Tuesday, Sep 25 2018 | Time 14:14 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • शिवराज ने राहुल गांधी पर किया जमकर हमला
  • रुपये की संदर्भ दर
  • न्यूजीलैंड की पीएम बेटी को लेकर पहुंची संरा असेंबली में
  • सीलिंग मामले में मनोज तिवारी को सुप्रीम कोर्ट की फटकार
  • वेंकैया ने की भगवान वेंकटेश्वर की पूजा-अर्चना
  • राष्ट्रीय राजधानी में मौसम रहा खुशनुमा
  • पितृ तर्पण की पहली वेदी है आदिगंगा पुनपुन
  • अलग-अलग सड़क हादसों में दो की मौत,13 छात्र घायल
  • जेल भरो आन्दोलन में हिस्सा लेने आ रहे कांग्रेसजनों की राज्यभर में गिरफ्तारी
  • कार्यकर्ता महाकुंभ में शामिल होने मोदी पहुंचे भोपाल
  • जेल सुधारों के लिए तीन-सदस्यीय समिति गठित
  • सीरिया में एस-300 मिसाइल प्रणाली की तैनाती रूस की ‘भारी भूल’: अमेरिका
  • ‘माननीयों को वकालत करने से नहीं रोका जा सकता’
  • कार से भारी मात्रा में शराब बरामद
  • मिलावटी राज के दिखावटी मुखिया हैं नीतीश : तेजस्वी
लोकरुचि Share

गोवर्धन करेंगे अलग अलग घटाओं के अनुरूप श्रृगांर

गोवर्धन करेंगे अलग अलग घटाओं के अनुरूप श्रृगांर

मथुरा, 20 अगस्त (वार्ता) कान्हा नगरी मथुरा के विख्यात दानघाटी मंदिर मे 22 अगस्त से शुरू होने वाले घटा महोत्सव में भगवान गोवर्धन की मनोहारी झांकियां श्रद्धालुओं काे प्रेम रस के सागर में डुबोने को तैयार हैं। महोत्सव रक्षाबंधन तक चलेगा।

दानघाटी मंदिर के सेवायत रामेश्वर पुरोहित ने सोमवार को बताया कि एकादशी से रक्षाबंधन के बीच पांच दिनो में गोवर्धन महाराज के श्रंगार के लिए अलग अलग घटाएं सजाई जाएंगी। गिरिराजजी के साथ मंदिर परिसर भी एक ही रंग में रंगा होगा। रंग विशेष के पर्दे, पोशाक, जेवरात के साथ ठोड़ी पर सजा लाल रंग का हीरा प्रभु की झांकी को एकटक निहारने के लिए भक्तों को मजबूर करेगा।

घटा महोत्सव वास्तव में ठाकुर का सावन का विशेष श्रंगार है। विभिन्न प्रकार की घटा डालकर मंदिर का वातावरण ऐसा तैयार किया जाता है जैसे मंदिर के जगमोहन में ही रंग बिरंगे बादल छा गए हों। चूंकि इन्द्र के संवर्तक मेघों की मूसलाधार वर्षा को कन्हैया ने गोवर्धन पर्वत को अपनी सबसे छोटी उंगली में सात दिन रात धारण कर ब्रजवासियों की रक्षा की थी इसलिए मंदिरों में घटा डालकर ब्रजवासी कान्हा के प्रति एक प्रकार से कृतज्ञता व्यक्त करते हैं।

सेवायत पुरोहित ने बताया कि दानघाटी गिरिराज के लिए पांच दिन तक पांच अलग-अलग रंग की घटाओं की झांकी तैयार की जा रही हैं। जिस रंग की घटा होगी, गिरिराजजी उसी रंग की पोशाक और जेवरात धारण करेंगे तथा उसी रंग के अधिकांश फूल श्रंगार में प्रयोग किये जाएंगे। स्वर्ण मुकुट के साथ मस्तक पर सजा कस्तूरी तिलक और गालों पर चंदन भी उसी रंग का होगा। प्रभु के प्रसाद में उसी रंग की वस्तुओं को वरीयता दी जाएगी, यहां तक कि दूध को भी वही रंग देकर भोग लगाया जाएगा।

