Thursday, Feb 21 2019 | Time 11:32 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • ढाका में इमारत में आग, 70 की मौत
  • वेनेजुएला शक्तिशाली राष्ट्र बनेगा: मादुरो
  • डेमोक्रेटिक पार्टी के सांसद लाएंगे आपातकाल खत्म करने का प्रस्ताव
  • ट्रम्प ने लगायी आईएस में शामिल महिला के स्वदेश लौटने पर रोक
  • रामपुर में दो पक्षों के बीच मारपीट एवं फायरिंग में दो की मृत्यु,एक घायल
  • ढाका में इमारत में आग, 69 की मौत
  • उन्नाव में बस पलटने से दो बच्चों समेत छह की मृत्यु, 12 घायल
  • मोदी द्विपक्षीय वार्ता के लिए दक्षिण कोरिया पहुंचे
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 22 फरवरी)
  • बंगलादेश: ढाका में इमारत में आग, 45 की मौत
  • किम जोंग के साथ और मुलाकातों की उम्मीद : ट्रम्प
  • इराक में घुसपैठ करने वाले आईएस के 24 आतंकवादी हिरासत में
  • तुर्की में सैन्य प्रशिक्षण के दौरान विस्फोट, पांच सैनिक घायल
  • पाकिस्तान ने राजौरी में संघर्ष विराम उल्लंघन कर की गोलीबारी
  • पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद से कश्मीर में शांति बाधित : डीजीपी
लोकरुचि Share

इटावा में आज भी बंधती है गुलाम मानसिकता से रेलगाडियां

इटावा में आज भी बंधती है गुलाम मानसिकता से रेलगाडियां

इटावा, 25 जनवरी (वार्ता) भले ही देश में शनिवार को 70 वां गणतंत्र मनाने जा रहा हो लेकिन  आज भी अग्रेंजो के बनाये रेलवे नियमो को अगर कही पालन होता हुआ देखना है  तो फिर उत्तर प्रदेश के इटावा जिले के भर्थना रेलवे स्टेशन आईये । यहॉ पर  आपको देखने को मिलेगा कि ट्रेनों को सुरक्षित रखने के लिए बोगी मे बाकायदा  ताले लगाकर जंजीर से बांध कर रखा जाता है । इसके लिए रेल विभाग के एक  कर्मचारी की डयूटी भी लगाई जाती है ।


            भर्थना रेलवे स्टेशन  अधीक्षक एम.पी.सिंह कहते हैं कि पूर्व से चली आ रही व्यवस्था को वह अपनी  मर्जी से खत्म नहीं कर सकते हैं । जब तक बोर्ड से आदेश नहीं मिलेगा तब तक  नियम का पालन होता रहेगा ।

उन्होने बताया कि अंग्रेजी राज में  ट्रेन में पांच से छह बोगियां ही होती थीं । ऐसे में आंधी तूफान अथवा भूकंप  आने पर उसके लुढ़कने का खतरा बना रहता था । इस वजह से ट्रेन के एक पहिए को  बांधने का नियम बना । समय के साथ दूसरे स्टेशनों पर इस नियम की अनदेखी होने  लगी लेकिन भर्थना स्टेशन पर अभी भी इस नियम का पालन किया जाता है ।  हालांकि सच्चाई है कि यदि 120 बोगियों की भारी भरकम मालगाड़ी लुढ़कने लगे तो  जंजीर उसे रोक नहीं पाएगी और टूट जाएगी।

                दरअसल अंग्रेजों के  शासनकाल में नियम बनाया गया कि अगर कोई ट्रेन एक दिन के लिए भी स्टेशन पर  रुकती है तो उसके किसी एक पहिए को जंजीर से बांधकर उसमें ताला लगाकर  सुरक्षित किया जाए । अन्य स्टेशनों पर समय के साथ यह नियम भले ही बदल गया  हो, लेकिन इटावा के भर्थना स्टेशन पर आज भी इस नियम का कड़ाई से पालन किया  जाता है।

