Wednesday, Jan 23 2019 | Time 08:37 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • इजरायल के लड़ाकू विमानों ने हमास के शिविर पर किए हमले
  • तुर्की में 4 6 तीव्रता का भूकंप
  • अफगानिस्तान में गोलीबारी में अमेरिकी सैनिक की मौत
  • अफगानिस्तान में गोलीबारी में अमेरिकी सैनिक की मौत
  • नागालैंड सरकार ने किया मुख्य सचिव का तबादला
  • रूसी विमान के अपहरण की कोशिश, एक यात्री गिरफ्तार
विशेष » कुम्भ Share

जजमानों के 500 पीढियों से अधिक का लेखा-जोख रखते हैं पुरोहित

जजमानों के 500 पीढियों से अधिक का लेखा-जोख रखते हैं पुरोहित

प्रयागराज, 09 जनवरी (वार्ता) विरले ही होंगे जिन्हें अपनी तीन पीढ़ी के पहले के लोगों के नाम याद रहता होगा लेकिन दुनिया के सबसे बड़े आध्यात्मिक और सांस्कृतिक समागम कुम्भ में पुरोहितों के पास अपने जजमानों के 500 पीढियों से अधिक का लेखा-जोखा मौजूद है।


    पुरोहितों को केवल जजमान अपना नाम और स्थान का पता बताने की देरी होती है बस, शेष काम उनका होता है। वह आधे घंटे के अन्दर कई पीढियों का लेखा-जोखा सामने रख देते हैं। लाखों लोगों के ब्यौरे के संकलित करने का यह तरीका इतना वैज्ञानिक और प्रमाणिक है कि पुरातत्ववेत्ता और संग्रहालयों के अधिकारी भी इससे सीख ले सकते हैं।

    अत्याधुनिक दौर में भी पुरोहित अपने जजमानों राजा-महाराजाओं और मुस्लिम शासकों से लेकर देश भर के अनगिनत लोगों की पाच सौ वर्षों से अधिक की वंशावलियों के ब्यौरे बही खातों में पूरी तरह सम्भाल कर रखते हैं। तीर्थराज प्रयाग में करीब 1000 तीर्थ पुरोहितों की झोली में रखे बही-खाते बहुत सारे परिवारों, कुनबों और खानदानों के इतिहास का ऐसा दुर्लभ संकलन हैं जिससे कई बार उसी परिवार का व्यक्ति ही पूरी तरह वाकिफ नहीं होता है।

   तीर्थपुरोहितों का कहना है कि राजपूत युग के पश्चात यवन काल, गुलाम वंश, खिलजी सम्राट के समय भी इन तीर्थ पुरोहितों की महिमा बरकरार रखी गई थी। अलाउद्दीन खिलजी द्वारा दिया गया माफीनामा का फरमान प्रयाग के तीर्थ पुरोहितों के पास यहां मौजूद है।

     उनका कहना है इन पुरोहितों के खाता-बही में यजमानों का वंशवार विवरण वास्तव में वर्णमाला के व्यवस्थित क्रम में आज भी संजो कर रखा हुआ है। पहले यह खाता-बही मोर पंख बाद में नरकट फिर जी-निब वाले होल्डर और अब अच्छी स्याही वाले पेनों से लिखे जाते हैं। वैसे मूल बहियों को लिखने में कई तीर्थ पुरोहित जी-निब का ही प्रयोग करते हैं। टिकाऊ होने की वजह से सामान्यतया काली स्याही उपयोग में लाई जाती है। मूल बही का कवर मोटे कागज का होता है। जिसे समय-समय पर बदला जाता है। बही को मोड़ कर मजबूत लाल धागे से बांध दिया जाता है।     

    उनका दावा है कि पुराने पुरोहितों के वंशजों के पास के पास ऐसे कागजात हैं जब अकबर ने प्रयाग के तीर्थ पुरोहित चंद्रभान और किशनराम को 250 बीघा भूमि मेला लगाने के लिए मुफ्त दी थी। यह फरमान भी उनके पास सुरक्षित है। पुराहितों की बहियों में यह भी दर्ज है कि झांसी की रानी लक्ष्मीबाई कब प्रयाग आई थीं। इनके पास नेहरू परिवार के लोगों के लेख और हस्ताक्षर भी मौजूद हैं।

