Tuesday, Nov 13 2018 | Time 21:11 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • उप्र सरकार के सतत प्रयास से प्रदेश के सभी क्षेत्रों में उल्लेखनीय प्रगति:योगी
  • धनगर समाज ने आरक्षण के लिए रैली निकाली
  • कैलिफोर्निया के जंगलों में भीषण आग, 44 मरे
  • स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए प्रतिबद्ध है आयोग - रावत
  • चेन्नई ने ईस्ट बंगाल को 2-1 से हराया
  • विकास कार्यों में मिट्टी खनन के लिए अनापत्ति प्रमाण पत्र देने में विलम्ब न हो:मौर्य
  • रोहिंग्याओं की सुरक्षित वापसी के लिए म्यांमार पर अंतरराष्ट्रीय दबाव बने: बंगलादेश
  • इजरायली हवाई हमले में छह फिलीस्तीनियों की मौत
  • कोलकाता में होगा भारत-इटली डेविस कप मुकाबला
  • कोलकाता में होगा भारत-इटली डेविस कप मुकाबला
  • फाेटो कैप्शन दूसरा सेट
  • जम्मू कश्मीर में हुई बारिश
  • लोग सामाजिक बुराईयां समाप्त करने का संकल्प लें: खट्टर
  • सरकार ने आठ मैती उग्रवादी संगठनों पर प्रतिबंध लगाया
  • रोज़गार मेले के पहले दिन 489 नौजवानों को मिली नौकरियाँ
बिजनेस Share

स्कूल में कृषि को लेकर बने समर्पित पाठ्यक्रम : महापात्रा

नयी दिल्ली 03 सितम्बर (वार्ता) भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) ने युवाओं में कृषि के प्रति घटते आकर्षण को ध्यान में रख कर मानव संसाधान विकास मंत्रालय से स्कूली शिक्षा में ‘कृषि के प्रति समर्पित’ पाठ्यक्रम तैयार करने तथा उसकी पढाई पर ज्यादा ध्यान देने का अनुरोध किया है ।
आईसीआर के महानिदेशक त्रिलोचन महापात्रा के अनुसार जिस प्रकार से स्कूलों में गणित,भौतिक विज्ञान और रसायन शास्त्र की पढाई पर विशेष ध्यान दिया जाता है ठीक उसी प्रकार से कृषि शिक्षा पर भी जाेर दिये जाने की जरूरत है जिससे नयी पीढी में कृषि के प्रति लगाव उत्पन्न हो सके। उन्होंने कहा कि देश में स्कूली स्तर पर कृषि शिक्षा बहुत कम है जिसके कारण इसके लिए एक समर्पित पाठ्यक्रम तैयार करने की जरुरत है। आईसीएआर ने इस संबंध में मानव संसाधन मंत्रालय को पत्र भी लिखा है ।
डाॅ महापात्रा ने कहा कि आज मुश्किल से पांच प्रतिशत युवक रोजगार का कोई विकल्प नहीं होने पर खेती का पेशा अपनाते हैं। खेती को लेकर समाज में ऐसी मान्यता भी बन गयी है जिसके कारण युवा इस ओर नहीं जाना चाहते हैं । उन्होंने कहा कि उनके राज्य ओडिशा में ही युवक शहर जा कर छोटा -मोटा काम कर लेते हैं लेकिन वे खेती नहीं करना चाहते हैं। ऐसे में सामाजिक सोच में बदलाव की भी जरुरत है ।
अरुण अर्चना
जारी वार्ता
image