Sunday, Nov 18 2018 | Time 23:44 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • खशोगी के शव के टुकड़ों को संभवत: सूटकेसों में ले जाया गया: तुर्की
  • भाजपा ने तेलंगाना के लिए जारी की छठी सूची
  • उप्र में टीईटी की परीक्षा में फर्जी पेपर एवं साल्वर समेत 35 गिरफ्तार
  • किसी को भी पंजाब में शांति एवं साम्प्रदायिक सद्भाव खराब नहीं करने दिया जाएगा: बिट्टू
  • ग्रेनेड हमले की जांच के लिए एनआईए टीम अदलीवाल पहुंची
  • प्रधानमंत्री पद की गरिमा के प्रतिकूल है मोदी का भाषण: कमलनाथ
  • पंजाब में हर कीमत पर कायम की जायेगी शांति: अमरिन्दर
  • इराक में कार बम विस्फोट में दो मरे ,15 घायल
  • कांग्रेस के स्वभाव में धोखा, जनता का विश्वास खोया: मोदी
  • सीएम ने दिये अधिकारियों को दिये तुरंत गाँव अदलीवाल पहुँचने के निर्देश
  • बिहार में सड़क दुर्घटना में 12 लोगों की मौत ,18 घायल
  • संवैधानिक संकट का सामना कर रहा देश : उदय नारायण
  • पटना के नाले में गिरे दीपक की दूसरे दिन भी तलाश जारी
  • छत्तीसगढ़ में तीसरे मोर्चे की होगी बड़ी भूमिका: रमन
  • मध्यप्रदेश में विकास ने लोगों का नजरिया बदला: जेटली
लोकरुचि Share

गोवर्धन करेंगे अलग अलग घटाओं के अनुरूप श्रृगांर

गोवर्धन करेंगे अलग अलग घटाओं के अनुरूप श्रृगांर

मथुरा, 20 अगस्त (वार्ता) कान्हा नगरी मथुरा के विख्यात दानघाटी मंदिर मे 22 अगस्त से शुरू होने वाले घटा महोत्सव में भगवान गोवर्धन की मनोहारी झांकियां श्रद्धालुओं काे प्रेम रस के सागर में डुबोने को तैयार हैं। महोत्सव रक्षाबंधन तक चलेगा।

दानघाटी मंदिर के सेवायत रामेश्वर पुरोहित ने सोमवार को बताया कि एकादशी से रक्षाबंधन के बीच पांच दिनो में गोवर्धन महाराज के श्रंगार के लिए अलग अलग घटाएं सजाई जाएंगी। गिरिराजजी के साथ मंदिर परिसर भी एक ही रंग में रंगा होगा। रंग विशेष के पर्दे, पोशाक, जेवरात के साथ ठोड़ी पर सजा लाल रंग का हीरा प्रभु की झांकी को एकटक निहारने के लिए भक्तों को मजबूर करेगा।

घटा महोत्सव वास्तव में ठाकुर का सावन का विशेष श्रंगार है। विभिन्न प्रकार की घटा डालकर मंदिर का वातावरण ऐसा तैयार किया जाता है जैसे मंदिर के जगमोहन में ही रंग बिरंगे बादल छा गए हों। चूंकि इन्द्र के संवर्तक मेघों की मूसलाधार वर्षा को कन्हैया ने गोवर्धन पर्वत को अपनी सबसे छोटी उंगली में सात दिन रात धारण कर ब्रजवासियों की रक्षा की थी इसलिए मंदिरों में घटा डालकर ब्रजवासी कान्हा के प्रति एक प्रकार से कृतज्ञता व्यक्त करते हैं।

सेवायत पुरोहित ने बताया कि दानघाटी गिरिराज के लिए पांच दिन तक पांच अलग-अलग रंग की घटाओं की झांकी तैयार की जा रही हैं। जिस रंग की घटा होगी, गिरिराजजी उसी रंग की पोशाक और जेवरात धारण करेंगे तथा उसी रंग के अधिकांश फूल श्रंगार में प्रयोग किये जाएंगे। स्वर्ण मुकुट के साथ मस्तक पर सजा कस्तूरी तिलक और गालों पर चंदन भी उसी रंग का होगा। प्रभु के प्रसाद में उसी रंग की वस्तुओं को वरीयता दी जाएगी, यहां तक कि दूध को भी वही रंग देकर भोग लगाया जाएगा।

उन्होंने बताया कि घटाओं के क्रम में 22 अगस्त को हरी, 23 को पीली, 25 को लाल तथा 26 को सफेद घटा डाली जाएगी। 24 अगस्त को कालीघटा में प्राकृतिक काली घटा का स्वरूप होगा जिसमें घनघोर वर्षा एवं बिजली की कड़क भी दिखाई जाएगी। कुल मिलाकर मंदिर का घटा महोत्सव एक इतिहास लिखेगा।

More News
भाई-बहन के अटूट प्रेम का प्रतीक सामा-चकेवा शुरू

भाई-बहन के अटूट प्रेम का प्रतीक सामा-चकेवा शुरू

14 Nov 2018 | 5:02 PM

पटना 14 नवंबर (वार्ता) भाई-बहन के अटूट प्रेम का प्रतीक सामा-चकेवा आज से शुरू हो गया।

 Sharesee more..
प्रवासी पंक्षियों की चहचहाट से गुंजायमान है चंबल

प्रवासी पंक्षियों की चहचहाट से गुंजायमान है चंबल

14 Nov 2018 | 2:44 PM

इटावा 14 नवम्बर (वार्ता) अरसे तक दुर्दांत दस्यु गिरोहों की पनाहगार रही चंबल घाटी शरद ऋतु के आगमन के साथ 300 से ज्यादा दुलर्भ प्रजाति के प्रवासी पंक्षियों की करतल संगीत से गुंजायमान है।

 Sharesee more..
बिहार में सूर्योपासना के महापर्व छठ पर डूबते सूर्य को अर्घ्य

बिहार में सूर्योपासना के महापर्व छठ पर डूबते सूर्य को अर्घ्य

13 Nov 2018 | 6:40 PM

पटना 13 नवम्बर (वार्ता) बिहार में सूर्योपासना के महापर्व छठ के अवसर पर आज व्रतधारियों ने अस्ताचलगामी सूर्य को नदी और तालाब में खड़ा होकर प्रथम अर्घ्य अर्पित किया ।

 Sharesee more..
छठ को लेकर लोगों में उत्साह और रौनक

छठ को लेकर लोगों में उत्साह और रौनक

13 Nov 2018 | 4:30 PM

पटना 13 नवंबर (वार्ता) लोक आस्था के महापर्व छठ को लेकर लोगों में उत्साह और रौनक देखने को मिल रही है और राजधानी पटना भक्तिमय हो गयी है।

 Sharesee more..
चंबल की खूबसूरती का दीदार करने हो जाइये तैयार

चंबल की खूबसूरती का दीदार करने हो जाइये तैयार

12 Nov 2018 | 3:46 PM

इटावा 12 नबम्बर (वार्ता) कभी कुख्यात डाकुओ की पनाह रही चंबल घाटी अब ईको टूरिज्म का हब बनने जा रही है । उत्तर प्रदेश वन विभाग ने पर्यावरणीय संस्था सोसायटी फॉर कंजर्वेशन ऑफ नेचर से करार किया है जिसके तहत यहॉ आने वाले पर्यटक दुलर्भ घडिय़ाल, मगरमच्छ, डाल्फिन आैर विदेशी पक्षियों के साथ खूबसूरत बीहड़ का दीदार कर सकेंगे।

 Sharesee more..
image