Tuesday, Nov 13 2018 | Time 22:05 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • उप्र सरकार के सतत प्रयास से प्रदेश के सभी क्षेत्रों में उल्लेखनीय प्रगति:योगी
  • धनगर समाज ने आरक्षण के लिए रैली निकाली
  • कैलिफोर्निया के जंगलों में भीषण आग, 44 मरे
  • स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए प्रतिबद्ध है आयोग: रावत
  • चेन्नई ने ईस्ट बंगाल को 2-1 से हराया
  • चेन्नई ने ईस्ट बंगाल को 2-1 से हराया
  • विकास कार्यों में मिट्टी खनन के लिए अनापत्ति प्रमाण पत्र देने में विलम्ब न हो:मौर्य
  • रोहिंग्याओं की सुरक्षित वापसी के लिए म्यांमार पर अंतरराष्ट्रीय दबाव बने: बंगलादेश
  • इजरायली हवाई हमले में छह फिलीस्तीनियों की मौत
  • कोलकाता में होगा भारत-इटली डेविस कप मुकाबला
  • कोलकाता में होगा भारत-इटली डेविस कप मुकाबला
  • फाेटो कैप्शन दूसरा सेट
  • जम्मू कश्मीर में हुई बारिश
  • लोग सामाजिक बुराईयां समाप्त करने का संकल्प लें: खट्टर
  • सरकार ने आठ मैती उग्रवादी संगठनों पर प्रतिबंध लगाया
राज्य Share

लोकायुक्त संशोधन विधेयक बिना चर्चा पारित करना सरकार की हठधर्मिता -पायलट

जयपुर, 08 सितम्बर(वार्ता) राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सचिन पायलट ने विधानसभा में लोकायुक्त-उप लोकायुक्त संशोधन विधेयक को बिना नेता प्रतिपक्ष की राय लिए तथा सदन में चर्चा किए बिना पारित किए जाने को सत्ता पक्ष की हठधर्मिता बताया है।
श्री पायलट ने आज यहां एक बयान में कहा कि यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है कि राज्य सरकार नियमों के विपरीत जाकर लोकायुक्त के कार्यकाल को बढ़ाने के लिए अध्यादेश लेकर आयी थी जिसे न्यायपालिका में चुनौती दी गई और अब विधानसभा में विधेयक पास कर बिना नेता प्रतिपक्ष तथा मुख्य न्यायाधीश की सहमति लिए विधेयक में लोकायुक्त का कार्यकाल पाँच वर्षों की जगह आठ वर्ष कर दिया गया है और यह प्रावधान भी रखा गया है कि उक्त नियुक्ति को आगे भी बढ़ाया जा सकता है जब तक कि नई नियुक्ति ना हो, जिसका सीधा तात्पर्य यह है कि लोकायुक्त कार्यकाल की सीमा को भी समाप्त कर दिया गया है।
उन्होंने कहा कि सरकार का यह निर्णय नैतिक रूप से गलत है क्योंकि लोकायुक्त जांच के दायरे में राज्य सरकार के अधीन समस्त प्रशासन की कार्यप्रणाली रहती है ऐसे में मुख्यमंत्री की अभिशंषा पर लोकायुक्त के कार्यकाल को बढ़ाया जाना और उसमें उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश की सहमति नहीं होना, सरासर गलत है। उन्होंने कहा कि मुख्य न्यायाधीश की राय को निर्पेक्ष माना जाता है और उनकी सहमति के बिना लोकायुक्त कानून में संशोधन किया जाना पारदर्शिता के सिद्धान्त के खिलाफ है। उन्होंने कहा कि आज भाजपा सरकार में भ्रष्टाचार हर विभाग में संस्थागत है इसलिए आवश्यक है कि लोकायुक्त के संवैधानिक पद की नियुक्ति अथवा कार्यकाल विस्तार नियमों के अनुसार हो ताकि निष्पक्ष जांच के मूल उद्देश्य जो लोकायुक्त नियुक्ति का आधार है, उसे हासिल किया जा सके।
सैनी
वार्ता
More News
स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए प्रतिबद्ध है आयोग: रावत

स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए प्रतिबद्ध है आयोग: रावत

13 Nov 2018 | 10:00 PM

इंदौर, 13 नवंबर (वार्ता) देश के मुख्य निर्वाचन आयुक्त ओ पी रावत ने मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए तैयारियों पर आज संतोष जताते हुए कहा कि आयोग स्वतंत्र, निष्पक्ष और शांतिपूर्ण ढंग से चुनाव कराने के लिए प्रतिबद्ध है।

 Sharesee more..
उप्र सरकार के सतत प्रयास से प्रदेश के सभी क्षेत्रों में उल्लेखनीय प्रगति:योगी

उप्र सरकार के सतत प्रयास से प्रदेश के सभी क्षेत्रों में उल्लेखनीय प्रगति:योगी

13 Nov 2018 | 9:19 PM

लखनऊ 13 नवम्बर (वार्ता) उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राज्य सरकार के सतत प्रयास से प्रदेश के सभी क्षेत्रों में उल्लेखनीय प्रगति की है अौर 30 नवम्बर तक प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) के तहत 10 लाख आवासों का निर्माण करा लिया जाएगा ।

 Sharesee more..

उत्तर प्रदेश-योगी प्रगति दो लखनऊ

13 Nov 2018 | 9:08 PM

 Sharesee more..

धनगर समाज ने आरक्षण के लिए रैली निकाली

13 Nov 2018 | 9:04 PM

 Sharesee more..
image