Tuesday, Nov 13 2018 | Time 22:06 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • उप्र सरकार के सतत प्रयास से प्रदेश के सभी क्षेत्रों में उल्लेखनीय प्रगति:योगी
  • धनगर समाज ने आरक्षण के लिए रैली निकाली
  • कैलिफोर्निया के जंगलों में भीषण आग, 44 मरे
  • स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए प्रतिबद्ध है आयोग: रावत
  • चेन्नई ने ईस्ट बंगाल को 2-1 से हराया
  • चेन्नई ने ईस्ट बंगाल को 2-1 से हराया
  • विकास कार्यों में मिट्टी खनन के लिए अनापत्ति प्रमाण पत्र देने में विलम्ब न हो:मौर्य
  • रोहिंग्याओं की सुरक्षित वापसी के लिए म्यांमार पर अंतरराष्ट्रीय दबाव बने: बंगलादेश
  • इजरायली हवाई हमले में छह फिलीस्तीनियों की मौत
  • कोलकाता में होगा भारत-इटली डेविस कप मुकाबला
  • कोलकाता में होगा भारत-इटली डेविस कप मुकाबला
  • फाेटो कैप्शन दूसरा सेट
  • जम्मू कश्मीर में हुई बारिश
  • लोग सामाजिक बुराईयां समाप्त करने का संकल्प लें: खट्टर
  • सरकार ने आठ मैती उग्रवादी संगठनों पर प्रतिबंध लगाया
बिजनेस Share

किसान फोन से किराये पर ले सकेंगे ट्रैक्टर

नयी दिल्ली 04 सितम्बर (वार्ता) दूर-दराज के इलाकों के लघु एवं सीमांत किसान भी अब सिर्फ फोन कर उचित दर पर ट्रैक्टर से अपनी खेत की जुताई करा सकेंगे ।
हैलो ट्रैक्टर सूचना क्षेत्र की कम्पनी एेरिस द्वारा विकसत एक एेप के माध्यम से किसानों को यह सुविधा मुहैया करायेगी। कंपनी ने उचित कीमत पर खेती की जुताई के लिए ट्रैक्टर सेवा शुरु करने की आज घोषणा की। एेरिस टेक्नोलॉजीज के प्रमुख रिषी मोहन भटनागर ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि वह ट्रैक्टर से खेत की जोत की दर नहीं घोषित कर रहे हैं हैं लेकिन जुताई की दर निश्चित रुप से उचित होगी ।
श्री भटनागर ने कहा कि वह नाइजीरिया में इसकी सफलता से उत्साहित होकर अब भारत में 500 ट्रैक्टरों की मदद से यह सेवा शुरु कर रहे हैं। फिलहाल यह सेवा पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड में शुरु की जायेगी। उन्होंने कहा कि खेतों के छोटे-छोटे टुकड़े होने के कारण छोटे किसान ट्रैक्टर से खेत की समय पर जुतायी नहीं करा पाते हैं लेकिन इस सेवा के शुरु होने से वैसे किसान भी खेतों की जुतायी करा पायेंगे ।
उन्होंने दावा किया कि इससे कृषि लागत दर कम होगी और उत्पादकता भी बढेगी तथा किसानों की आय दोगुनी करने में मदद मिलेगी। पंजाब और हरियाणा जैसे समृद्ध राज्यों में अभी यह सेवा नहीं शुरु की जायेगी क्यों यहां पहले से ही पर्याप्त संख्या में ट्रैक्टर हैं। उन्होंने कहा कि बंगलादेश में भी 100 ट्रैक्टर से यह सेवा शुरु की जा रही है ।
‘हैलो ट्रैक्टर’ ट्रैक्टर निर्माता कम्पनियों के माध्यम से ट्रैक्टर उपलब्ध करायेगी जबकि एेरिस इसके लिये एेप और अन्य संचार उपकरण उपलब्ध करायेगी, जिससे यह पता चल सकेगा कि ट्रैक्टर कहां है और उसने दिन भर में कितना काम किया है ।
अरुण अर्चना
वार्ता
image