Monday, Aug 26 2019 | Time 08:06 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • इजराइल ने गाज़ा में किया जवाबी हवाई हमला
  • सऊदी ने यमन विद्रोहियों की ओर से दागे गए ड्रोन को नष्ट किया
  • सोलोमन द्वीप पर भूकंप के झटके
  • गाज़ा से इजराइल की ओर दागी गयी मिसाइल
  • बुमराह का कहर, भारत की विंडीज पर सबसे बड़ी जीत
  • स्विज़रलेंड में विमान दुर्घटना में तीन की मौत
  • सोनिया,ममता, प्रिंयका ने सिंधू को दी बधाई
भारत


राष्ट्रपति मूलपाठ

(इम्बार्गो : कृपया शाम सात बजे के बाद ही प्रकाशन प्रसारण करें )
नयी दिल्ली 14 अगस्त (वार्ता) राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का 73 वें स्वाधीनता दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्र के नाम संबोधन का मूलपाठ इस प्रकार है ...
यह स्वाधीनता दिवस भारत-माता की सभी संतानों के लिए बेहद खुशी का दिन है, चाहे वे देश में हों या विदेश में। आज के दिन हम सभी को देशप्रेम की भावना का और भी गहरा अनुभव होता है। इस अवसर पर, हम अपने उन असंख्‍य स्वतन्त्रता सेनानियों और क्रांतिकारियों को कृतज्ञता के साथ याद करते हैं, जिन्होंने हमें आज़ादी दिलाने के लिए
संघर्ष, त्‍याग और बलिदान के महान आदर्श प्रस्‍तुत किए।
स्वाधीन देश के रूप में 72 वर्षों की हमारी यह यात्रा, आज एक खास मुकाम पर आ पहुंची है। कुछ ही सप्ताह बाद, दो अक्टूबर को, हम राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मनाएंगे। गांधीजी, हमारे स्वतंत्रता संग्राम के महानायक थे। वे समाज को हर प्रकार के अन्याय से मुक्त कराने के प्रयासों में हमारे मार्गदर्शक भी थे। गांधीजी का मार्गदर्शन आज भी उतना ही प्रासंगिक है। उन्होंने हमारी आज की गंभीर चुनौतियों का अनुमान पहले ही कर लिया था। गांधीजी मानते थे कि हमें प्रकृति के संसाधनों का उपयोग विवेक के साथ करना चाहिए ताकि विकास और प्रकृति का संतुलन हमेशा बना रहे। उन्होंने पर्यावरण के प्रति संवेदनशीलता पर ज़ोर दिया और प्रकृति के साथ सामंजस्‍य बिठाकर जीवन जीने की शिक्षा भी दी। वर्तमान में चल रहे हमारे अनेक प्रयास गांधीजी के विचारों को ही यथार्थ रूप देते हैं। अनेक कल्याणकारी कार्यक्रमों के माध्यम से हमारे देशवासियों का जीवन बेहतर बनाया जा रहा है। सौर ऊर्जा के उपयोग को बढ़ाने पर विशेष ज़ोर देना भी गांधीजी की सोच के अनुरूप है।
2019 का यह साल, गुरु नानक देवजी का 550वां जयंती वर्ष भी है। वे भारत के सबसे महान संतों में से एक हैं। मानवता पर उनका प्रभाव बहुत ही व्यापक है। सिख पंथ के संस्थापक के रूप में लोगों के हृदय में उनके लिए जो आदर का भाव है, वह केवल हमारे सिख भाई-बहनों तक ही सीमित नहीं है। भारत और पूरी दुनिया में रहने वाले करोड़ों श्रद्धालु उन पर गहरी आस्था रखते हैं। गुरु नानक देवजी के सभी अनुयायियों को मैं इस पावन जयंती वर्ष के लिए अपनी हार्दिक शुभकामनाएं देता हूं।
अरविंद अरुण
जारी वार्ता
More News
केजरीवाल, राहुल, मालीवाल ने दी सिंधू को बधाई

केजरीवाल, राहुल, मालीवाल ने दी सिंधू को बधाई

25 Aug 2019 | 11:45 PM

नयी दिल्ली, 25 अगस्त (वार्ता) दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने रविवार को विश्व बैडमिंटन चैपियनशिप में पी. वी. सिंधू को स्वर्ण पदक जीतने पर बधाई दी ।

see more..
अब दुख के दिन बीते रे भैया : बघेल

अब दुख के दिन बीते रे भैया : बघेल

25 Aug 2019 | 10:43 PM

नयी दिल्ली , 25 अगस्त (वार्ता) छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि वर्षों से जिन्होंने संविधान सम्मत अधिकारों की रक्षा के लिए अपना ख़ून-पसीना बहाया है उनके लिए ‘‘दुःख के दिन बीत गए है।”

see more..
चार विधानसभा सीटों के लिए उपचुनाव 23 सितंबर को

चार विधानसभा सीटों के लिए उपचुनाव 23 सितंबर को

25 Aug 2019 | 8:09 PM

नयी दिल्ली 25 अगस्त (वार्ता) चुनाव आयोग ने छत्तीसगढ़ केरल, त्रिपुरा और उत्तर प्रदेश की रिक्त चार विधानसभा सीटों के लिए उपचुनाव 23 सितंबर कराने की घोषणा की है।

see more..
वायुसेना प्रमुख सोमवार को थाईलैंड जाएंगे

वायुसेना प्रमुख सोमवार को थाईलैंड जाएंगे

25 Aug 2019 | 6:46 PM

नयी दिल्ली 25 अगस्त (वार्ता) भारतीय वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल बी एस धनोआ सोमवार को तीन दिन की यात्रा पर थाईलैंड जाएंगे।

see more..
चार राज्यों की एक-एक सीटों पर उपचुनाव की तिथियां घोषित

चार राज्यों की एक-एक सीटों पर उपचुनाव की तिथियां घोषित

25 Aug 2019 | 6:29 PM

नयी दिल्ली 25 अगस्त (वार्ता) निर्वाचन आयोग ने छत्तीसगढ़ , केरल, त्रिपुरा और उत्तर प्रदेश की एक-एक विधानसभा सीट के लिए उपचुनाव की तिथियां रविवार को घोषित कर दी गयीं।

see more..
image