Tuesday, Jul 16 2019 | Time 10:48 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मुजफ्फरनगर पुलिस मुठभेड़ में दो इनामी बदमाश ढेर
  • जम्मू से 3967 श्रद्धालुओं का नया जत्था अमरनाथ रवाना
  • कैलिफोर्निया में गैस विस्फोट से एक की मौत, 15 घायल
  • इराक में दो बम विस्फोटों में एक की मौत, 25 घायल
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 17 जुलाई)
  • ईरान के साथ युद्ध नहीं चाहते ट्रम्प : जरीफ
  • इंडोनेशिया के बाली में 5 7 तीव्रता का भूकंप
  • अफगानिस्तान में सैन्य कार्रवाई में 11 आतंकवादी ढेर
  • अमेरिका-ईरान के बीच तनाव कम करने वाला प्रस्ताव पेश करेगा फ्रांस
  • पुतिन, ट्रम्प और रूहानी से करूंगा परमाणु समझौते पर चर्चा : मैक्रॉन
खेल


भारद्वाज ने बताया कि राज्य क्रिकेट संघ में लोढा समिति की सिफारिश के अनुसार ही एक क्रिकेटर की क्रिकेट मामलों को चलाने के लिये नियुक्ति की गयी थी। लेकिन डीडीसीए में ऐसा कुछ भी नहीं हो रहा है और डीडीसीए अध्यक्ष ही अपने हिसाब से क्रिकेट समिति अौर चयन समितियों की नियुक्ति कर रहे हैं और डीडीसीए के 12 निदेशकों की पूरी टीम को दरकिनार कर दिया गया है।
उन्होंने आरोप लगाया कि तीन सदस्यीय क्रिकेट समिति में शामिल वीरेंद्र सहवाग, आकाश चोपड़ा और राहुल सांघवी पर हितों के टकराव का पूरा मामला बनता है जबकि इस समिति में आमंत्रित सदस्यों के रूप में शामिल गौतम गंभीर भी हितों के टकराव के घेरे में आते हैं। उन्होंने कहा,“ क्रिकेट समिति को विभिन्न चयन समितियों को चुनने का अधिकार दिया गया है लेकिन ये खिलाड़ी कैसे इन समितियों का चयन कर सकते हैं जो खुद हितों के टकराव के घेरे में हैं।”
भारद्वाज ने सीनियर चयन समिति पर भी सवाल उठाते हुये कहा कि इस समिति के अध्यक्ष अमित भंडारी और सदस्य रजत भाटिया तथा सुखविंदर सिंह और जूनियर चयन समिति के अध्यक्ष परविंदर अवाना तथा सदस्य सिद्धार्थ साहिब सिंह और मयंक तहलान पर भी हितों के टकराव का मामला बनता है। भारद्वाज ने खासतौर पर सहवाग के लिये कहा कि वह अपनी अकादमियां चलाते हैं और रजत शर्मा के टीवी चैनल में विशेषज्ञ की भूमिका में भी आते हैं।
उन्होंने आरोप लगाया कि रजत शर्मा ने डीडीसीए को जैसे अपने टीवी चैनल की सहायक कंपनी बना लिया है और वह डीडीसीए का तमाम संचालन नोएडा स्थित अपने चैनल के कार्यालय से कर रहे हैं। भारद्वाज ने यह भी आरोप लगाया कि रजत के टीवी चैनल के उपाध्यक्ष पुनीत टंडन तमाम ईमेल लिख रहे हैं और फोन पर डीडीसीए बोर्ड के सदस्यों को निर्देश जारी कर रहे हैं। उनका यह भी आरोप है कि डीडीसीए के कर्मचारियों को तमाम जवाब देने के लिये नोएडा जाना पड़ता है।
भारद्वाज ने मांग की कि मौजूदा हालात में बेहतर होगा कि डीडीसीए अपना चुनाव दोबारा कराये और नये अध्यक्ष का चुनाव करे जो दिल्ली की क्रिकेट के हित में काम कर सके।
राज प्रीति
वार्ता
More News
इस बार प्रो कबड्डी का खिताब जीतेंगे: गुजरात फार्च्यून जायंट्स

इस बार प्रो कबड्डी का खिताब जीतेंगे: गुजरात फार्च्यून जायंट्स

15 Jul 2019 | 11:27 PM

अहमदाबाद, 15 जुलाई (वार्ता) प्रो कबड्डी लीग में अपने प्रवेश के बाद से दोनों सत्रों में फाइनल तक पहुंचने वाली युवा टीम गुजरात फार्च्यून जायंट्स ने सोमवार को कहा कि इस बार यानी लीग के सीजन 7 में यह बदली हुई रणनीति के जरिये खिताब पर जरूर कब्जा जमायेगी।

see more..
राष्ट्रमंडल टेबल टेनिस से हटा पाकिस्तान

राष्ट्रमंडल टेबल टेनिस से हटा पाकिस्तान

15 Jul 2019 | 11:27 PM

कटक, 15 (वार्ता) ओडिशा के कटक में होने वाली 21वीं राष्ट्रमंडल टेबल टेनिस चैंपियनशिप से ठीक पूर्व में पाकिस्तान इस टूर्नामेंट से हट गया है।

see more..
उत्तर कोरिया ने ताजिकिस्तान को हराया, भारत बाहर

उत्तर कोरिया ने ताजिकिस्तान को हराया, भारत बाहर

15 Jul 2019 | 11:27 PM

अहमदाबाद, 15 जुलाई (वार्ता) उत्तर कोरिया ने शीर्ष पर चल रही टीम ताजिकिस्तान को सोमवार को 1-0 से हरा दिया और उत्तर कोरिया की इस जीत के साथ मेजबान तथा गत चैंपियन भारत इंटरकांटिनेंटल कप फुटबॉल टूर्नामेंट से बाहर हो गया।

see more..
इंग्लैंड-न्यूजीलैंड बनने चाहिये थे संयुक्त विजेता, बाउंड्री नियम क्रूर

इंग्लैंड-न्यूजीलैंड बनने चाहिये थे संयुक्त विजेता, बाउंड्री नियम क्रूर

15 Jul 2019 | 11:27 PM

नयी दिल्ली, 15 जुलाई (वार्ता) विश्वकप फाइनल में सुपर ओवर भी टाई हो जाने के बाद सर्वाधिक बाउंड्री के आधार पर इंग्लैंड को विजेता घोषित करने पर पूर्व क्रिकेटरों ने आईसीसी के इस नियम को काफी क्रूर बताया और कई खिलाड़ियों ने कहा कि दोनों टीमों को संयुक्त रूप से विजेता घोषित किया जाना चाहिये था।

see more..
इंग्लैंड और न्यूजीलैंड बनने चाहिये थे संयुक्त विजेता

इंग्लैंड और न्यूजीलैंड बनने चाहिये थे संयुक्त विजेता

15 Jul 2019 | 11:27 PM

नयी दिल्ली, 15 जुलाई (वार्ता) विश्वकप फाइनल में सुपर ओवर भी टाई हो जाने के बाद सर्वाधिक बाउंड्री के आधार पर इंग्लैंड को विजेता घोषित करने पर पूर्व क्रिकेटरों ने आईसीसी के इस नियम को काफी क्रूर बताया आैर कई खिलाड़ियों ने कहा कि दोनों टीमों को संयुक्त रूप से विजेता घोषित किया जाना चाहिये था।

see more..
image