Tuesday, Jan 22 2019 | Time 18:24 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • ऋषभ आईसीसी एमर्जिंग प्लेयर ऑफ द ईयर चुने गए
  • सहारनपुर में दो तस्कर गिरफ्तार, 22 लाख की शराब बरामद
  • हरियाणा में 13 79 लाख क्विंटल चीनी का उत्पादन
  • हरियाणा में 13 79 लाख क्विंटल चीनी का उत्पादन
  • 5000 स्कूलों को स्मार्ट स्कूलों में बदला जाएगा : सोनी
  • पेस और स्तोसुर मिश्रित युगल के दूसरे दौर में हारे
  • वडोदरा के गांव में घुसा मगरमच्छ का बच्चा
  • मोदी -जगन्नाथ ने काशी में की द्विपक्षीय बैठक
  • हिरण की सींग के साथ तस्कर गिरफ्तार
  • वारंटियों की गिरफ्तारी नहीं होने पर 13 थानाध्यक्षों का वेतन रुका
  • गडकरी ने रावी नदी पर बना पुल राष्ट्र को किया समर्पित
  • एसटीएफ ने लखनऊ में पकड़ी नकली खाद बनाने की कई फैक्ट्री, पांच गिरफ्तार
  • शाह का तृणमूल कांग्रेस को सत्ता से उखाड़ फेंकने का अाह्वान
भारत Share

एनआरसी बेहद महत्वपूर्ण कदम: अमित शाह

नयी दिल्ली 09 सितम्बर (वार्ता) भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष अमित शाह ने रविवार को पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के समापन सत्र को संबोधित करते हुए कहा कि पार्टी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली केन्द्र सरकार और असम सरकार को वर्षों से लंबित राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर(एनआरसी) के वायदे को पूरा करने के लिए बधाई देती है।
श्री शाह ने सत्र को संबोधित करते हुए यहां कहा कि यह देश की सुरक्षा और असम की आर्थिक,राजनैतिक तथा सांस्कृतिक अधिकारों के लिए बेहद महत्वपूर्ण कदम है। देश के आजाद होने से पहले ही असम में बड़ी संख्या में घुसपैठ शुरू हो गया था। आजादी के बाद भी यह सिलसिला बदस्तूर जारी रही, क्योंकि राज्य सरकारों में इसे रोकने की इच्छा शक्ति नहीं थी। बड़ी संख्या में घुसपैठ के कारण ही असम की जनता को सड़कों पर उतराना पड़ा।
उन्होंने कहा कि घुसपैठ के विरूद्ध असम के लोगों ने वर्ष 1979 से 1985 के बीच ऐतिहासिक आंदोलन शुरू किया। खास कर, आॅल असम स्टूडेंट्स यूनियन के नेतृत्व में छात्र और युवाओं ने घुसपैठ के खिलाफ जोरदार विरोध प्रदर्शन किया। इस आंदोलन के दौरान आठ सौ लोगों को प्राण भी न्यौछावर करने पड़े।
श्री शाह ने कहा कि भाजपा ने1980 में अपनी स्थापना के समय से ही असम के लोगों के इस ऐतिहासिक संघर्ष को समर्थन दिया और आंदोलन में सक्रिय रूप से शामिल रही। वर्ष 2013 में उच्चतम न्यायालय ने केन्द्र सरकार को असम के लिए एनआरसी पर काम शुरू करने का आदेश दिया था। लेकिन पूर्ववर्ती केन्द्र सरकारों की इच्छा शक्ति में कमी के कारण इस पर काम नहीं किया गया। श्री मोदी के नेतृत्व में सरकार बनने के तुरंत बाद वैज्ञानिक और पारदर्शी तरीके से इस प्रक्रिया को शुरू किया गया और अंतिम प्रारूप 31 जुलाई 2018 को पूरा हुआ।
उन्होंने कहा कि सरकार असम और उसके नागरिकों के हितों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है। साथ ही, सरकार यह भी सुनिश्चित करेगी कि कोई भी भारतीय नागरिकता से वंचित नहीं रहे। उन्होंने कहा,“हम एनआरसी पर विपक्षी दलों की आेलोचना की कड़ी निंदा करते हैं।”
सचिन आशा
वार्ता
More News
आर्थिक रूप से कमजोर को आरक्षण के खिलाफ तहसीन पहुंचे सुप्रीम कोर्ट

आर्थिक रूप से कमजोर को आरक्षण के खिलाफ तहसीन पहुंचे सुप्रीम कोर्ट

22 Jan 2019 | 5:59 PM

नयी दिल्ली, 22 जनवरी (वार्ता) राजनीतिक विश्लेषक तहसीन पूनावाला ने आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण के प्रावधान वाले संविधान संशोधन को उच्चतम न्यायालय में चुनौती दी है।

 Sharesee more..
निजी हैसियत से गया था लंदन में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में: सिब्बल

निजी हैसियत से गया था लंदन में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में: सिब्बल

22 Jan 2019 | 5:53 PM

नयी दिल्ली, 22 जनवरी (वार्ता) कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने भारतीय जनता पार्टी नेता एवं कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद के इन आरोपों को मंगलवार को पूरी तरह निराधार बताया कि लंदन में इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) पर प्रेस कांफ्रेंस कांग्रेस ने आयोजित करायी थी और स्पष्ट किया कि वह इसमें निजी स्तर पर शामिल हुए थे।

 Sharesee more..
सबरीमला: समीक्षा याचिकाओं की सुनवाई के लिए तिथि मुकर्रर नहीं

सबरीमला: समीक्षा याचिकाओं की सुनवाई के लिए तिथि मुकर्रर नहीं

22 Jan 2019 | 5:45 PM

नयी दिल्ली, 22 जनवरी (वार्ता) उच्चतम न्यायालय ने केरल के सबरीमला स्थित अयप्पा मंदिर में सभी उम्र की महिलाओं को प्रवेश दिये जाने संबंधी फैसले की समीक्षा के लिए दायर याचिकाओं की त्वरित सुनवाई के लिए तारीख मुकर्रर करने से मंगलवार को इन्कार कर दिया।

 Sharesee more..
image