Saturday, Sep 22 2018 | Time 16:26 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • उत्तरी क्षेत्रों के जलाशयों में कम जल स्तर चिंता का विषय
  • तूफान देया के कमजोर पड़ने के बाद बने निम्न दबाव के असर से गुजरात में बरसात
  • पंजाब में जिला परिषद और पंचायत समितियों में कांग्रेस जीत की ओर
  • राफ़ेल पर ओलांद के बयान पर सफाई दें मोदी : हम
  • उत्तराखंड-हिमाचल की सीमा पर वाहन खाई में गिरने से 13 की मौत
  • पांच किलोग्राम हेरोइन के साथ तीन विदेशी गिरफ्तार
  • राफेल मामले की जांच संसद की संयुक्त समिति से करायी जाए: माकपा
  • राजनाथ की राहुल को सलाह- गंभीर आरोप लगाने से पहले चार बार सोचे
  • ईरान में सैन्य परेड के दौरान आतंकवादी हमले 24 मरे
  • नवीन फाइनल में, स्वर्णिम इतिहास से एक कदम दूर
  • राफेल सौदे में ‘चौकीदार’ ही बन गया ‘चोर’: राहुल
  • दिल्ली हवाई अड्डे पर चार करोड़ का सोना पकड़ा
  • भारत-पाकिस्तान के विदेश मंत्रियों की बैठक रद्द होने से इमरान निराश
  • भट्टूकलां ने जीती अंतर महाविद्यालय क्रॉस कंट्री चैम्पियनशिप
भारत Share

श्री प्रधान ने कहा कि चीनी न बनाने के कारण मिलों को होने वाले नुकसान की भरपाई उन्हें ज्यादा मूल्य देकर की जायेगी। चीनी के साथ इथेनॉल का उत्पादन करने वाली मिलों को इसी श्रेणी के (बी-हैवी) इथेनॉल की कीमत 52.43 रुपये प्रति लीटर दी जायेगी। पहले इसकी कीमत 47.13 रुपये प्रति लीटर थी।
सी-हैवी इथेनॉल की कीमत 43.70 रुपये प्रति लीटर से घटाकर 43.46 रुपये लीटर की गयी है।
श्री प्रधान ने बताया कि पिछले दिनों गन्ने का उचित एवं लाभदायक मूल्य बढ़ाने और चीनी का न्यूनतम मिल गेट रेट तय करने के बाद उसी के अनुरूप इथेनॉल की कीमतों में बदलाव किया गया है।
सत्या अजीत
वार्ता
More News
राफेल सौदे में ‘चौकीदार’ ही बन गया ‘चोर’: राहुल

राफेल सौदे में ‘चौकीदार’ ही बन गया ‘चोर’: राहुल

22 Sep 2018 | 4:13 PM

नयी दिल्ली 22 सितम्बर (वार्ता) राफेल विमान सौदे के ऑफसेट समझौते को लेकर फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांसुआ ओलांद के खुलासे के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से इस पर सफाई देने की मांग की और आरोप लगाया कि देश के ‘चौकीदार’ ने ही ‘चोरी’ की है।

 Sharesee more..

22 Sep 2018 | 4:05 PM

 Sharesee more..
पश्चिमी तट पर बनेगा दूसरा उपग्रह प्रक्षेपण केंद्र

पश्चिमी तट पर बनेगा दूसरा उपग्रह प्रक्षेपण केंद्र

22 Sep 2018 | 3:26 PM

नयी दिल्ली 22 सितम्बर (वार्ता) भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) की बढ़ती जरूरतों तथा आँध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित मौजूदा प्रक्षपण केंद्र पर ज्यादा दबाव को देखते हुये देश के पश्चिमी तट पर एक नया प्रक्षेपण केंद्र बनाने की योजना है।

 Sharesee more..
image