Saturday, Sep 21 2019 | Time 04:14 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • इराक विस्फोट से नौ की मौत, 4घायल
  • इराक के कर्बला में विस्फोट, 5 की मौत
  • गिरिडीह से नक्सली गिरफ्तार
  • भारत-मंगोलिया सिर्फ रणनीतिक साझेदार ही नहीं, आध्यात्मिक पड़ोसी भी हैं: कोविंद
लोकरुचि


बीमार पिता और छह भाई बहनो का सहारा बनी शिवानी

बीमार पिता और छह भाई बहनो का सहारा बनी शिवानी

इटावा, 31 अगस्त (वार्ता) बेटी पढ़ाओ,बेटी बढाओ जैसी केंद्र और राज्य सरकार की तमाम योजनाओं की पहुंच से कोसों दूर 15 साल की शिवानी रिक्शा खींचकर अपने बीमार पिता और छह भाई बहनों के लिये उम्मीद की किरण बनी हुयी है।

उत्तर प्रदेश में इटावा जिले के कोकपुरा गांव की निवासी शिवानी ठेला रिक्शा पर सवार होकर हर रोज कबाड़ की खोज में गली कूचों की खाक छानती है। पसीने से लथपथ किशोरी को रिक्शा खींचते देख कोई उसकी बेवशी पर दया दिखाता है जबकि ज्यादातर उसे नजरअंदाज करते हुये गुजर जाते है। जिला मुख्यालय में विकास भवन के सामने से उसका रोज का गुजरना होता है, ऐसे में कई अधिकारियों की नजर भी उस पर पड़नी लाजिमी है लेकिन आज तक किसी ने उसकी ओर मदद के हाथ नहीं बढ़ाये।

उसके इस काज के लिये टोकने पर शिवानी ने कहा कि मजबूरी में वो कबाड़ा बीन कर अपनी जिंदगी का पहिया आगे बढ़ा रही है। उसने कहा “ पापा का तबियत काफी दिनो से बहुत खराब है। हम सात बहन भाई है। भाई बहनो में बड़ी होने के कारण मै मां के साथ कूड़ा बीनने निकलती हूं। पूरे दिन रिक्शा चला कर और कूड़ा बीन कर कुछ पैसा जुटाते है । तब घर का गुजारा चलता है । पापा रिक्शा चलाते थे लेकिन जब से उनकी तबियत ख़राब हुई है तब से वो कोई भी काम नही कर पाते ”

शिवानी की मॉ सीमा ने कहा “ क्या करे साहब । जब मेरे पति की तबीयत ठीक थी तो फिर वह पूरा कबाड़ा बीन करके गुजरा करते थे लेकिन पति की तबियत खराब होने की वजह से पेट भरने के लिए कुछ तो करना ही था । बच्चे भूखे प्यासे रहते थे । इस कारण कूड़ा बीन कर कुछ पैसे हो जाते है जिससे पेट तो भर जाता है । यही लड़की सबसे बड़ी है इसलिए मजबूरी में रिक्शा चलाती है । ”

के.के.कालेज के इतिहास विभाग के प्रमुख डा.शैलेंद्र शर्मा का कहना है कि बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ समेत तमाम योजनाये बालिकाओं के लिये संचालित है, इन सबके बावजूद बालिका का रिक्शा खीचना सरकारी योजनाओं की विफलता का जीता जागता प्रमाण है। अधिकारियों से निवेदन है कि बच्ची को सरकारी सहायता उपलब्ध कराई जाए । सरकार को ऐसे कदम उठाने चाहिए ताकि वो ऐसा न करे । उसको आर्थिक मदद भी दी जाए ओर साथ मे उसकी पढ़ाई का भी इंतज़ाम किया जाए ।

सं प्रदीप

वार्ता

More News
मथुरा में अनन्त चतुर्दशी पर 12 सितम्बर को होगा प्रथम छप्पन भोग महोत्सव

मथुरा में अनन्त चतुर्दशी पर 12 सितम्बर को होगा प्रथम छप्पन भोग महोत्सव

08 Sep 2019 | 2:24 PM

मथुरा, 08 सितम्बर (वार्ता) उत्तर प्रदेश के मथुरा में इस वर्ष का प्रथम छप्पन भोग महोत्सव अनन्त चतुर्दशी के अवसर पर 12 सितंबर को गिर्राज जी की तलहटी में आयोजित किया जा रहा है।

see more..
राधारानी का मंदिर खुलने पर सैंकड़ों श्रद्धालुओं ने किए दर्शन

राधारानी का मंदिर खुलने पर सैंकड़ों श्रद्धालुओं ने किए दर्शन

06 Sep 2019 | 3:32 PM

विदिशा, 06 सितंबर (वार्ता)मध्यप्रदेश के विदिशा में वर्ष भर के इंतजार के बाद राधाष्टमी पर आज राधारानी मंदिर के पट खुलने पर सैंकड़ों श्रद्धालुओं ने दर्शन किए।

see more..
राधाष्टमी की पूर्व संध्या पर बरसाना में श्रद्धालुओं का रेला

राधाष्टमी की पूर्व संध्या पर बरसाना में श्रद्धालुओं का रेला

05 Sep 2019 | 2:26 PM

मथुरा, 5 सितंबर (वार्ता) राधाष्टमी पर वैसे तो ब्रज का कोना कोना राधामय हो जाता है पर राधारानी की क्रीडास्थली होने के कारण बरसाना में तीर्थयात्रियों का जमघट लग जाता है। राधाष्टमी छह सितंबर को इस बार मनाई जा रही है।

see more..
जख्मी और बेसहारा पशुओं की मदर टेरेसा हैं झांसी की निर्मला वर्मा

जख्मी और बेसहारा पशुओं की मदर टेरेसा हैं झांसी की निर्मला वर्मा

04 Sep 2019 | 2:51 PM

झांसी 04 सितम्बर (वार्ता) “ मदर टेरेसा” एक ऐसा नाम जिसके सामने में आते ही असीम ममता और मानव सेवा की भावना से परिपूर्ण एक ऐसी महिला की छवि जहन में उभरती है जिसने नि:स्वार्थ भाव से अपना पूरा जीवन लोगों की मदद में गुजार दिया।

see more..
इटावा सफारी के लिये करना होगा इंतजार

इटावा सफारी के लिये करना होगा इंतजार

02 Sep 2019 | 6:34 PM

इटावा, 02 सितम्बर (वार्ता) चंबल की छवि बदलने को बेताब इटावा सफारी पार्क का दीदार के लिये दर्शकों को अभी और इंतजार करना पड़ सकता है।

see more..
image