Saturday, Jul 20 2019 | Time 14:51 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • भारतीय नागरिकों की रिहाई के लिए ईरान के संपर्क में है भारत
  • आईएमए धोखाधड़ी का आरोपी बेंगलुरु लाया गया
  • दिव्या दत्ता को गौर गोपाल दास ने उबारा डिप्रेशन से
  • ग्रीन वूड प्रोजेक्ट के तहत विकसित होंगे 35 पार्क-धारीवाल
  • मराठवाड़ा में पिछले छह महीनों में 458 किसानों ने की आत्महत्या
  • धोनी ने खुद को विंडीज़ दौरे से किया अलग
  • धोनी ने खुद को विंडीज़ दौरे से किया अलग
  • धनखड़ पश्चिम बंगाल के और फागु चौहान बिहार के नये राज्यपाल
  • पटेल की शानदार पारी के बावजूद हारा भारत ए
  • पटेल की शानदार पारी के बावजूद हारा भारत ए
  • राजनाथ ने कारगिल युद्ध के शहीदों को दी श्रद्धांजलि
  • रमेश बैस त्रिपुरा के तथा आर एन रवि नागालैंड के नये राज्यपाल नियुक्त
  • लाल जी टंडन को बिहार से स्थानांतरित कर मध्य प्रदेश का नया राज्यपाल बनाया गया
  • आनंदी बेन पटेल मध्य प्रदेश से स्थानांतरित कर उत्तर प्रदेश की नयी राज्यपाल बनायी गयीं
बिजनेस


खाद्य जरूरतों को पूरा करने के लिए सभी देश मिलकर काम करें : हरसिमरत

नयी दिल्ली 11 सितम्बर (वार्ता) खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने विश्व की बढ़ती जनसंख्या के लिए खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए कृषि, तकनीक और खाद्य प्रसंस्करण के क्षेत्र में सभी देशों के मिलजुल कर काम करने पर जोर दिया है।
श्रीमती बादल ने यहाँ मंगलवार को वाणिज्य एवं उद्योग महासंघ फिक्की और खाद्य वस्तुओं की कम्पनी कारगिल की ओर से पोषण सुरक्षा को लेकर आयोजित सम्मेलन को सम्बोधित करते हुये कहा कि वर्ष 2050 तक विश्व की आबादी 9.5 अरब हो जायेगी। उस समय तक खाद्य वस्तुओं की माँग दोगुनी हो जायेगी। साथ ही दुनिया में हर छठा व्यक्ति भारतीय होगा।
उन्होंने कहा कि 2030 तक भारत, चीन और इंडोनिशया की आबादी विश्व की कुल आबादी का 65 प्रतिशत हो जायेगी। उस समय तक इन तीनों देशों में 85 प्रतिशत शहरीकरण हो जायेगा। गाँव से शहर में आने के बाद बढ़ते काम की वजह से लोगों के खानपान की आदतों में बदलाव आयेगा और वे प्रसंस्कृत खाद्य वस्तुएँ खाना पसंद करेंगे।
उन्होंने कहा कि ऐसी स्थिति में खाद्य पदार्थों की माँग पूरी करने के लिए सभी देशों को मिलकर काम करने की जरूरत होगी जिससे फसलों की भरपूर पैदावार हो। इसके साथ ही जल्द खराब होने वाली वस्तुओं को नष्ट होने से बचाने की तकनीक, खाद्य प्रसंस्करण की प्रौद्योगिकी और विकास के अन्य क्षेत्रों में दशों को मिलजुल कर काम करना होगा।
अरुण अजीत
जारी वार्ता
image