   उनका कहना है कि सदी के महानायक अमिताभ बच्चन के बेटे अभिषेक बच्चन पत्नी ऐश्वर्या राय बच्चन के पिता कृष्णराज राय की अस्थि कलश को संगम में प्रवाहित करने आयीं थी, तब भी यहीं के तीर्थ पुरोहितों ने इस संस्कार को पूर्ण कराया था।

प्रयागवाल के संरक्षक सुभाष पांडे ने बताया कि भगवान राम ने लंका विजय के प्रयाग में स्नान के बाद पुरोहित को दान देना चाहा लेकिन ब्रह्महत्या का आरोप लगाकर उनसे किसी ने दान नहीं लिया। उसके बाद उन्हें अयोध्या के तत्कालीन कवीरापुर, बट्टपुर जिले के रहने वाले कुछ लोगों को ब्राह्मणों को यहां लाये और स्नान कर उन्हें दान दिया था।     

   उन्होंने बताया कि इन दस्तावेजों को संजोकर रखने में कड़ी मशक्कत करनी पड़ती है। बड़े-बड़े बक्शों में रखे मोटे-मोटे बही खातों की साफ सफाई करनी पड़ती है। दीमक और अन्य कीटों से बचाने के लिए फिनायल की गोलियां अथवा अन्य कीटनाशक दवाइयों का प्रयोग करते हैं। बहुत पुराने बही-खातों को फिर से नए बनाने पड़ते हैं क्योंकि एक नीयत समय तक ही कागज की स्थिति बनी रहती है, उके बाद वह गलने और टूटने लगता है।

     श्री पाण्डे ने बताया कि यह उनका पुश्तैनी पेशा है और वह अपने इस पेशे के माध्यम से बाहर से आने वाले जजमानों को अधिक से अधिक सुविधा प्रदान करने का प्रयास करते है। इसी के सहारे उनके परिवार का साल भर का खर्चा चलता है। इसीलिए इसको वह बड़ी शिद्दत से निभाते हैं। इलाहाबाद में करीब 1000 पंडा परिवार धर्मकांड से अपनी आजीविका चला रहे हैं।

 किला मार्ग के तीर्थ पुरोहित मुन्ना भैय्या ने बताया कि उनके पास मध्य प्रदेश के कई स्टेट के राजघाराने के जजमानों के 150 वर्ष पुराना बही खाता मौजूद है। इनके पास अजयगढ़ स्टेट, विजवर स्टेट, खनियादान स्टेट और गरौली स्टेट के अधिनस्थ क्षेत्र है। उन्होंने बताया कि अजयगढ स्टेट के राजा भोपाल सिंह, रंजौर सिंह देवेन्द्र सिंह के वंशज, विजवर स्टेट के राजा महाराणा सावन सिंह खनियादान स्टेट के राजा खलन सिंह, कौशलेन्द्र सिंह एवं गरौली स्टेट के राजा पुष्पेन्द्र सिंह, कैप्टन चन्द्रभान सिंह के वंशज आज भी इनके यहां आते है।

      मुन्ना ने बताया कि पन्ना स्टेट और अजयगढ़ स्टेट मिलकर अब पन्ना जिला बन गया है। पन्ना स्टेट के पवई, अमानगंज समेरिया आदि तथा अजयगढ़ स्टेट के गुनौर, सलेहा, देवेन्द्र नगर समेत आसपास के सभी क्षेत्रों के लोग किसी प्रकार धार्मिक या संस्कार वाले कर्म इन्ही के पास आते हैं।

     उन्होंने बताया कि बही खाते का कवर लाल रंग का बनाया जाता है क्योंकि लाल रंग पर कीटाणु का असर नहीं होता है। तीर्थ पुरोहित बहियों की तीन कापी तैयार करते हैं। एक घर में सुरक्षित रहती है। दूसरी घर पर आने वाले यजमानों को दिखाई जाती है। तीसरी तीर्थ स्थल पर लोहे के संदूक में रखी जाती है। सामान्यतः तीर्थ पुरोहित अपने संपर्क में आने वाले किसी भी यजमान का नाम-पता आदि पहले एक रजिस्टर या कापी में दर्ज करते हैं। बाद में इसे मूल बही में उतारा जाता है। यजमान से भी उसका हस्ताक्षर उसके द्वारा दिए गए विवरण के साथ ही कराया जाता है। बही की शुरुआत में बाकायदा अनुक्रमणिका भी होती है।

