Friday, May 29 2020 | Time 22:18 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में मध्यम तीव्रता के भूकंप के झटके
  • भाजपा के पूर्व अध्यक्ष भंवरलाल शर्मा का निधन
  • पूर्वी चंपारण में पर्यवेक्षण गृह से फरार बालकैदी गिरफ्तार
  • पूर्वी चंपारण में दो महिला की हत्या
  • पश्चिम चंपारण में शराब के नशे मे धुत युवक हथियार के साथ गिरफ्तार
  • बेगूसराय में महिला की गोली मारकर हत्या, एक घायल
  • राबड़ी ने नाबालिग से दुष्कर्म के आरोपी अरुण यादव को कहां छुपाया : सुशील
  • उत्तराखंड में कोरोना के 216 नए मामले संक्रमितों की संख्या 716 हुई
  • बॉम्बे हाईकोर्ट का नाम महाराष्ट्र हाईकोर्ट करने संबंधी याचिका दायर
  • जम्मू-कश्मीर में सभी शैक्षणिक, प्रशिक्षण संस्थान 15 जून तक बंद
  • देश के कई हिस्सों में आंधी, छिटपुट बारिश
  • दरभंगा में आईपीएस अधिकारी समेत 19 लोग हुए कोरोना संक्रमित
  • राजस्थान में कोरोना संक्रमित संख्या 8365 पहुंची, चार की मौत
  • कुवैत से गुवाहाटी पहली उड़ान आज पहुंचेगी
भारत


न्यायालय-सोशल मीडिया सुनवाई दो अंतिम नयी दिल्ली

न्यायालय ने कहा है कि वह इस बात पर निर्णय लेगा कि सोशल मीडिया पर फर्जी समाचारों और आपराधिक गतिविधियों के लिए सामग्री के प्रचार को फैलने से कैसे रोका जाए।
दरअसल वरिष्ठ अधिवक्ता श्याम दीवान ने इंटरनेट फ्रीडम एसोसिएशन आफॅ इंडिया की तरफ से पैरवी करते हुए इस मामले में उच्चतम न्यायालय की ओर से की जा रही सुनवाई प्रकिया का विरोध किया।
उन्होंने इस बात पर ध्यान दिलाया कि यह एक हस्तांतरण याचिका है और शीर्ष न्यायालय को उच्च न्यायालयों के फैसलों पर कोई रोक नहीं लगानी चाहिए।
अटार्नी जनरल के के वेणुगोपाल ने न्यायालय में कहा कि सरकार अपराध से लड़ने के लिए साेशल मीडिया की
सामग्री को क्रैक करने के लिए किसी तरह की काेई तकनीकी मदद नहीं चाहती है और वे सिर्फ एक आनलाइन प्लेटफार्म के पक्ष है तााकि पहुंच आसान हो सके। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार के पास कोड को क्रैक करने की विशेषज्ञता हासिल है।
फेसबुक और व्हाट्सअप ने तर्क दिया कि वे अपने प्लेटफार्म पर उपभोक्ताओं द्वारा साझा किए गए संदेशों को डिक्रिप्ट नहीं कर सकते हैं क्योंकि उनके पास ऐसा करने का कोई तरीका नहीं है।
जितेन्द्र.श्रवण
वार्ता
image