Friday, Nov 16 2018 | Time 19:02 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • भारत की गन्ना किसानों को सब्सिडी योजना के खिलाफ डब्ल्यूटीओ गया ऑस्ट्रेलिया
  • झांसी को स्वच्छता सर्वेक्षण में पहले स्थान पर लाने को और प्रयास जरूरी: सुरेश खन्ना
  • न्यायालय ने दिए अवन्तिका आवास योजना में सीवर प्लान तैयार करने का निर्देश
  • बागेश्वर में तेंदुए के बच्चे की मौत
  • राजधानी एक्सप्रेस में जवान ने साथी जवान को मारी गोली
  • इटावा पुलिस ने मुठभेड़ में किया चार हाइवे लुटेरो को गिरफतार
  • गरीबों के लिए सरकार ने शुरू की है कई योजनाएं: हैनरी
  • झांसी:खुदाई स्थल का अपरजिलाधिकारी ने किया मुआयना
  • पत्रकारिता की विश्वसनीयता बरकरार रखना सबसे बड़ी चुनौती:जेटली
  • महाराष्ट्र में मराठा समुदाय को आरक्षण तो गुजरात में पाटीदारों को क्यों नहीं - हार्दिक
  • इंदरी में दस सड़कों को बेहतर बनाने हेतु 5 15 करोड़ रूपये मंजूर
  • चौटाला परिवार में आर-पार की लड़ाई कल
  • कांग्रेस ने झारखंड के लिए गठित की चुनाव समिति
  • अयोध्या में शीघ्र राम मंदिर निर्माण के लिए कानून या अध्यादेश लाये सरकार :रामदेव
  • राम मंदिर बनाने में भाजपा सबसे बड़ी रुकावट: सिंगला
बिजनेस Share

खराब हिप इम्प्लांट का मुआवजा देने को तैयार जॉनसन एंड जॉनसन

न्यू जर्सी(अमेरिका) 07 सितंबर (रायटर) हेल्थकेयर क्षेत्र की अमेरिका की जानी मानी कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन ने भारत में अपने खराबी वाले हिप इम्प्लांट से प्रभावित मरीजों को मुआवजा देने पर सहमति जताते हुये कहा है कि वह इसके लिये केंद्र सरकार के साथ मिलकर काम करेगी।
कंपनी ने रायटर को भेजे ईमेल में आज कहा कि वह भारत सरकार के साथ मिलकर मरीजों को मुआवजा देने की दिशा में काम करेगी। कंपनी यह मुआवजा आठ साल पहले वर्ष 2010 में बाजार से वापस लिये गये अपने खराब हिप इम्प्लांट की एवज में देगी। गत माह भारत सरकार द्वारा गठित एक पैनल ने जॉनसन एंड जॉनसन द्वारा एएसआर हिप इम्प्लांट से प्रभावित प्रत्येक मरीजों को कम से कम 20 लाख रुपये का मुआवजा देने की सिफारिश की थी।
कंपनी की प्रवक्ता ने ईमेल में कहा है,“ हम हमेशा से भारत और दुनिया भर में सभी एएसआर मरीजों को मदद देने के प्रति पूर्ण प्रतिबद्ध रहे हैं। हाल की रिपोर्ट के प्रकाश में हम भारत सरकार के साथ मिलकर प्रभावित मरीजों कोमुआवजा और मदद देने के लिये एक समुचित प्रक्रिया विकसित करना चाहते हैं।
वर्ष 2013 में कंपनी अपने खराबी वाले हिप इम्प्लांट से प्रभावित अमेरिका केे हजारों मरीजों को करीब ढाई अरब डॉलर का मुआवजा देने पर पर राजी हुई थी। भारत में कंपनी ने हिप इम्प्लांट के बाद दोबारा सर्जरी कराने वाले मरीजों को महज 20 लाख डॉलर का भुगतान किया और एएसआर रिइम्बर्समेंट प्रोग्राम के तहत ढाई लाख डॉलर डायग्नॉस्टिक लागत के रूप में दिये। भारत सरकार द्वारा गठित पैनल ने प्रभावित मरीजों को कोई मुआवजा न देने को लेकर कंपनी की आलोचना की। पैनल के मुताबिक दुनियाभर में लगभग 93,000 मरीजों ने एएसआर हिप इम्प्लांट कराया जिनमें से करीब 4,700 इम्प्लांट भारत में किये गये।
अर्चना
रायटर
More News

लगातार चौथे दिन मजबूत हुआ रुपया

16 Nov 2018 | 6:42 PM

 Sharesee more..

16 Nov 2018 | 6:36 PM

 Sharesee more..

16 Nov 2018 | 6:36 PM

 Sharesee more..

16 Nov 2018 | 6:35 PM

 Sharesee more..
image