Wednesday, Jan 23 2019 | Time 17:34 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • रेलवे में तत्काल लागू होगा आर्थिक आधार पर अारक्षण : गोयल
  • प्रियंका को वाराणसी में मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ाने की मांग
  • भारत ने बेहतर खेल का प्रदर्शन किया: विलियम्सन
  • रेमंड का मुनाफा 30 फीसदी बढ़ा
  • बैंक ऑफ महाराष्ट्र को 3,700 करोड़ रुपये से अधिक का घाटा
  • मुनाफे में लौटी इंडिगो
  • पूर्वोत्तर में स्वायत्त परिषदों के वित्तीय अधिकार बढाने के लिए आयेगा विधेयक
  • टीम के समर्थन ने मुझे मजबूत बनाया: शमी
  • बघेल ने दी प्रियंका को शुभकामनाएं
  • ग्राम सभाएं गणतंत्र दिवस पर लेंगी महत्वपूर्ण विकास कार्य का फैसला: धनकड़
  • जीत का श्रेय गेंदबाजों को जाता है: विराट
  • दिलशाद गार्डन-गाजियाबाद मेट्रो लाइन को मंजूरी
  • नाबालिग का अपहरण एवं बलात्कार मामले में दोषी को कठोर सजा
  • राजनीति में उतरी प्रियंका, गरमायेगा उत्तर प्रदेश
बिजनेस Share

किसान फोन से किराये पर ले सकेंगे ट्रैक्टर

नयी दिल्ली 04 सितम्बर (वार्ता) दूर-दराज के इलाकों के लघु एवं सीमांत किसान भी अब सिर्फ फोन कर उचित दर पर ट्रैक्टर से अपनी खेत की जुताई करा सकेंगे ।
हैलो ट्रैक्टर सूचना क्षेत्र की कम्पनी एेरिस द्वारा विकसत एक एेप के माध्यम से किसानों को यह सुविधा मुहैया करायेगी। कंपनी ने उचित कीमत पर खेती की जुताई के लिए ट्रैक्टर सेवा शुरु करने की आज घोषणा की। एेरिस टेक्नोलॉजीज के प्रमुख रिषी मोहन भटनागर ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि वह ट्रैक्टर से खेत की जोत की दर नहीं घोषित कर रहे हैं हैं लेकिन जुताई की दर निश्चित रुप से उचित होगी ।
श्री भटनागर ने कहा कि वह नाइजीरिया में इसकी सफलता से उत्साहित होकर अब भारत में 500 ट्रैक्टरों की मदद से यह सेवा शुरु कर रहे हैं। फिलहाल यह सेवा पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड में शुरु की जायेगी। उन्होंने कहा कि खेतों के छोटे-छोटे टुकड़े होने के कारण छोटे किसान ट्रैक्टर से खेत की समय पर जुतायी नहीं करा पाते हैं लेकिन इस सेवा के शुरु होने से वैसे किसान भी खेतों की जुतायी करा पायेंगे ।
उन्होंने दावा किया कि इससे कृषि लागत दर कम होगी और उत्पादकता भी बढेगी तथा किसानों की आय दोगुनी करने में मदद मिलेगी। पंजाब और हरियाणा जैसे समृद्ध राज्यों में अभी यह सेवा नहीं शुरु की जायेगी क्यों यहां पहले से ही पर्याप्त संख्या में ट्रैक्टर हैं। उन्होंने कहा कि बंगलादेश में भी 100 ट्रैक्टर से यह सेवा शुरु की जा रही है ।
‘हैलो ट्रैक्टर’ ट्रैक्टर निर्माता कम्पनियों के माध्यम से ट्रैक्टर उपलब्ध करायेगी जबकि एेरिस इसके लिये एेप और अन्य संचार उपकरण उपलब्ध करायेगी, जिससे यह पता चल सकेगा कि ट्रैक्टर कहां है और उसने दिन भर में कितना काम किया है ।
अरुण अर्चना
वार्ता
More News

मुनाफे में लौटी इंडिगो

23 Jan 2019 | 5:22 PM

 Sharesee more..

बाजार भाव दो अतिम जबलपुर

23 Jan 2019 | 4:26 PM

 Sharesee more..

जबलपुर बाजार भाव

23 Jan 2019 | 4:26 PM

 Sharesee more..
image