     इटावा के भर्थना स्टेशन पर रुकने वाली सवारी गाड़ी हो या फिर 120 बोगियों की लगभग आधा किलोमीटर लंबी मालगाड़ी । सभी में स्टेशन अधीक्षक या स्टेशन मास्टर की निगरानी में पोर्टर किसी एक पहिए को जंजीर से पटरियों से बांधकर ताला लगाता है। यही नहीं उस पहिए के दोनों ओर दो लकड़ी की गिट्टक भी लगाते हैं। इस काम की बाकायादा रेलवे के दस्तावेजो मे इंद्राज भी किया जाता है और स्टेशन मास्टर कक्ष में रखे स्टेबल रजिस्टर में इसे दर्ज किया जाता है ।

          जब ट्रेन रवाना होने को होती है तो लोको पायलट व गार्ड को ट्रेन ताला खोलकर सौंप दी जाती है । सरायभूपत रेलवे के स्टेशन पर इसके लिए पोर्टर रवि कुमा एवं अशोक कुमार की ड्यूटी लगती है । पोर्टरों का कहना है कि उन्हें स्टेशन अधीक्षक का आदेश मिला है । वर्षों से पहिए को एक जंजीर से बांधकर ताला लगाते आ रहे हैं । जाने के समय नियम से लिखत पढ़त पूरी कर ताला खोलकर ट्रेन को रवाना करते हैं।

          जब देश के लिए रेल नई नई बात थी तभी से स्टेशन पर लम्बे समय के लिए ठहरने वाली ट्रेनों को जंजीर से बांधने का नियम बना हुआ है । रेल अधिकारियों के अनुसार शुरूआती दिनों में ट्रेन मात्र चार से छह बोगियों की होती थी । ऐसे आंधी-तूफान या भूकम्प की स्थिति में ट्रेन के अपने आप लुढकने का खतरा बना रहता था । जो स्टेशन ढलान पर थे वहां ट्रेन के लुढकने का सबसे ज्यादा खतरा था जिसपर इस नियम का कड़ाई से पालन कराया जाता था और ट्रेन के पहियों में दोनों और लकड़ी की गिट्टी लगाकर जंजीर से बांध कर ताला जड़ दिया जाता था ।

More News
राजधानी पटना में अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त राकबैंड करेंगे परफाॅर्म

राजधानी पटना में अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त राकबैंड करेंगे परफाॅर्म

12 Feb 2019 | 10:47 AM

पटना 12 फरवरी (वार्ता) राजधानी पटना में अंतर्राष्ट्रीय स्तर के रॉकबैंड पाटिलीपुत्रा ओपन एयर तले परफाॅर्म करने जा रहे हैं।

 Sharesee more..
आकर्षक तरीके से दे रही है टीकाकरण कराने संदेश

आकर्षक तरीके से दे रही है टीकाकरण कराने संदेश

12 Feb 2019 | 10:08 AM

बड़वानी, 12 फरवरी (वार्ता) मध्यप्रदेश के बड़वानी से कुछ दूर बड़वानी खुर्द की ए एन एम चंद्रलता सोलंकी निराले अंदाज में टीकाकरण का संदेश देकर आकर्षण का केंद्र बिंदु बनी हुई है।

 Sharesee more..
औरंगाबाद में देव सूर्य महोत्सव का आयोजन कल से

औरंगाबाद में देव सूर्य महोत्सव का आयोजन कल से

11 Feb 2019 | 4:44 PM

औरंगाबाद 11 फरवरी (वार्ता) बिहार में औरंगाबाद जिले के ऐतिहासिक पौराणिक और धार्मिक स्थल देव को पर्यटन के राष्ट्रीय मानचित्र पर सुस्थापित करने तथा देसी-विदेशी सैलानियों को आकर्षित करने के उद्देश्य से दो दिवसीय देव सूर्य महोत्सव का आयोजन कल से शुरू होगा।

 Sharesee more..
तितलियों ने चंबल घाटी में बिखेरी इंद्रधनुषी छटा

तितलियों ने चंबल घाटी में बिखेरी इंद्रधनुषी छटा

05 Feb 2019 | 4:43 PM

इटावा, 05 फरवरी (वार्ता) शहरीकरण की अंधाधुंध रफ्तार के बीच लगभग गायब हो चुकी रंग बिरंगी तितलियों ने चंबल घाटी को सतरंगी बना रखा है।

 Sharesee more..
image