Sunday, Nov 1 2020 | Time 06:38 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • इजरायल में कोरोना संक्रमण के 721 नये मामले
  • फ्रांस में कोरोना संक्रमण के 35,641 नये मामले
  • फ्रांस के लियोन में चर्च के पादरी पर हमला
  • ब्रिटेन में कोरोना संक्रमितों की संख्या 10 लाख के पार
  • ब्रिटेन में कोरोना संक्रमितों की संख्या 10 लाख के पार
  • ईरान में कोरोना संक्रमण के 7,820 नये मामले
लोकरुचि


मनोवांछित फल प्रदान करने वाली है मां वनखंडी देवी

मनोवांछित फल प्रदान करने वाली है मां वनखंडी देवी

जालौन 16 अक्टूबर (वार्ता) चंदेलवंशी राजाओं की कर्मभूमि और महर्षि व्यास की जन्मस्थली के तौर पर विख्यात ऐतिहासिक नगरी कालपी में मनोकामनाओं की पूर्ति करने वाली पौराणिक वनखंडी देवी के मंदिर में इस साल कोरोना के मद्देनजर मेले का आयोजन नहीं किया जायेगा।

बुंदेलखंड का प्रवेश द्वार कहे जाने वाले जालौन जिले के कालपी कस्बे में स्थित मंदिर के महंत जमुना दास ने बताया कि कोरोना संक्रमण के चलते एहतियात के तौर पर शारदीय नवरात्र में इस साल मेले का आयोजन नहीं किया जायेगा जबकि मंदिर में श्रद्धालुओं को कोविड-19 प्रोटोकाल का पालन करते हुये देवी के दर्शन करने होंगे।

भव्य मंदिर में मां वनखंडी छोटी से मठिया में आज भी विराजमान है। महंत दास ने बताया कि जब कभी भी मठिया को विशाल रूप देने का विचार आया तो मां ने स्वप्न में दर्शन देकर ऐसा नहीं करने की चेतावनी दी। मान्यता है कि मठिया में पिंडी की शक्ल में विराजमान माता भवानी भक्तों की मनोवांछित इच्छाओं की पूर्ति करती हैं।

महंत ने बताया कि सृष्टि के प्रारंभ से निराकार स्वरुप में प्रतिष्ठित यह शक्तिपुंज जो वर्तमान में वनखंड में विराजत होने के कारण वनखंडी तथा अच्छे-अच्छे शूरमाओं अभिमानिओं एवं विघ्नों का खंडन करने के कारण बलखंडी नाम से जानी जाती हैं |

किवदंती के अनुसार प्राचीन काल में सुधांशु नाम के एक ब्राह्मण के कोई संतान नही थी। एक बार देवर्षि नारद मृत्युलोक में घूमते हुए उनके घर के सामने से निकले और ब्राम्हण से उसके दुख का कारण पूछा। ब्राम्हण ने संतान सुख न होने की अपनी व्यथा कही। नारद ने कहा कि वह उसकी प्रार्थना भगवान विष्णु से कहकर दुख दूर की प्रार्थना करेंगे। नारद से ब्राम्हण की व्यथा सुनकर भगवान् विष्णु ले कहा कि इस जन्म में उसके कोई संतान योग नही है। यही बात नारद जी ने ब्रम्हा एवं शिव से पूछी | उन्होंने ने भी यही उत्तर दिया। नारद ने वापस लौटकर ब्राम्हण को यह रहस्य बताया। निसंतान ब्राम्हण यह सुनकर दुखी हुआ पर भावी को कौन बदल सकता है |

      कुछ वर्षोपरांत एक दिन सात वर्ष की एक कन्या उसके द्वार के सामने से कहते हुए निकली कि जो कोई मुझे हलुआ-पूड़ी का भोजन कराएगा वह मनवांछित वर पायेगा। यह बात उस सुधांशु ब्राम्हण की पत्नी ने सुनीं तो दौड़कर बाहर आयी और कन्या को आदर के साथ हलुआ-पूड़ी का भोजन कराया। भोजनोपरांत ब्राम्हण पत्नी ने कहा कि देवी मेरे कोई संतान नही है ,कृपया मुझे संतान सुख का वर दीजिये। कन्या ने “तथास्तु” कहा। ब्राम्हण पत्नी ने उस कन्या से उसका नाम व धाम के बारे में पूछा। कन्या ने अपना नाम जगदम्बिका तथा अपना धाम अम्बिकावन बताया।

