Monday, Apr 19 2021 | Time 20:35 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • अर्जुन मुंडा ने कोरोना से निपटने के लिए सांसद मद से पचास लाख रुपये दिए
  • बचदा को सरकारी सम्मान के साथ दी गयी अंतिम विदायी
  • फार्मा उद्योग ने बनाया भारत को ‘वर्ल्ड फार्मेसी’: मोदी
  • हिमाचल में सभी शिक्षण संस्थान एक मई तक बंद: जयराम
  • ललितपुर में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था में शाम पांच बजे तक हुआ 66 20 प्रतिशत मतदान
  • पूनियां ने भाजपा प्रदेश पदाधिकारियों के साथ किया वर्चुअल संवाद
  • खुदाबख्श लाइब्रेरी के कर्जन रीडिंग रूम को तोड़ नए भवन के निर्माण पर बुद्धिजीवियों को न हो आपत्ति : मोर्चा
  • झांसी:रेमडेसिविर व ऑक्सीजन की आपूर्ति को बबीना विधायक ने लिखा योगी को पत्र
  • पंजाब में आरटीपीसीआर,आरएटी जांच दर में कमी, सिनेमा घर/बार/जिम/कोचिंग सेंटर बंद
  • मनमोहन सिंह कोरोना संक्रमित, एम्स में भर्ती
  • कौशांबी में 24 घंटे में चार की कोरोना से मौत
  • आरसीए ने आठ खिलाड़ियों पर लगाया दो वर्ष का प्रतिबंध
  • सोनीपत में कोरोना के 698 नये मामले, 3 की मौत
  • छत्तीसगढ़ में तीन दिनों में करीब 35 हजार कोरोना मरीज हुए स्वस्थ
  • लोकसभा, विधानमंडल मिल कर देश को दिलायें कोरोना से मुक्ति: बिरला
लोकरुचि


राजनीति के नशे में पुत्र का विवाह रचाया

राजनीति के नशे में पुत्र का विवाह रचाया

जौनपुर, 06 अप्रैल (वार्ता) उत्तर प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव का नशा ग्रामीण अंचलों में सिर चढ़ कर बोलने लगा है। ऐसी ही एक घटना में मन माफिक सीट घोषित न होने पर एक पूर्व जिला पंचायत सदस्य ने खरमास का भी भेद मन से निकाल कर आनन-फानन में अपने पुत्र का विवाह कर पुत्र वधू को मैदान में उतार दिया। बसपा ने उसे अपनी पार्टी से अधिकृत उम्मीदवार भी बना दिया है।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जिले में खुटहन ब्लाक के उसरौली गांव के भैयाराम का पुरवा निवासी पूर्व जिला पंचायत सदस्य सुभाष यादव सरगम की पत्नी आँगनबाड़ी कार्यकत्री के पद पर तैनात है। उनकी माता का निधन वर्षो पूर्व हो चुका है। इधर चुनाव नजदीक आते ही सुभाष पुनः वार्ड नंबर 17 से ताल ठोकने लगे तिथि व आरक्षण की स्थिति की घोषित भी नहीं हुई थी कि क्षेत्र में पूरे दम खम से प्रचार प्रसार शुरू कर दिए। दूसरी बार के परसीमन में यह सीट पिछड़ी जाति महिला के लिए आरक्षित कर दी गई।

उनकी पत्नी आँगनबाड़ी है,पहले तो उन्हें त्याग पत्र दिलाकर चुनाव मैदान में उतारने पर विचार किया गया जो उपयुक्त न लगने पर अपने पुत्र सौरभ यादव का तत्काल विवाह कर पुत्रवधू को प्रत्याशी बनाए जाने पर विचार शुरू किया गया। खरमास के चलते पुरोहित ने इसे धार्मिक दृष्टि से उचित नहीं बताया।

उधर इसकी जानकारी होते ही बगल गांव कपसिया निवासी रामचंदर यादव अनुरागी अपनी पुत्री अंकिता यादव की शादी के लिए उनके घर पहुंच गये। आनन फानन में रिश्ता पक्का कर दिया गया। बीते 31 मार्च को एक मंदिर में वैदिक मंत्रोच्चार के साथ विवाह संपन्न करा दिया गया। अंकिता के नाम से ही रविवार को नामांकन दाखिल कर दिया। इन्हें बसपा से अधिकृत भी किया गया है जिनकी क्षेत्र में खूब चर्चा है।

सं प्रदीप

वार्ता

There is no row at position 0.
image