Wednesday, Oct 16 2019 | Time 23:09 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • बैंको में असुरक्षित हैं आम जनता के पैसे : मनीष
  • फोटो कैप्शन: तीसरा सेट
  • थरुर ने अंतर-संसदीय संघ के सम्मेलन में पाकिस्तान पर किया प्रहार
  • दिल्ली के दबंगों और बंगाल के वारियर्स में होगी खिताबी टक्कर
  • सायना और श्रीकांत पहले दौर में बाहर, समीर प्रीक्वार्टर में
  • सायना और श्रीकांत पहले दौर में बाहर, समीर प्रीक्वार्टर में
  • कांग्रेस के कर्नाटक से रास सदस्य राममूर्ति का इस्तीफा
  • बेंगलुरु को चित कर दिल्ली पहली बार फाइनल में
  • बेंगलुरु को चित कर दिल्ली पहली बार फाइनल में
  • संसद का शीतकालीन सत्र 18 नवम्बर से शुरू होने की संभावना
  • उप्र में त्यौहारों के मद्देनजर 30 नवम्बर तक अधिकारियों का अवकाश नहीं हो स्वीकृत
  • जालौन:ट्रक ने मारी बाइक को टक्कर , दो की मौत एक घायल
  • बिहार में नहरों, तटबंधों और जलाशयों की ड्रोन से होगी निगरानी
लोकरुचि


बदहाली का दंश झेलने का मजबूर पतंजलि की जन्मस्थली

बदहाली का दंश झेलने का मजबूर पतंजलि की जन्मस्थली

गोण्डा 19 जून (वार्ता) समूची दुनिया 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने की तैयारी में जुटी हैं वहीं योग के जनक माने जाने वाले महायोगी महर्षि पतंजलि की जन्मस्थली आज भी बदहाली का दंश झेलने को मजबूर है।



       उत्तर प्रदेश मेें देवी पाटन मंडल के गोण्डा जिले में वजीरगंज ब्लाक के कोडर गांव मे स्थित इस ऐतिहासिक धरोहर को देश के पर्यटन मानचित्र में लाने की मांग दशकों से की जा रही है लेकिन योग प्रणेता की जन्मस्थली के हालात बद से बदतर होते जा रहे हैं।



      महर्षि पतंजलि न्यास के अध्यक्ष स्वामी भगवदाचार्य ने ‘यूनीवार्ता’ से कहा कि योग को अंतर्राष्ट्रीय पटल पर स्थान दिलाने का प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का प्रयास प्रशंसनीय है लेकिन योग प्रणेता की जन्मस्थली के प्रति केन्द्र और राज्य सरकार का उपेक्षित रवैया समझ के परे है।



    उन्होने कहा कि सरकारों की उपेक्षा के कारण बदतर हालत में पड़ी महर्षि पतंजलि की जन्मस्थली की बदहाली पर किसी का ध्यान आकर्षित नही है। संयुक्त राष्ट्र ,यूनेस्को और भारत सरकार ने महायोगी पतंजलि का जन्मस्थान गोण्डा को माना है। पतंजलि के जन्मस्थान के जीर्णोंद्धार के लिये कई बार सरकार से अनुरोध किया गया लेकिन अभी तक यहाँ किसी प्रकार के विकास या जीर्णोंद्धार की घोषणा नहीं हो सकी है।

 महायोगी की जन्मभूमि कैसरगंज संसदीय क्षेत्र और तरबगंज विधानसभा क्षेत्र में स्थित है जिनमें सत्तारूढ़ भाजपा के जनप्रतिनिधि हैं। इसके बावजूद ऐतिहासिक स्थल पर कोई ध्यान नहीं दिया गया। यहां तक योगगुरू स्वामी रामदेव की पतंजलि योगपीठ ने भी कोडर गांव की ओर दृष्टि तक नही डाली है।

     स्वामी ने बताया कि पिछली अखिलेश सरकार ने जिले के कर्नलगंज तहसील क्षेत्र मे महर्षि पतंजलि सूचना प्रौद्योगिकी एवं पालीटेक्निक कॉलेज का निर्माण शुरू कराया  जबकि पिछले वर्ष नगर के वेण्क्टाचार्य क्लब के प्रांगण में स्थित महर्षि पतंजलि स्पोर्ट्स काम्प्लेक्स की शुरुआत करायी गयी है। उन्होने बताया कि कोडर गांव मे स्थित झील की हालत बदतर है। यहाँ दूर दराज से आने वाले आगंतुकों के लिये कोई आश्रम या धर्मशाला ,स्वास्थ ,के लिये कोई सुविधा  नही है।

      उन्होने बताया कि शुद्ध पेयजल ,विद्युत ,खानपान व अन्य तमाम संसाधनों का नामों निशान तक नही है। इस संबन्ध मे केन्द्र एवं राज्य सरकारों को पत्र के माध्यम से कई बार न्यास समिति ने अनुरोध किया। बहरहाल स्थानीय संसाधनों को एकत्र कर 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर  कोडर झील के किनारे योग शिविर का कार्यक्रम आयोजित कर संगोष्ठी करायी जाती है।

