Friday, May 24 2024 | Time 15:41 Hrs(IST)
image
राज्य » राजस्थान


पीड़ित की सेवा ईश्वर की साधना है : आचार्य

उदयपुर 01 मई (वार्ता) जीवन का मूल उदार दृष्टिकोण, आत्मीयता, वसुधैव कुटुंबकम और अहिंसा परमो धर्म ही है, जिसका अनुसरण कर व्यक्ति स्वस्थ सुसंस्कृत एवं सहिष्णु समाज की रचना में योगदान दे सकता है।
यह बात गुरुवार को दिगम्बर जैन आचार्य वर्धमान सागर जी महाराज ने नारायण सेवा संस्थान में विकलांगता सुधार सर्जरी के लिए देश के विभिन्न राज्यों से आए दिव्यांगजन को आशीर्वचन में कही। उन्होंने कहा कि दुखी, बेसहारा और पीड़ित जन की सेवा ईश्वर की साधना-आराधना का ही मार्ग है। इस दिशा में संस्थान ईश्वरीय कार्य कर रही है, जिसकी झलक देश-विदेश में प्राय: नजर आती है | उन्होंने कर्म बंध से मुक्ति का जिक्र करते हुए कहा कि पूर्वार्जित कर्मों की निर्जरा से ही मोक्ष का मार्ग प्रशस्त होगा।
आरंभ में संस्थान- संस्थापक पद्मश्री कैलाश मानव ने आचार्यश्री सहित ससंघ की अगवानी करते हुए संस्थान की 38 वर्षीय सेवा यात्रा का साहित्य श्रीफल के साथ भेंट किया। संस्थान अध्यक्ष प्रशान्त अग्रवाल ने आचार्यश्री का पाद-प्रक्षालन व ससंघ का अभिनंदन करते हुए कहा कि व्यक्ति के जीवन को सफल एवं सार्थक बनाने का मंत्र लेकर अहर्निशं विहार करने वाले आचार्यश्री के पग फेरे से संस्थान और दिव्यांगजन धन्य हो गए।
रामसिंह
वार्ता
More News
आशा है राज्य सरकार जयपुर में बन रहे शैक्षणिक संस्थानों की शीघ्र शुरुआत करेगी-गहलोत

आशा है राज्य सरकार जयपुर में बन रहे शैक्षणिक संस्थानों की शीघ्र शुरुआत करेगी-गहलोत

24 May 2024 | 9:44 AM

जयपुर 24 मई (वार्ता) राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आशा जताते हुए कहा है कि राजधानी जयपुर में बन रहे शैक्षणिक संस्थान कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में प्रदेश में बेहतरीन इंफ्रास्ट्रक्चर वाले संस्थान हैं और वर्तमान सरकार जल्दी ही इनकी औपचारिक शुरुआत करेगी।

see more..
image