Wednesday, Nov 14 2018 | Time 19:45 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • चेन्नई सर्राफा के भाव
  • राजेन्द्र प्रसाद केन्द्रीय कृषि विश्वविद्यालय की आय पांच गुणा बढ़ी :राधामोहन
  • राजेन्द्र प्रसाद केन्द्रीय कृषि विश्वविद्यालय की आय पांच गुणा बढ़ी :राधामोहन
  • बूथ का कार्यकर्ता ही भाजपा की रीढ़ है: मौर्य
  • अंबानी के मन की बात सुनाते हैं जनता को मोदी: राहुल
  • हरियाणा में 14 एचसीएस अधिकारियों के तबादले
  • यूनीसेफ इंडिया की पहली यूथ एम्बेसेडर बनीं हिमा
  • यूनीसेफ इंडिया की पहली यूथ एम्बेसेडर बनीं हिमा
  • शिवभक्त नहीं, बगुला भगत हैं राहुल गांधी:भाजपा
  • बूथ स्तर तक पार्टी के कार्यकर्ताओं ने अच्छा काम किया: दानवे
  • प्रकाश पर्व पर अमरिंदर करेंगे विकास योजनाओं की शुरुआत
  • राम नाईक ने उच्च न्यायालय के नवनियुक्त मुख्य न्यायाधीश को दिलायी शपथ
  • शौरी का नाबाद शतक, दिल्ली ने हिमाचल को दिया 376 का लक्ष्य
  • शौरी का नाबाद शतक, दिल्ली ने हिमाचल को दिया 376 का लक्ष्य
बिजनेस Share

सुपर स्पेशिलिटी अस्पतालों की सेवायें की आयोग करेगा जांच

सुपर स्पेशिलिटी अस्पतालों की सेवायें की आयोग करेगा जांच

नयी दिल्ली 05 सितंबर (वार्ता) दिल्ली और आसपास के सुपर स्पेशिलिटी अस्पतालों में भर्ती होने वाले मरीजों से हेल्थकेयर उत्पादों पर बाजार से अधिक कीमत वसूलने वाले अस्पतालों की अब भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग जांच करेगा।

आयोग ने मिले अधिकारों के तहत अपने जांच का दायरा बढ़ाते हुये और उपभोक्ताओं के हितों की रक्षा को ध्यान में रखते हुये दिल्ली और आसपास के सुपर स्पेशिलिटी अस्पतालों द्वारा दी जाने वाली सेवाओं और हेल्थकेयर उत्पादों में कथित धांधली के मामलों की जांच करने का निर्णय लिया है। आयोग ने प्रतिस्पर्धा कानून 2002 की धारा तीन और चार के प्रावधानों के कथित उल्लंघन के वर्ष 2015 के एक मामले की महानिदेशक द्वारा की गयी जांच के बाद सौंपी गयी रिपोर्ट के आधार पर यह निर्णय लिया है। वर्ष 2015 में निजी सुपर स्पेशिलिटी अस्पतालों द्वारा अनुचित मूल्य वसूले जाने के संबंध में एक मामला आयोग के पास आया था।

आयोग ने कहा है कि उसके जांच के दायरे में सुपर स्पेशिलिटी अस्पतालों में भर्ती मरीजों को दिये जाने वाले उत्पाद होंगे। इनमें ऐसे उत्पाद आयेंगे जिनका चिकित्सकीय प्रक्रिया में त्वरित जरूरत नहीं होगी या इसके लिए उच्च गुणवत्ता की भी आवश्यकता नहीं होती है और ऐसे उत्पादों को मरीज के पास बाहर से खरीदने का भी समय होता और बाजार में उनकी कीमतें भी कम है।

आयोग ने महानिदेशक को जांच को त्वरित गति से पूरा करने का निर्देश भी दिया है।

शेखर अर्चना

वार्ता

More News

14 Nov 2018 | 5:31 PM

 Sharesee more..

14 Nov 2018 | 5:06 PM

 Sharesee more..
image