कुछ समय बाद ब्राम्हण को पुत्र प्राप्ति हुई। पुत्र जब कुछ बड़ा हुआ तो एक दिन देवर्षि नारद का पुन: आगमन हु और उन्होने ब्राम्हण से पूछा ये पुत्र किसका है तो ब्राम्हण ने बताया कि यह पुत्र मेरा है। ब्राम्हण कि बात सुन नारद ने विष्णु के लोक में जाकर उनसे ब्राम्हण पुत्र के बारे में चर्चा की। भगवान् ने कहा ऐसा हो ही नही सकता। तब नारद जी के अनुरोध पर त्रिदेव नारद जी के साथ ब्राम्हण के यहाँ पधारे।

ब्राम्हण से पुत्र प्राप्ति का सम्पूर्ण वृतांत जानकार त्रिदेव नारद जी एवं ब्राम्हण के साथ अम्बिकावन को प्रस्थान किये। अम्बिकावन में उन्हें वह देवी एक वृक्ष के नीचे बैठी हुई दिखी। उस समय सर्दी का मौसम था एवं शीत लहर ले साथ वर्षा भी हो रही थी। शीत लहर के कारण ब्राम्हण कांप रहा था। देवी के सिर पर बहुत बड़ा जूड़ा बंधा हुआ है एवं पास में ही एक पात्र में घृत(घी) रखा हुआ है |

ठण्ड से कांपते ब्राम्हण को देख देवी ने पास में रखे हुए घी को अपने बालों में लगाकर उसमे अग्नि प्रज्ज्वलित कर दी ताकि इनकी ठण्ड दूर हो सके लेकिन यह दृश्य देखकर सभी अत्यतेंन भयभीत हो गए एवं देवी से अग्नि शांति की प्रार्थना करने लगे, तब देवी ने अग्नि को शांत कर पूछा कि आप किस लिए यहाँ आये हुए हैं। त्रिदेव अपने आने का सम्पूर्ण कारण बताते हुए बोले, “देवी हम सब कुछ जान चुके हैं कि आप सर्व समर्थ हैं | जो हम नही कर सकते है वो आप कर सकती हैं ।”

यह अम्बिका वन ही अपना कालपी धाम है और माता जगदम्बिका ही माँ वनखंडी हैं। कोई-कोई इन्हें योग माया के नाम से जानते हैं।

      एक अन्य किवदंती के अनुसार झांसी कानपुर रेलवे लाइन ब्रिटिश काल के समय बिछाई जा रही थी , उस समय के अंग्रेज अधिकारी तथा कालपी के पटवारी कानूगो आदि उस स्थान का सर्वेक्षण कर रहे थे। उस समय ब्रिटिश अधिकारी को दो सफ़ेद शेर दिखाई दिए। अधिकारी ने उनका शिकार करना चाहा तो साथ के लोगो ने ऐसा न करने का विनय किया लेकिन अधिकारी का मन नही माना एवं उसने उन शेरों का पीछा किया। अधिकारी के साथ अन्य लोग भी पीछे दौड़ पड़े। जंगल में विचरते हुए वे शेर एक झाड़ी की तरफ आकर गुम हो गए। जब सभी लोग घूम कर उस घनी झाडी के सामने आये तो वे शेर पत्थर के बने हुए वहां पर बैठे थे। उनके (शेरों के) पीछे झाड़ियों के अन्दर माँ की पिण्डी का दर्शन हो रहा था।

उस समय यह पूरा क्षेत्र घनघोर जंगल के रूप में था माँ की पिण्डी झाड़ियों में एक टीले के ऊपर दबी हुई थी जो अपना हल्का सा आभास दे रही थी। उस दृश्य को देखकर वह अंग्रेज अधिकारी एवं उनके साथ के सभी लोग भयभीत एवं चकित हो गए एवं उलटे पैरों वापस लौट पड़े। इस विवरण को उस समय के पटवारी ने अपनी दैनिक डायरी में लिपिबद्ध किया।

