Friday, Mar 5 2021 | Time 13:30 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पुड्डुचेरी में नौ करोड़ रुपये का 18 किलोग्राम सोना जब्त
  • आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों के वाहन पर हथगोला फेंका
  • अफगानिस्तान में हिमस्खलन से 14 लोगों की मौत, पांच घायल
  • विश्व में कोरोना संक्रमितों की संख्या 11 56 करोड़ के पार
  • महाराष्ट्र में कोरोना के सक्रिय मामलों में लगातार वृद्धि, केरल में घटे
  • मोदी ने बीजू पटनायक को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि अर्पित की
  • बारामूला में तलाश एवं घेराबंदी अभियान शुरू
  • कोरोना के सक्रिय मामले और मृतकों की संख्या में बढ़ोतरी
  • शिवराज को मोदी समेत वरिष्ठ भाजपा नेताओं ने दीं जन्मदिन की शुभकामनाएं
  • नायडू ने की देश दुनिया में शांति समृद्धि की कामना
  • विदेशों में उबाल, देश में छठवें दिन ईंधन की कीमतों में टिकाव
  • अमेरिका में अर्थव्यवस्था के लिए 1 9 ट्रिलियन डॉलर का राहत पैकेज
  • ब्राजील में कोविड-19 से 2 60 लाख से अधिक लोगों की मौत
  • ताइवान को हथियारों की आपूर्ति करना आवश्यक : एडमिरल डैविडसन
भारत


ग्यारहवें दौर की बैठक रही बेनतीजा,अगली बैठक की तिथि तय नहीं

ग्यारहवें दौर की बैठक रही बेनतीजा,अगली बैठक की तिथि तय नहीं

नयी दिल्‍ली, 22 जनवरी (वार्ता) किसान संगठनों और सरकार के बीच शुक्रवार को हुई 11वें दौर की बैठक दोनों पक्षों के अपने-अपने रुख पर अड़े रहने के कारण बेनतीजा रही।

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बैठक के बाद कहा कि बातचीत का कोई नतीजा नहीं निकला क्योंकि किसान संगठन अपने-अपने रुख पर अड़े रहे। उन्होंने कहा कि सरकार की ओर से कई वैकल्पिक प्रस्ताव दिए जाने के बावजूद किसान संगठन कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग पर अड़े रहे। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार किसानों को लेकर प्रतिबद्ध है। कृषि सुधार कानून किसानों के अच्छे मुनाफे के पक्षधर हैं। सरकार किसानों की सभी शंकाओं के समाधान के लिए तैयार है।

उन्होंने कहा कि अब बैठक की कोई तिथि तय नहीं की गयी है, यदि किसान संगठन कृषि सुधार कानूनों को एक से डेढ़ वर्ष तक स्थगित रखने के प्रस्ताव पर विचार करने के बाद किसी फैसले पर पहुंचते हैं तो सरकार बातचीत करने को तैयार है।

श्री तोमर ने कहा कि कुछ लोग किसान आंदोलन का राजनीतिक फायदा उठा रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमने किसानों को सबसे बेहतर प्रस्ताव दे दिया है, लेकिन कुछ ताकतें चाहती हैं कि आंदोलन कभी खत्म ही न हो और इसका कोई बेहतर नतीजा न निकल सके।

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में किसानों और गरीबों के उत्थान के लिए प्रतिबद्ध है और आगे भी इसी मंशा से काम करती रहेगी। पंजाब और कुछ अन्य राज्यों के किसान कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं। आंदोलन के दौरान लगातार ये कोशिशें हुईं कि जनता और किसानों के बीच भ्रम फैले।

कृषि मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार की कोशिश थी कि किसान संगठन सही दिशा में विचार करें, जिसके लिए 11वें दौर की बैठक की गई, लेकिन किसान संगठन कानून वापस लेने की मांग पर अड़े रहे। सरकार ने उन्हें कई प्रस्ताव दिए लेकिन जब आंदोलन की पवित्रता नष्ट हो जाती है तो निर्णय नहीं होता।

टीम.श्रवण

वार्ता

More News
मोदी ने बीजू पटनायक को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि अर्पित की

मोदी ने बीजू पटनायक को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि अर्पित की

05 Mar 2021 | 11:57 AM

नयी दिल्ली 05 मार्च (वार्ता) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ओडिशा के पूर्व मुख्यमंत्री बीजू पटनायक को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि अर्पित की है।

see more..

05 Mar 2021 | 10:54 AM

see more..
कोरोना के सक्रिय मामले और मृतकों की संख्या में बढ़ोतरी

कोरोना के सक्रिय मामले और मृतकों की संख्या में बढ़ोतरी

05 Mar 2021 | 10:25 AM

नयी दिल्ली 05 मार्च (वार्ता) देश के कुछ राज्यों में कोरोना वायरस (कोविड-19) संक्रमण में पिछले कुछ समय से अचानक आयी तेजी के बीच सक्रिय मामलों में बढ़ोतरी जारी है और इस महामारी से मरने वाले लोगों की संख्या फिर 100 से अधिक हो गई है।

see more..
नायडू ने की देश दुनिया में शांति समृद्धि की कामना

नायडू ने की देश दुनिया में शांति समृद्धि की कामना

05 Mar 2021 | 10:15 AM

नयी दिल्ली 05 मार्च (वार्ता) उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडु ने शुक्रवार को तिरुमाला में प्रभु वेंकटेश्वर के दर्शन किये और देश दुनिया के लिए समृद्धि और खुशहाली की कामना की।

see more..
image