     तीर्थ पुरोहित भैय्या ने बताया कि गया में पितरों का श्राद्ध करने के लिए कभी भी कोई गया होगा तो उसकी भी इत्तिला इन पंडों के बही खातों से पलक झपकते ही मिल जाएगी। पंडा समाज में इस हाईटेक युग में भी बहियों के आगे कम्प्यूटर की बिसात कुछ भी नहीं है। यही वजह है कि पंडे अपने बहीखातों का इलेक्ट्रानिक डाकूमेंटकशन कराने को तैयार नहीं है।

उनका कहना है कि पुरोहितों की बिरादरी के बीच सूबे के जिले ही नहीं, देश के प्रांत भी एकदम व्यवस्थित ढंग से बंटे हुए हैं। अगर किसी जिले का कुछ हिस्सा अलग कर नया जिला बना दिया गया है तो भी तीर्थ यात्री के दस्तावेज मूल जिला वाले पुरोहित के नियंत्रण में ही रहते हैं।

More News
कुम्भ क्षेत्र में प्रवासी भारतीयों के आगमन पर होगा संगम सील

कुम्भ क्षेत्र में प्रवासी भारतीयों के आगमन पर होगा संगम सील

22 Jan 2019 | 12:30 PM

कुम्भ नगर, 22 जनवरी (वार्ता) कुम्भ नगरी प्रयाग में प्रवासी भारतीयों के आगमन पर संगम क्षेत्र को आम श्रद्धालुओं के स्नान के लिए लिए बन्द रखा जायेगा।

 Sharesee more..
उत्तराखण्ड और हरियाणा के मुख्यमंत्री ने कुम्भ में आकर साधु-संतो से की मुलाकात

उत्तराखण्ड और हरियाणा के मुख्यमंत्री ने कुम्भ में आकर साधु-संतो से की मुलाकात

21 Jan 2019 | 9:21 PM

कुम्भ नगर, 21 जनवरी (वार्ता) उत्तराखंड और हरियाणा के मुख्यमंत्रियों ने सोमवार को यहां कुम्भ मेले में साधु-संतों से मुलाकात की।

 Sharesee more..
पौष पूर्णिमा स्नान पर एक करोड़ सात लाख श्रद्धालुओं ने संगम में डुबकी लगाई

पौष पूर्णिमा स्नान पर एक करोड़ सात लाख श्रद्धालुओं ने संगम में डुबकी लगाई

21 Jan 2019 | 6:58 PM

कुम्भ नगर,21 जनवरी (वार्ता) दुनिया के सबसे बड़े आध्यात्मिक और सांस्कृतिक समागम कुम्भ में पौष पूर्णिमा के पवान पर्व पर सोमवार को गंगा, यमुना अौर त्रिवेणी के संगम में अस्था की डुबकी लगाई।

 Sharesee more..
संगम की रेती पर संयम,श्रद्धा एवं कायाशोधन का 'कल्पवास' शुरू

संगम की रेती पर संयम,श्रद्धा एवं कायाशोधन का 'कल्पवास' शुरू

21 Jan 2019 | 11:30 AM

इलाहाबाद, 21 जनवरी (वार्ता) कुम्भ में पौष पूर्णिमा के पावन पर्व पर श्रद्धा की डुबकी के साथ ही संयम, अहिंसा, श्रद्धा एवं कायाशोधन के लिए तीर्थराज प्रयाग में गंगा, यमुना और अदृश्य सरस्वती की रेती पर कल्पवासियों ने डेरा जमा लिया।

 Sharesee more..
कुम्भ के दौरान 22 पण्टून पुल से श्रद्धालुओं का हो रहा आवागमन

कुम्भ के दौरान 22 पण्टून पुल से श्रद्धालुओं का हो रहा आवागमन

20 Jan 2019 | 6:50 PM

प्रयागराज , 20 जनवरी (वार्ता) दुनिया के सबसे बड़े धर्मिक पर्व कुम्भ मेले में दूर दराज से आने वाले श्रद्धालुओं के आवागमन के लिए 22 पैण्टून पुल तैयार कराया गया है।

 Sharesee more..
image