Thursday, Jan 24 2019 | Time 11:39 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • स्टारडम खत्म नहीं हो सकता : नवाजउद्दीन
  • पद्मिनी के पुत्र प्रियंक करेंगे बॉलीवुड में डेब्यू
  • परेश रावल के पुत्र आदित्य करेंगे बॉलीवुड में डेब्यू
  • रैप मुझे नेचुरली एक्साइट करता है : रणवीर
  • स्टारडम खत्म नहीं हो सकता : नवाजउद्दीन
  • लांस नायक वानी को अशोेक चक्र (मरणोपरांत) से सम्मानित किया जाएगा
  • पद्मिनी के पुत्र प्रियंक करेंगे बॉलीवुड में डेब्यू
  • परेश रावल के पुत्र आदित्य करेंगे बॉलीवुड में डेब्यू
  • रैप मुझे नेचुरली एक्साइट करता है : रणवीर
  • हिमस्खलन के बाद लापता दो शिकारियों की तलाश शुरू
  • राजद नेता की गोली मारकर हत्या
  • लांस नायक वानी को अशोेक चक्र (मरणोपरांत) से सम्मानित किया जाएगा
  • गुएडो ने समर्थन के लिए विश्व नेताओं का जताया आभार
  • वेनेजुएला में प्रदर्शन के दौरान 152 लोग हिरासत में
  • किम जोंग ने शुरु की दूसरे शिखर बैठक की तैयारी
राज्य Share

देश के चौकीदार की भ्रष्टाचार में भागीदारी हुयी जगजाहिर: कांग्रेस

देश के चौकीदार की भ्रष्टाचार में भागीदारी हुयी जगजाहिर:  कांग्रेस

इलाहाबाद, चार सितंबर (वार्ता) राफेल विमान सौदे को लेकर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार पर हमलावर रूख बरकरार रखते हुये कांग्रेस ने तंज कसा कि देश का चौकीदार होने का दावा करने वाले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की भ्रष्टाचार में संलिप्तता उजागर होने से जनता हतप्रभ है।

कांग्रेस प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने मंगलवार को यहां पत्रकारों से कहा “ देश का सबसे बड़ा रक्षा सौदा और इसमें भ्रष्टाचार भाजपा के कार्यकाल में हुआ है। मोदी सरकार ने लड़ाकू विमानों के दाम तीन गुना बढ़ाए हैं।”

उन्होंने कहा संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार के कार्यकाल में जब फ्रांस की डसाल्ट कंपनी से राफेल विमान की कीमत 526 करोड़ रूपये तय हुई थी लेकिन सत्ता में आते ही प्रधानमंत्री ने 2015 में फ्रांस का दौरा किया और उसी विमान को 1670 करोड़ रुपये में खरीदने का सौदा किया। 12 दिसम्बर , 2012 को हुई खुली अंतर्राष्ट्रीय बोली में 126 रा़फेल लड़ाकू विमान खरीदे जाने थे तथा प्रत्येक लड़ाकू विमान का मूल्य 526 करोड़ 10 लाख रूपए था। 18 लड़ाकू विमान फ्रांस से बनकर आने थे जबकि 108 लड़ाकू विमान भारत की 70 साल की अनुभवी कम्पनी हिंदुस्तान एयरोनोटिक्स लिमिटेड द्वारा ’’ ट्रांसफर आफ टेक्नालाॅजी ’’के तहत भारत में बनाए जाने थे। इस मूल्य के तहत 36 लड़ाकू विमानों की कीमत 28,940 करोड़ रूपए आती।

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि 10 अप्रैल 2015 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पेरिस, फ्रांस में 1670 करोड़ 70 लाख प्रति लड़ाकू विमान की दर से 36 राफेल लड़ाकू विमानो के लिए 60,145 करोड़ रूपए में ’’आफ दि शेल्फ’’इमरजेंसी खरीद की घोषणा 12 दिन पुरानी नई कम्पनी के पक्ष में कर डाली। आश्चर्य तो यह है कि इन विमानों के मूल्य को सुरक्षा का बहाना लेकर छिपाया जा रहा है जबकि सुरक्षा तकनीकी की हो सकती है पर मूल्य की नही होती।

दिनेश प्रदीप

जारी वार्ता

image