Sunday, Feb 17 2019 | Time 17:52 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • आतंकवादियों की हताशा का परिणाम पुलवामा हमला : राजनाथ
  • पाकिस्तानी कलाकारों पर प्रतिबंध का आह्वान
  • इंग्लैंड के सहायक कोच टीम का साथ छोड़ेंगे
  • वसुंधरा ने शहीद के परिजनों को बंधाया ढांढस
  • विधानसभा का चार दिवसीय सत्र सोमवार से, अध्यक्ष ने लिया तैयारियों का जायजा
  • पाकिस्तान के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करे भारत : बादल
  • मादक पदार्थ विरोधी दस्ते ने पकड़ी लाखों की अफीम
  • तुर्की ने चार विदेशी संदिग्धों को हिरासत में लिया
  • मुरादाबाद- कश्मीरी छात्रों के बारे में छानबीन जारी
  • सरकारी चिकित्सा महाविद्यालयों में शिक्षकों के 153 पद भरने के लिए मंत्रिमंडल की स्वीकृति
  • शाह सोमवार को जयपुर आयेंगे
  • संजय तोमर और श्री सीमा बने ‘मैक्स लाइफ इंश्योरेंस - द रन’ के चैंपियन
  • पुल की रेलिंग तोड़ गहरे नाले में गिरी बस, तीन की मौत पचास घायल
  • पुलवामा हमले के दोषियों को बख्शा नहीं जायेगा: नकवी
  • सुरक्षा हमारे लिए कोई मसला नहीं : मीरवाइज
राज्य Share

लेखन व्यास शैली से किया डिजिटल युग में प्रवेश-भगत

उदयपुर 03 सितम्बर (वार्ता) माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय नोयडा के निदेशक अरूण भगत ने कहा है कि लेखन कभी व्यास शैली में हुआ करता था जो आज डिजिटल युग में समास शैली में होने लगा है।
श्री भगत आज यहां मोहनलाल सुखाडिय़ा विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग और राजस्थान साहित्य अकादमी के संयुक्त तत्वावधान में डिजिटल मीडिया और साहित्य विषयक एक दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि डिजिटल मीडिया में पर्याप्त सामग्री का अभाव है। लेखक एवं पाठक के बीच आत्मियता का संबंध खत्म सा हो गया है। संपादन कौशल का स्तर गिरता जा रहा है।
डिजिटल दौर की पत्रकारिता के सामने आ रही 16 चुनौतियों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि यह सच है डिजिटल मीडिया ने साहित्य का लोकतांत्रिकरण कर दिया है।
मध्यप्रदेश साहित्य अकादमी के अध्यक्ष देवेंद्र दीपक ने कहा कि डिजिटल साहित्य में संशोधन की साहित्य नहीं है। अपनी लिखी रचना का त्रुटिदोष दूर करना संभव नहीं है। इस डिजिटल प्रणाली ने हमारे सामने घोर असामाजिकता पेश की है। इससे शरीर रचना पर भी विपरीत प्रभाव पड़ रहा है।
राजस्थान साहित्य अकादमी के अध्यक्ष डॉ. इन्दुशेखर तत्पुरूष ने सवाल उठाया कि क्या यह संभव है कि सूचनाओं के अंधड़ में हमें समृद्ध करने वाला यह नया डिजिटल माध्यम हमारी साहित्यिक रचनात्मकता को भी समृद्ध करेगा। यह जरूरी नहीं है कि डिजिटल विस्तार अनिवार्यत: साहित्यिक विकास को भी सुनिश्चित करे। सोशल मीडिया के असीमित प्रयोग से रचनात्मकता और सृजनशीलता पर विपरीत असर हुआ है।
रामसिंह जोरा
वार्ता
More News
पाकिस्तान के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करे भारत : बादल

पाकिस्तान के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करे भारत : बादल

17 Feb 2019 | 5:44 PM

सिरसा, 17 फरवरी (वार्ता) शिरोमणि अकाली दल अध्यक्ष और पंजाब के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल ने आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अनुरोध किया कि पुलवामा हमले को लेकर भारत पाकिस्तान के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करे।

 Sharesee more..
पुलवामा हमले के दोषियों को बख्शा नहीं जायेगा: नकवी

पुलवामा हमले के दोषियों को बख्शा नहीं जायेगा: नकवी

17 Feb 2019 | 5:42 PM

लखनऊ, 17 फरवरी (वार्ता) केंद्रीय अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा है कि मोदी सरकार कभी भी देश की सुरक्षा से समझौता नहीं करेगी और पुलवामा में हुये आतंकवादी हमले के दोषियों को बख्शा नहीं जायेगा।

 Sharesee more..
image