Tuesday, Sep 18 2018 | Time 21:29 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पटना में राष्ट्रीय सैंबो प्रतियोगिता कल से
  • राजनाथ ने केंद्रीय एजेंसियाें के दुरुपयोग के आरोपों को नकारा
  • नाबालिग के साथ बलात्कार के दोषी के मृत्युदंड पर अंतरिम रोक
  • ट्रेन की चपेट में आने से बच्ची की मौत
  • भारत बंगलादेश ने किया दो परियोजनाओं का शिलान्यास
  • 2019 में रांची बने देश का सबसे स्वच्छ शहर : रघुवर
  • एनबीई दीक्षांत समारोह में शरीक होंगे नायडू
  • भारत-जर्मनी ने किया कौशल विकास में सहयोग का करार
  • शिखर के विस्फोटक शतक से भारत के 285
  • शिखर के विस्फोटक शतक से भारत के 285
  • एनएसयूआई के प्रदेशाध्यक्ष अभिमन्यू पूनिया हमले में घायल
  • शिखर के विस्फोटक शतक से भारत के 285
  • फोटो कैप्शन-दूसरा सेट
  • संविधान सर्वोच्च, ‘हिन्दू राष्ट्र’ में मुसलमानों की भी जगह : भागवत
राज्य Share

लोकायुक्त संशोधन विधेयक बिना चर्चा पारित करना सरकार की हठधर्मिता -पायलट

जयपुर, 08 सितम्बर(वार्ता) राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सचिन पायलट ने विधानसभा में लोकायुक्त-उप लोकायुक्त संशोधन विधेयक को बिना नेता प्रतिपक्ष की राय लिए तथा सदन में चर्चा किए बिना पारित किए जाने को सत्ता पक्ष की हठधर्मिता बताया है।
श्री पायलट ने आज यहां एक बयान में कहा कि यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है कि राज्य सरकार नियमों के विपरीत जाकर लोकायुक्त के कार्यकाल को बढ़ाने के लिए अध्यादेश लेकर आयी थी जिसे न्यायपालिका में चुनौती दी गई और अब विधानसभा में विधेयक पास कर बिना नेता प्रतिपक्ष तथा मुख्य न्यायाधीश की सहमति लिए विधेयक में लोकायुक्त का कार्यकाल पाँच वर्षों की जगह आठ वर्ष कर दिया गया है और यह प्रावधान भी रखा गया है कि उक्त नियुक्ति को आगे भी बढ़ाया जा सकता है जब तक कि नई नियुक्ति ना हो, जिसका सीधा तात्पर्य यह है कि लोकायुक्त कार्यकाल की सीमा को भी समाप्त कर दिया गया है।
उन्होंने कहा कि सरकार का यह निर्णय नैतिक रूप से गलत है क्योंकि लोकायुक्त जांच के दायरे में राज्य सरकार के अधीन समस्त प्रशासन की कार्यप्रणाली रहती है ऐसे में मुख्यमंत्री की अभिशंषा पर लोकायुक्त के कार्यकाल को बढ़ाया जाना और उसमें उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश की सहमति नहीं होना, सरासर गलत है। उन्होंने कहा कि मुख्य न्यायाधीश की राय को निर्पेक्ष माना जाता है और उनकी सहमति के बिना लोकायुक्त कानून में संशोधन किया जाना पारदर्शिता के सिद्धान्त के खिलाफ है। उन्होंने कहा कि आज भाजपा सरकार में भ्रष्टाचार हर विभाग में संस्थागत है इसलिए आवश्यक है कि लोकायुक्त के संवैधानिक पद की नियुक्ति अथवा कार्यकाल विस्तार नियमों के अनुसार हो ताकि निष्पक्ष जांच के मूल उद्देश्य जो लोकायुक्त नियुक्ति का आधार है, उसे हासिल किया जा सके।
सैनी
वार्ता
More News
2019 में रांची बने देश का सबसे स्वच्छ शहर : रघुवर

2019 में रांची बने देश का सबसे स्वच्छ शहर : रघुवर

18 Sep 2018 | 9:18 PM

रांची 18 सितंबर (वार्ता) झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने स्वच्छ राज्य के निर्माण के लिए नीति एवं रणनीति बेहतर बनाये जाने की आवश्यकता पर बल देते हुये आज कहा कि आपसी समन्वय से काम कर ही वर्ष 2019 के सर्वेक्षण में रांची देश का सबसे स्वच्छ शहर बनेगा।

 Sharesee more..
image