कुछ समय बाद एक और घटना घटी। एक चरवाहे की गाय जो बछड़े को जन्म देने के उपरांत जंगल में चरने को आती थी। शाम को जब पहुँचती तो उसके थानों में दूध नही रहता था। चरवाहे ने जांच करने के इरादे से गाय का पीछा किया और देखा कि गाय एक टीले पर जाकर झाड़ियों के बीच में खड़ी हुई तथा उस टीले पर दिखाई दे रहे एक पत्थर पर गाय के थनों से दूध निकल कर बहने लगा। जैसे वह गाय उस दूध से उस पत्थर का अभिषेक कर रही हो। यह देख उसने अपने साथियों को बुला कर पत्थर को निकलना चाहा लेकिन जितना वो खोदते उतना ही वो पत्थर गहरा होता जाता था | अंत में उस पत्थर को उसी स्थान पर छोड़ दिया गया एवं सभी अपने-अपने घर को आ गए। रात्रि में चरवाहे को माँ ने स्वप्न में बताया “ मैं जगतजननी जगदम्बा हूँ तथा वह मेरा ही स्थान है। वहां पर जो कोई भी हलुआ-पूड़ी का मुझे भोग लगाएगा उसकी सभी अभिलाषाओं की मैं पूर्ति करुँगी।”

सं प्रदीप

वार्ता

More News
तीन शिव मंदिरों के साथ अद्भूत त्रिभुज का निर्माण करता है अंबिका मंदिर

तीन शिव मंदिरों के साथ अद्भूत त्रिभुज का निर्माण करता है अंबिका मंदिर

25 Oct 2020 | 1:57 PM

छपरा, 25 अक्टूबर (वार्ता) बिहार के सारण जिला मुख्यालय छपरा से लगभग 24 किलोमीटर पूर्व दिघवारा इलाके में अवस्थित अम्बिका स्थान मंदिर श्रद्धालुओं के लिए आस्था का केंद्र है जो भगवान शिव के विश्वप्रसिद्ध पशुपतिनाथ मंदिर, विश्वनाथ मंदिर और वैद्यनाथ धाम के साथ अद्भुत त्रिभुज का निर्माण करता है।

see more..
पटना की नगर रक्षिका है मां पटनेश्वरी

पटना की नगर रक्षिका है मां पटनेश्वरी

24 Oct 2020 | 10:55 AM

पटना, 24 अक्टूबर (वार्ता) देश के प्रमुख शक्ति उपासना केंद्रों में शामिल पटना के पटन देवी मंदिर में विद्यमान मां भगवती को पटना की नगर रक्षिका माना जाता है।

see more..
झांसी: महाकाली के दर पर सिर झुकाकर इंदिरा ने पाया था दोबारा राजयोग

झांसी: महाकाली के दर पर सिर झुकाकर इंदिरा ने पाया था दोबारा राजयोग

23 Oct 2020 | 5:07 PM

झांसी 23 अक्टूबर (वार्ता) बुंदेलखंड की वीरांगना नगरी झांसी स्थित महाकाली विद्यापीठ मंदिर की महिमा यूं पूरे क्षेत्र में विख्यात है और लोग इस शक्ति को मानते हैं।

see more..
रक्तबीज की तरह कोरोना का विनाश करेंगी काली

रक्तबीज की तरह कोरोना का विनाश करेंगी काली

23 Oct 2020 | 2:01 PM

मथुरा 23 अक्टूबर (वार्ता) उत्तर प्रदेश में कान्हानगरी मथुरा के काली मंदिर में नवरात्रि के अवसर पर परंपरागत पूजा के साथ कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए विशेष सामूहिक आराधना भी की जा रही है ।

see more..
मां चामुंडा मंदिर में भक्तों को कष्टों से मिलती है मुक्ति

मां चामुंडा मंदिर में भक्तों को कष्टों से मिलती है मुक्ति

23 Oct 2020 | 11:03 AM

नवादा, 23 अक्टूबर (वार्ता) बिहार में नवादा जिले के रूपौ गांव स्थित मां चामुंडा मंदिर में पूजा करने से भक्तों की मनोकामनाएं पूर्ण होने के साथ ही उन्हें कष्टों से मुक्ति भी मिल जाती है।

see more..
image