उन्होंने बताया कि घटाओं के क्रम में 22 अगस्त को हरी, 23 को पीली, 25 को लाल तथा 26 को सफेद घटा डाली जाएगी। 24 अगस्त को कालीघटा में प्राकृतिक काली घटा का स्वरूप होगा जिसमें घनघोर वर्षा एवं बिजली की कड़क भी दिखाई जाएगी। कुल मिलाकर मंदिर का घटा महोत्सव एक इतिहास लिखेगा।

More News
मशाल की रोशनी में होती है वाराणसी की विश्वप्रसिद्ध पौराणिक रामलीला

मशाल की रोशनी में होती है वाराणसी की विश्वप्रसिद्ध पौराणिक रामलीला

24 Sep 2018 | 7:50 PM

वाराणसी, 24 सितंबर (वार्ता) उत्तर प्रदेश की प्रचीन धार्मिक नगरी एवं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के गंगा किनारे स्थित रामनगर की सैकड़ों वर्ष पुरानी विश्वप्रसिद्ध रामलीला आधुनिकता की चकाचौंध से दूर मशाल की रोशनी की शुरु हुई।

 Sharesee more..
पितृऋण से मुक्त होने का अवसर देता है “ पितृपक्ष”

पितृऋण से मुक्त होने का अवसर देता है “ पितृपक्ष”

24 Sep 2018 | 3:54 PM

इलाहाबाद, 24 सितम्बर (वार्ता) हिंदू संस्कृति में मनुष्य पर माने गये सबसे बड़े ऋण “ पितृ ऋण’’ से मुक्त होने के लिए निर्धारित विशेष समयकाल “ पितृपक्ष ” की शुरूआत मंगलवार से हो रही है ।

 Sharesee more..
इटावा के जीवित हनुमान के हैं सब मुरीद

इटावा के जीवित हनुमान के हैं सब मुरीद

24 Sep 2018 | 2:47 PM

इटावा, 24 सिंतबर (वार्ता) पवनपुत्र यानि बंजरगबली के चमत्कार से हर कोई युगों युगों से वाकिफ है लेकिन उत्तर प्रदेश में इटावा के बीहडों में यमुना नदी के किनारे बसे बंजरगबली के मंदिर में जो प्रतिमा स्थापित हैं उससे जुड़े चमत्कार यहां आने वाले हर श्रद्धालु को अपना मुरीद बना लेती है।

 Sharesee more..
चंबल में वनाधिकारियों ने पहली बार देखा अजगर का लाइव शिकार

चंबल में वनाधिकारियों ने पहली बार देखा अजगर का लाइव शिकार

23 Sep 2018 | 1:08 PM

इटावा , 23 सिंतबर (वार्ता)। यूं तो अजगर के किसी भी जानवर को शिकार बनाने की तस्वीरें आतीं ही रहतीं है लेकिन जैसी तस्वीरें उत्तर प्रदेश के इटावा जिले में खूंखार डाकुओं की शरण स्थली के तौर पर पहचाने जाने वाले चंबल में इस बार सामने आई हैं ऐसी तस्वीरें यहां इससे पहले कभी भी देखी नहीं गई हैं ।

 Sharesee more..
तेइस को दिन और रात होंगे बराबर

तेइस को दिन और रात होंगे बराबर

21 Sep 2018 | 8:20 PM

उज्जैन, 21 सितंबर (वार्ता) प्रतिवर्षानुसार अागामी 23 सितंबर को दिन रात बराबर होंगे। इस खगोलीय घटना को मध्यप्रदेश के उज्जैन की प्राचीन वैधशाला में देखा जा सकेगा।

 Sharesee more..
image