरण की आठ लोकसभा सीटों पर चुनाव प्रचार समाप्त

बिहार : छठे चरण की आठ लोकसभा सीटों पर चुनाव प्रचार समाप्त

23 May 2024 | 10:18 PM

पटना, 23 मई (वार्ता) बिहार में छठे चरण में 25 मई को आठ लोकसभा सीटों वाल्मिकिनगर, पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, शिवहर, वैशाली, गोपालगंज, सीवान और महाराजगंज में होने वाले मतदान के लिए आज शाम चुनाव प्रचार समाप्त हो गया।

see more..
छठा चरणः बारिश की आशंका के मद्देनजर मतदानकर्मियों को जल्द बूथों तक पहुंचाने का निर्देशः डॉ. नेहा अरोड़ा

छठा चरणः बारिश की आशंका के मद्देनजर मतदानकर्मियों को जल्द बूथों तक पहुंचाने का निर्देशः डॉ. नेहा अरोड़ा

23 May 2024 | 10:15 PM

रांची, 23 मई (वार्ता) झारखंड की अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी डॉ. नेहा अरोड़ा ने कहा है कि छठे चरण में 25 मई को गिरिडीह, धनबाद, रांची और जमशेदपुर में मतदान की तैयारी पूरी हो चुकी है और आज शाम इन क्षेत्रों में चुनाव प्रचार समाप्त हो गया है।

see more..
गलत नीतियों के कारण सत्ता से बाहर हुई कांग्रेस, भाजपा का जीतना भी मुश्किल: मायावती

गलत नीतियों के कारण सत्ता से बाहर हुई कांग्रेस, भाजपा का जीतना भी मुश्किल: मायावती

23 May 2024 | 10:13 PM

बक्सर, 23 मई (वार्ता) बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो सुश्री मायावती ने गुरुवार को कांग्रेस एवं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर जमकर प्रहार किया और कहा कि कांग्रेस पार्टी केंद्र तथा कई राज्यों की सत्ता से इसलिए बाहर हुई क्योंकि उसने गलत नीतियां बनाई तथा उसकी कथनी और करनी में काफी अंतर था, ठीक उसी तरह भाजपा की कथनी और करनी में भी अंतर है इसलिए इस बार इस पार्टी के सत्ता में वापस आना उसके लिए काफी मुश्किल होगा।

see more..
image