Wednesday, Jul 17 2019 | Time 17:52 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • लखनऊ राजभवन में स्वामी विवेकानन्द की मूर्ति का अनावरण
  • कृष की इच्छामृत्यु के मांग मामले की भागलपुर जिला प्रशासन ने कराई जांच
  • शास्त्री बने रह सकते हैं टीम इंडिया के कोच
  • शेयर बाजार में तीसरे दिन तेजी जारी
  • ट्रेन से कटकर युवती की मौत
  • डिश टीवी ने बुजुर्गों के लिए शुरू की ‘आयुष्मान एक्टिव’ सेवा
  • सोनभद्र में जमीनी विवाद में गोलीबारी, तीन महिलाओं समेत नौ लोगों की मौत
  • इलाहाबाद -दीनदयाल उपाध्याय जं के बीच बिछेगी तीसरी पटरी
  • चिकित्सा परिषद् की जगह राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग के गठन पर मंत्रिमंडल की मुहर
  • हाईकोर्ट ने राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, जिलाधिकारी से मांगा जवाब
  • एनआईए के दुरुपयोग की आशंका जतायी विपक्ष ने
  • विश्वास मत का समर्थन करेंगे या नहीं, इस फैसला अभी नहीं: बसपा विधायक
  • बेबी ने किया पुस्तक, एक लघु डाक्यूमेंट्री फिल्म का विमोचन
  • कुलदीप बिश्नोई ने सरकार पर लगाया आदमपुर से भेदभाव करने का आरोप
  • सोनभद्र में जमीनी विवाद में गोलीबारी, तीन महिलाओं समेत नौ लोगों की मौत
बिजनेस


खराब हिप इम्प्लांट का मुआवजा देने को तैयार जॉनसन एंड जॉनसन

न्यू जर्सी(अमेरिका) 07 सितंबर (रायटर) हेल्थकेयर क्षेत्र की अमेरिका की जानी मानी कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन ने भारत में अपने खराबी वाले हिप इम्प्लांट से प्रभावित मरीजों को मुआवजा देने पर सहमति जताते हुये कहा है कि वह इसके लिये केंद्र सरकार के साथ मिलकर काम करेगी।
कंपनी ने रायटर को भेजे ईमेल में आज कहा कि वह भारत सरकार के साथ मिलकर मरीजों को मुआवजा देने की दिशा में काम करेगी। कंपनी यह मुआवजा आठ साल पहले वर्ष 2010 में बाजार से वापस लिये गये अपने खराब हिप इम्प्लांट की एवज में देगी। गत माह भारत सरकार द्वारा गठित एक पैनल ने जॉनसन एंड जॉनसन द्वारा एएसआर हिप इम्प्लांट से प्रभावित प्रत्येक मरीजों को कम से कम 20 लाख रुपये का मुआवजा देने की सिफारिश की थी।
कंपनी की प्रवक्ता ने ईमेल में कहा है,“ हम हमेशा से भारत और दुनिया भर में सभी एएसआर मरीजों को मदद देने के प्रति पूर्ण प्रतिबद्ध रहे हैं। हाल की रिपोर्ट के प्रकाश में हम भारत सरकार के साथ मिलकर प्रभावित मरीजों कोमुआवजा और मदद देने के लिये एक समुचित प्रक्रिया विकसित करना चाहते हैं।
वर्ष 2013 में कंपनी अपने खराबी वाले हिप इम्प्लांट से प्रभावित अमेरिका केे हजारों मरीजों को करीब ढाई अरब डॉलर का मुआवजा देने पर पर राजी हुई थी। भारत में कंपनी ने हिप इम्प्लांट के बाद दोबारा सर्जरी कराने वाले मरीजों को महज 20 लाख डॉलर का भुगतान किया और एएसआर रिइम्बर्समेंट प्रोग्राम के तहत ढाई लाख डॉलर डायग्नॉस्टिक लागत के रूप में दिये। भारत सरकार द्वारा गठित पैनल ने प्रभावित मरीजों को कोई मुआवजा न देने को लेकर कंपनी की आलोचना की। पैनल के मुताबिक दुनियाभर में लगभग 93,000 मरीजों ने एएसआर हिप इम्प्लांट कराया जिनमें से करीब 4,700 इम्प्लांट भारत में किये गये।
अर्चना
रायटर
More News
सोना 70 रुपये टूटा, चांदी 40 हजार के पार पहुंची

सोना 70 रुपये टूटा, चांदी 40 हजार के पार पहुंची

17 Jul 2019 | 4:39 PM

नयी दिल्ली 17 जुलाई (वार्ता) अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कीमती धातुओं में उतार चढ़ाव के बीच दिल्ली सर्राफा बाजार में बुधवार को सोना 70 रुपये उतरकर 35,500 रुपये प्रति 10 ग्राम पर रहा जबकि चांदी 660 रुपये उछलकर 40 जार रुपये के मनोवैज्ञानिक स्तर को पार कर 40,190 रुपये प्रति किलोग्राम बोली गयी।

see more..
image