Thursday, Nov 15 2018 | Time 20:11 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • हिजबुल मुजाहिदीन का आतंकवादी गिरफ्तार
  • एम्बुलेंस और कार की टक्कर में एक महिला की मौत
  • महिलाओं को दुपहिया वाहन चलाने और तकनीकी प्रशिक्षण को लेकर समझौता
  • स्पेश्यलिटी केमिकल्स कंपनी लैंक्सेस का भारत में 1250 करोड़ रुपये के निवेश की योजना
  • स्पेश्यलिटी केमिकल्स कंपनी लैंक्सेस का भारत में 1250 करोड़ रुपये के निवेश की योजना
  • लालकुआं में पति ने सरेबाजार पत्नी को चाकू मारा, फरार
  • जदयू की विधायक मंजू वर्मा पार्टी से निलंबित
  • सऊदी अरब ने पत्रकार हत्या मामले में शहजादे को दी क्लीन चिट
  • अक्टूबर में निर्यात करीब 18 फीसदी बढ़ा
  • हुड्डा की मुश्किलें बढ़ीं, नेशनल हेराल्ड मामले में चलेगा मुकदमा
  • अफगानिस्तान ने पाकिस्तान को सौंपा पुलिस अधिकारी डावर का शव
  • राफेल पर फ्रांस ने नहीं दी गारंटी : राहुल
  • दक्षिण भारतीय एथलीटों का वर्चस्व कायम, जीते 23 पदक
  • बीडीओ की अनिश्चितकालीन हड़ताल 26 नवंबर से
बिजनेस Share

फार्म जीएसटीआर-1 और फार्म जीएसटीआर थ्री बी भरने की अवधि बढ़ी

नयी दिल्ली 10 सितंबर (वार्ता) सरकार ने फार्म जीएसटीआर-1 नहीं भरने वालों को प्राेत्साहित करने के लिए जुलाई 2017 से सितंबर 2018 तक का जीएसटीआर-1 एक साथ बगैर विलंब शुल्क के 31 अक्टूबर 2018 तक भरने की छूट देने की घोषणा की है।
आधिकारिक जानकारी के अनुसार अक्सर ऐसा देखा जा रहा है कि जितने करदाता जीएसटीआर थ्री बी भर रहे हैं उतने करदाता जीएसटीआर-1 नहीं भर रहे हैं। करदाताओं को जीएसटीआर-1 भरने के लिए प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से जुलाई 2017 से सितंबर 2018 तक का जीएसटीआर-1 बगैर विलंब शुल्क के 31 अक्टूबर तक भरा जा सकता है। बयान में कहा गया है कि 1.5 करोड़ रुपये से अधिक के कारोबार वाले सभी पंजीकृत करदाता इस अवधि में जीएसटीआर -1 भर सकते हैं जिनमें वे व्यक्ति भी शामिल हैं, जो केरल में पंजीकृत हैं और या जिनका कारोबार का मुख्य केन्द्र कर्नाटक का कोडागु और पुड्डुचेरी का माहे है। इस संबंध में अधिसूचना जारी कर दी गयी है।
इसी तरह से जो करदाता अब जीएसटी अपना रहे हैं वे जुलाई 2017 से नवंबर 2018 तक की अवधि के लिए वस्तुओं की आपूर्ति या सेवा या दोनों के लिए जीएसटीआर -1 और जीएसटीआर -थ्री बी 31 दिसंबर 2018 तक भर सकेंगे। इस अवधि में की गयी बढोतरी के संबंध में अधिसूचना जारी कर दी गयी है। बयान में यह भी स्पष्ट किया गया है कि सीजीएसटी की धारा 16(4) के तहत समय पर रिटर्न भरने वालों को ही इनपुट टैक्स क्रेडिट मिलेगा।
शेखर अर्चना
वार्ता
image