कैसरगंज संसदीय सीट से भाजपा सांसद ब्रजभूषण शरण सिंह ने बताया कि महर्षि पतंजलि की जन्मभूमि का जीर्णोद्धार कर उसे पर्यटन के लिये बढ़ावा दिया जायेगा। साथ ही मंदिर परिसर में स्थित कोंडर  झील को पुनर्जीवित किया जायेगा। इसके लिये राज्य सरकार को अवगत करा दिया गया है।

      मान्यताओ के अनुसार ,विक्रम संवत दो हजार वर्ष पूर्व श्रावण मास की शुक्ल पंचमी को महर्षि पतंजलि ने गोनर्द (गोंडा का प्राचीन नाम) की पावन धरती पर जन्म लिया। उनकी माता का नाम गोणिका था। वह व्याकरण महाभाष्य के रचयिता है। उन्हे ज्ञान और भक्ति की प्राप्ति कोडर झील के किनारे बैठ कर हुई थी। शेषावतार माने जाने वाले पतंजलि त्रिजट ब्राह्मण थे।

      विद्वानों के अनुसार ,सूत्रकार ,वृत्तिकार और भाष्यकार त्रिजट ब्राह्मणों की तीन जटाओं के प्रतीक है। इस संबन्ध मे पतंजलि का अनोखा ' भाष्य ग्रंथ ' विश्व मे प्रचलित हुआ। इसकी  शैली सर्वथा भिन्न होने के कारण इस शैली का दूसरा कोई ग्रंथ नही है। महर्षि ने काशी को बनारस के नागकुआ के पास अपनी कर्मभूमि बनायी। उन्होने अपने ग्रंथ महाभाष्य मे स्वयं को कई बार गोनर्दीय कहा है।

सं प्रदीप

वार्ता

More News
बदल रही है चंबल घाटी की बयार

बदल रही है चंबल घाटी की बयार

15 Oct 2019 | 4:33 PM

इटावा, 15 अक्टूबर (वार्ता) एक वक्त कुख्यात डाकुओ के आंतक से जूझती रही चंबल घाटी मे बदलाव की बयार नजर आ रही है। देश के नामी हस्तियो ने चंबल घाटी मे तीन दिन बिता कर यहाॅ के लोगो के बीच रह कर जमकर आनंद उठाया ।

see more..
ग्रामीण संस्कृति की ध्वजवाहक बैलगाड़ी लुप्त होने की कगार पर

ग्रामीण संस्कृति की ध्वजवाहक बैलगाड़ी लुप्त होने की कगार पर

11 Oct 2019 | 3:12 PM

प्रयागराज, 11 अक्टूबर (वार्ता) देश में ग्रामीण संस्कृति की ध्वजवाहक पर्यावरण मित्र बैलगाड़ी यांत्रिकीकरण से मानव के जेहन और जीव से धीरे-धीरे लुप्त होती जा रही है। प्रयागराज, 11 अक्टूबर (वार्ता) देश में ग्रामीण संस्कृति की ध्वजवाहक पर्यावरण मित्र बैलगाड़ी यांत्रिकीकरण से मानव के जेहन और जीव से धीरे-धीरे लुप्त होती जा रही है। प्रयागराज, 11 अक्टूबर (वार्ता) देश में ग्रामीण संस्कृति की ध्वजवाहक पर्यावरण मित्र बैलगाड़ी यांत्रिकीकरण से मानव के जेहन और जीव से धीरे-धीरे लुप्त होती जा रही है।

see more..
पंचक मुहूर्त में आखिरकार हुआ रावण का अंत

पंचक मुहूर्त में आखिरकार हुआ रावण का अंत

09 Oct 2019 | 5:35 PM

इटावा, 9 अक्टूबर (वार्ता) असत्य पर सच की जीत का पर्व विजयदशमी का शोर देश भर मंगलवार को ही थम गया था लेकिन उत्तर प्रदेश में इटावा के जसवंतनगर की ऐतिहासिक रामलीला मे बुधवार को पंचक मुहुर्त में लंकापति रावण का वध भगवान राम के हाथों हुआ।

see more..
वनवासियों द्वारा तैयार पत्तल में बंटता है बुढ़िया माई का भोग प्रसाद

वनवासियों द्वारा तैयार पत्तल में बंटता है बुढ़िया माई का भोग प्रसाद

09 Oct 2019 | 5:24 PM

गाजीपुर 09 अक्टूबर (वार्ता) पूर्वी उत्तर प्रदेश में गाजीपुर स्थित सिद्धपीठ हथियाराम मठ पर विजयदशमी के मौके पर करीब 650 वर्ष पुरानी परंपरा का निर्वहन करते हुये बुढ़िया माई भोग लगा हलवा प्रसाद का वितरण मंगलवार देर शाम किया गया।

see more..
इटावा मे नौ को होगा रावण वध

इटावा मे नौ को होगा रावण वध

08 Oct 2019 | 6:27 PM

इटावा, 8 अक्टूबर (वार्ता) देश भर मे बेशक मंगलवार को दशहरा पर्व की धूम मची हो लेकिन उत्तर प्रदेश में इटावा के जसंवतनगर मे बुधवार को रावण वध किया जायेगा ।

see more..
image