Tuesday, Jan 23 2018 | Time 21:37 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • भारत और मारीशस के कृषि वैज्ञानिक मिलकर कर सकते हैं शोध
  • कुंडुली दुष्कर्म पीड़िता के शव के साथ प्रदर्शन
  • हमीरपुर में हत्या के मामले में दो भाईयों सहित चार लोगों को उम्र कैद
  • धार्मिक-सांप्रदायिक कट्टरता देश की तरक्की का बाधक:शुक्ला
  • उप्र में नेताजी सुभाष चन्द्र बोस को किया गया याद
  • मोदी स्वदेश रवाना
  • '
  • हरियाणा ने यूपी को 4-3 से हराया
  • फोटो कैप्शन-तीसरा सेट
  • कोयला आयात घोटाला मामले में मुकदमा दर्ज
  • मोदी का संबोधन देश के लिए गौरवशाली एवं ऐतिहासिक -शाह
  • दिसंबर में हवाई यात्रियों की संख्या एक करोड़ 10 लाख के पार
  • समृद्धि के साथ शांति के लिए भारत आयें निवेशक : मोदी
  • अधिग्रहित भूमि का बैनामा लेने वाले को ही मुआवजा पाने का हक
  • झारखण्ड की पंजाब पर रोमांचक जीत
विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी Share

ब्रह्मोस के 450 किलोमीटर रेंज वाले संस्करण का सफल परीक्षण

बालासोर/नयी दिल्ली 11 मार्च (वार्ता) स्वदेश निर्मित सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस के 450 किलोमीटर रेंज वाले संस्करण का अाज ओडिशा के चाँदीपुर स्थित एकीकृत परीक्षण केंद्र से सफल परीक्षण किया गया।
ब्रह्मोस के ज्यादा दूरी तक मार करने सकने वाले इस संस्करण का परीक्षण भारत को मिसाइल टेक्नोलॉजी कंट्रोल रिजीम (एमटीसीआर) की पूर्ण सदस्यता मिलने के बाद किया गया है। इस सदस्यता के बाद ब्रह्मोस क्रूज मिसाइलों की रेंज पर लगी 290 किलोमीटर की सीमा समाप्त हो गयी है।
ब्रह्मोस एयरोस्पेस ने नयी दिल्ली में जारी बयान में बताया कि जमीन से जमीन पर मार करने वाले ब्रह्मोस मिसाइल के इस संस्करण का परीक्षण सुबह 11.30 बजे किया गया और इस दौरान मिसाइल ने सभी मानकों को पूरा किया। बयान में कहा गया है, “मोबाइल ऑटोनोमस लांचर से दागे गये मिसाइल ने परीक्षण के दौरान कुशाग्र दक्षता के साथ शत प्रतिशत परिणाम हासिल किया है।”
परीक्षण स्थल पर मौजूद ब्रह्मोस एयरोस्पेस के प्रमुख सुधीर मिश्रा ने कहा, “ब्रह्मोस-ईआर (एक्सटेंडेड रेंज) के सफल परीक्षण से भारतीय सेना 400 किलोमीटर से ज्यादा दूरी तक दुश्मन पर हमला करने की क्षमता हासिल कर लेगी। इस प्रकार ब्रह्मोस ने एक बार फिर दुनिया के सर्वोत्तम क्रूज मिसाइलों के रूप में अपने को साबित कर दिया।”
अजीत देवेन्द्र
जारी वार्ता
More News
भारत में 2020 तक दिल के मरीज होंगे सबसे ज्यादा

भारत में 2020 तक दिल के मरीज होंगे सबसे ज्यादा

28 Sep 2017 | 4:01 PM

नयी दिल्ली 28सितंबर (वार्ता) देश में 2020 तक दिल की बीमारी से पीड़ित लोगों की संख्या दुनिया में सबसे ज्यादा होगी।

 Sharesee more..

....

01 Sep 2017 | 4:18 PM

 Sharesee more..
दिल के दौरे के खतरे को कम करता है बिनौला तेल

दिल के दौरे के खतरे को कम करता है बिनौला तेल

20 Aug 2017 | 12:33 PM

नयी दिल्ली 20 अगस्त (वार्ता) केन्द्रीय कपास प्रौद्योगिकी अनुसंधान संस्थान मुंबई के वैज्ञानिकों का दावा है कि कपास के बिनौले का तेल अनेक विशिष्ट गुणों से भरपूर है जो मानव स्वास्थ्य के लिए बहुत ही उपयुक्त है तथा इसके नियमित उपयोग से दिल का दौरा पड़ने का खतरा बहुत कम हो जाता है

 Sharesee more..
सीएसआईआर बनायेगा हर प्रकार के टीबी पर कारगर दवा

सीएसआईआर बनायेगा हर प्रकार के टीबी पर कारगर दवा

16 Aug 2017 | 5:27 PM

नयी दिल्ली 16 अगस्त (वार्ता) वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद् (सीएसआईआर) की प्रयोगशाला इंस्टीट्यूट ऑफ माइक्रोबियल टेक्नोलॉजी (आईएमटेक) ने हर तरह के क्षय रोग (टीबी) के लिए कारगर दवा विकसित करने के वास्ते स्वास्थ्य क्षेत्र की वैश्विक कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन के साथ आज एक समहमति पत्र पर हस्ताक्षर किये।

 Sharesee more..

....

16 Aug 2017 | 5:11 PM

 Sharesee more..
image